मिनियापोलिस सिटी काउंसिल ने किया पुलिस विभाग खत्म, पुलिस डिफंडिंग की माँग ने पकड़ा जोर

3 min read
अमेरिका में पुलिस खत्म करने की मांग को लेकर प्रदर्शन।

अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद एंटी पुलिस ब्रूटलिटी आंदोलन में अब अमेरिका पुलिस को ‘डिफंड’ करने और ‘पीपुल बजट’ लागू करने की मांग ने जोर पकड़ लिया है। इसके साथ ही पुलिस की ज़रूरत और गैर ज़रूरत पर भी बहस तेज हो गई है।

प्रदर्शनकारी हिंसक नस्लवादी अधिकारियों को नौकरी से निकालने और उन पर आपराधिक केस दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। जन दबाव के चलते कल पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन के खिलाफ सेकंड-डिग्री हत्या का आरोप दर्ज कर लिया गया। साथ ही जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या में शामिल तीन अन्य अधिकारियों को भी आरोपित किया गया था। लेकिन मिनियापोलिस और देश भर में पुलिस के बजट में कटौती की मांग जोर पकड़ती जा रही है। 

पुलिस पर खर्च बढ़ने से काले समुदाय के लोगों की जीवन-क्षति होती है और दूसरा सार्वजनिक संसाधनों की बर्बादी होती है। पुलिस पर खर्च होने वाला प्रत्येक डॉलर स्कूलों और शहर की सेवाओं पर खर्च नहीं किया जाने वाला डॉलर है। सेंटर फॉर पॉपुलर डेमोक्रेसी की 2017 की रिपोर्ट के अनुसार मिनियापोलिस, लॉस एंजिल्स, अटलांटा, डेट्रायट, बाल्टीमोर और ह्यूस्टन जैसे बड़े शहरों ने अपने पुलिस विभागों पर अपने सामान्य फंड बजट का 25 प्रतिशत से अधिक खर्च करते हैं। जबकि शिकागो और ओकलैंड ने 40 प्रतिशत भी अधिक खर्च किए। 

बाल्टीमोर में, पुलिस पर खर्च किए जाने वाले प्रत्येक डॉलर के मुकाबले, स्कूलों पर 55 सेंट, शहर के नौकरियों के कार्यक्रमों पर 5 सेंट खर्च किए जाते हैं, जबकि मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं और हिंसा की रोकथाम पर 1 पेनी खर्च किया जाता है।

अर्बन इंस्टीट्यूट के मुताबिक साल 2017 में अमेरिकी राज्य और स्थानीय सरकारों ने पुलिसिंग पर $ 115 बिलियन खर्च किए। यदि लोगों की गिरफ्तारी के लिए लागत को भी पुलिस खर्च में जोड़ते हैं, तो पुलिस पर कुल खर्च $ 194 बिलियन निकलता है। औसतन, प्रत्येक नागरिक के लिए एक शहर पुलिस पर $ 354 खर्च करता है – जब कि डीसी या न्यूयॉर्क में ये खर्च बढ़कर $ 900 और $ 500 से ऊपर हो जाता है।

द सेंटर फॉर पॉपुलर डेमोक्रेसी द्वारा किए गए बजट रिपोर्टिंग के अनुसार, कैलिफोर्निया के ओकलैंड में 41.2 प्रतिशत शहर का खर्च पुलिसिंग पर जाता है। मिनियापोलिस में, शहर का 35.8 प्रतिशत बजट पुलिस के लिए है। अटलांटा में, 2017 के शहर के बजट में पुलिसिंग के लिए 218.3 मिलियन डॉलर का आवंटन किया गया।

1 जून, 2020 को ओक्लाहोमा सिटी के पुलिस प्रमुख ने अपने विभाग के लिए 204 मिलियन डॉलर का बजट प्रस्ताव पेश किया था।

डीसी के मेट्रोपॉलिटन पुलिस विभाग के पास अमेरिका में किसी भी विभाग का प्रति व्यक्ति बजट सबसे बड़ा है। 2018 में, विभाग को $ 509,105,108 आवंटित किया गया था।

यह केवल शहरी समस्या नहीं है। ग्रामीण कस्बे पुलिसिंग पर भी भारी खर्च कर रहे हैं। हैलिफ़ैक्स काउंटी, वर्जीनिया में, 2020 का शेरिफ कार्यालय का बजट $ 3,195,594 है, साथ ही जेल के लिए लगभग $ 3 मिलियन अलग। 

ओक लैंड अपने बजट का अधिक महत्वपूर्ण प्रतिशत अमेरिका के किसी भी अन्य शहर की तुलना में पुलिसिंग पर खर्च करता है। 2017 में, ओकलैंड ने पुलिसिंग में $ 242.5 मिलियन खर्च कर दिए।

करदाता पुलिस की बर्बरता के लिए भी भुगतान करते हैं। शहर कानूनी शुल्क और पुलिस कदाचार के मुकदमों का निपटारे के लिए लाखों डॉलर का भुगतान करते हैं, मिसाल के तौर पर शिकागो ने 2017 में 55 मिलियन डॉलर और 2018 में 113 मिलियन डॉलर खर्च किए।

पुलिस खर्च का बचाव

सोमवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पुलिस विभाग का बजट रोकने (डिफंडिंग) के प्रस्ताव को खारिज करते हुए कहा,  “हम अपनी पुलिस को धनविहीन (डिफंड) नहीं करेंगे। हम अपनी पुलिस को खत्म नहीं कर सकते हैं।” 

 जबकि उनके अटॉर्नी जनरल, विलियम पी. बर्र ने कहा कि- “पुलिस के बजट को कम करना गलत होगा क्योंकि उन्होंने महसूस किया कि देश की सार्वजनिक सुरक्षा को संरक्षित करने के लिए और अधिक पुलिसिंग की आवश्यकता है। साथ ही उन्होंने चेतावनी दिया कि यदि कोई शहर के पुलिस विभाग को खत्म करता है तो राष्ट्र को ‘अराजकता’ और ‘अधिक हत्याओं’ को देखना पड़ेगा।”

वहीं दूसरी ओर दक्षिणपंथी समुदाय और पार्टी के लोग पुलिस की ज़रूरत पर बल देते हुए पुलिस खर्च का बचाव कर रहे हैं। इसके लिए सोशल मीडिया पर तरह-तरह के प्रोपोगंडा भी चलाया जा रहा है। व्हाइट कम्युनिटी को भड़काया जा रहा है ये कहकर कि डेमोक्रेटिक पार्टी प्रदर्शनकारियों के जरिए #defundthepolice कैंपेन चलाकार अमेरिकी नागरिकों की सुरक्षा को खतरे में डालना चहती है। 

अटलांटा की मेयर कीशा लांस बॉटम्स पुलिस को डिफंड करने के लिए कॉल पर कहती हैं: “जब आप एक संदेश को सरल करते हैं, तो यह डोनाल्ड ट्रम्प के मजबूत पहलू को ही पोषित करता है।”

जनता के पैसे का इस्तेमाल जनता के खिलाफ 

पुलिस सुधार के तहत सैन्य-शैली के उपकरणों से सज्जित पुलिस उपयोग को प्रतिबंधित करने के उपाय और कदाचार के मामलों में पुलिस अधिकारियों को अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करने की आवश्यकता शामिल है। 

बता दें कि अमेरिका में हर जगह शहरों में सड़कों पर से घूमने वाले बख्तरबंद वाहनों को अमेरिकी सेना द्वारा पुलिस विभागों को उपहार में दिया गया था, 1033 कार्यक्रम को कुछ कहा जाता है। बिल क्लिंटन द्वारा अधिकृत, ओबामा द्वारा वापस लुढ़का, और फिर राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा वापस लाया गया, 1033 कार्यक्रम पुलिस विभागों को अधिशेष सैन्य गियर का अनुरोध करने की अनुमति देता है। इस उपकरण का मूल्य विस्मयकारी है – जैसा कि यह आज दिख रहा है कि इसका उपयोग उन लोगों के खिलाफ किया जाता है जिन्होंने इसके लिए भुगतान किया था।

हम भारत के संदर्भ में भी इसे देख सकते हैं। तूतीकोरिन में पर्यावरण सुरक्षा की मांग करने वाले स्थानीय नागरिकों को एसॉल्ट राइफल से शूट किया गया था जबकि गढ़चिरौली में 42 आदिवासियों को फर्जी एनकाउंटर में मारने के लिए अंडरग्रेनेड बैरल लांचर का इस्तेमाल किया गया। इसी तरह कश्मीर में नागरिकों के खिलाफ पैलेट गन का इस्तेमाल करके उनको जीवन भर के लिए अंधा कर दिया गया।  

बढ़ते जन दबाव के चलते संस्थाओं द्वारा पुलिस सेवा लेने से मनाही

मिनियापोलिस में जॉर्ज फ्लोयड की हत्या पर जनाक्रोश के चलते पुलिस सुधार की मांग ने जोर पकड़ लिया है। पुलिस व्यवस्था में सुधार की दलीलों में कई बातें शामिल हैं – पार्कों, विश्वविद्यालयों और स्कूलों ने स्थानीय पुलिस विभागों से खुद को दूर करते हुए अनुबंधों को तोड़ दिया है। कई सार्वजनिक कर्मचारियों को उनके नियोक्ताओं से पुलिस के संबंधों के बारे में फिर से सोचने के लिए मजबूर कर रही है। जैसे बस ऑपरेटरों ने पुलिस अधिकारियों या गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों को ले जाने से मना कर दिया।

मिनियासोटा यूनिवर्सिटी ने मिनियापोलिस पुलिस विभाग के साथ अपने अधिकांश कंटैक्ट को खत्म कर दिया है, जैसे कि खेलकूद और संगीत के बड़े आयोजनों के लिए उनका उपयोग नहीं करेंगे। 

वहीं मिनियापोलिस पब्लिक स्कूलों के शिक्षक संघ ने सर्वसम्मति से निर्णय लेते हुए स्कूलों में पुलिस लगाने के अपने $ 3 मिलियन के अनुबंध को रद्द कर दिया।

पीपुल बजट बनाने की मांग

देश भर में प्रदर्शनकारियों द्वारा पीपुल बजट बनाने की मांग दोहराई जा रही है। 

https://peoplesbudgetla.com/peoplesbudget/
नस्लीय न्याय समूह जैसे ब्लैक लाइव्स मैटर और ब्लैक यूथ प्रोजेक्ट तथा 100 और सामुदायिक गठबंधन वर्षों से ऐसी मांग करते आ रहे हैं, उदाहरण के लिए, ‘लास एंजेल्स पीपुल्स बजट’ न्यूयॉर्क बजट जस्टिस कैंपेन आदि।

शिकागो शिक्षक संघ ने 85 अन्य संगठनों के साथ मिलकर $ 95 मिलियन की नई पुलिस अकादमी का विरोध किया है। सामुदायिक समूहों और यूनियनों ने तर्क दिया कि पैसा सार्वजनिक आवास, पारगमन प्रणाली और स्कूलों में सहायक कर्मचारियों पर बेहतर तरीके से खर्च किया जाए। पिछले साल की हड़ताल के दौरान, शिक्षकों ने यह भी प्रस्ताव दिया था कि यदि किसी स्कूल को सौंपे गए पुलिसकर्मी हटा दिए जाएं, तो स्कूल उसके बदले किसी सामाजिक कार्यकर्ता के लिए धन का उपयोग कर सकती है। लेकिन यूनियन का ये प्रस्ताव नहीं पास हो पाया, लेकिन स्कूलों से पुलिस के हटाए जाने की मांग जारी है।

बारूद-रोधी शस्त्रसज्जित वाहनों के पीछे, सिर से लेकर पैर की अंगुली तक सुरक्षा उपकरण से लदे पुलिस अधिकारियों, और हथकड़ी लगे प्रदर्शनकारियों से भरे हुए बस और पुलिस वैन के गवाह बने देश भर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों ने सुरक्षा, रक्षा और ऑर्डर जैसी अमेरिकी प्राथमिकताओं को नंगा कर दिया है।

बेशक, सामाजिक न्याय में निवेश कभी भी दिखाई नहीं देगा – शिक्षा, दंड सुधार और सभी के लिए सस्ती स्वास्थ्य सुविधाओं को शक्ति के रूप सड़कों पर प्रदर्शित नहीं किया जा सकता है। लेकिन ये विरोध प्रदर्शन उनकी अनुपस्थिति के संकेत हैं, एक ऐसी सरकार के खिलाफ जो अपने बच्चों के लिए किताबों के बजाय अपने पुलिस अधिकारियों के लिए सैन्य हार्डवेयर में निवेश करती है। 

मिनियापोलिस पुलिस विभाग खत्म, कई राज्यों ने पुलिस बजट में कटौती का ऐलान किया 

मिनियापोलिस पुलिस विभाग को खत्म करने के समर्थन में एक रैली कर रविवार को मिनियापोलिस के पाउडरहॉर्न पार्क में कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक की। जिसमें पुलिस बल को खत्म करने और सार्वजनिक सुरक्षा को कैसे नियंत्रित करने पर चर्चा की गई। 

मिनियापोलिस सिटी काउंसिल के दो-तिहाई सदस्यों ने रविवार को पाउडरहॉर्न पार्क में “मिनियापोलिस पुलिस विभाग को समाप्त करने की प्रक्रिया शुरू करने का वादा किया।”

बता दें कि मिनियापोलिस शहर के आंकड़ों के मुताबिक पिछले पांच वर्षों में पुलिस ने काले लोगों के खिलाफ बल का इस्तेमाल गोरे लोगों की तुलना में सात गुना ज़्यादा किया है।

वहीं आज मिनियापोलिस काउंसिल प्रेसीडेंट लीसा बेंडर ने एक प्रेस ब्रीफिंग में शहर में जन सुरक्षा पर बोलते हुए कहा कि समुदाय के हर व्यक्ति को सुरक्षित रखना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। और पहले कदम के तौर पर हम ये स्वीकारते हैं कि मिनियापोलिस पुलिस विभाग ने यह नहीं कर रही थी और समुदाय के बीच से अपना विश्वास खो दिया है।

बदले हुए घटनाक्रम के तहत न्यूयॉर्क के मेयर ने देश के सबसे बड़े पुलिस बल के बजट में कटौती करने का वचन दिया। लॉस एंजिल्स में, मेयर ने अपने घर के बाहर प्रदर्शनकारियों के एकत्र होने के बाद पुलिसिंग से लाखों डॉलर कटौती करने का ऐलान किया। 

न्यूयॉर्क, मेयर बिल डी ब्लासियो ने रविवार को न्यूयॉर्क पुलिस विभाग के $ 6 बिलियन के बजट से एक अनिर्दिष्ट राशि में कटौती करने और इसे युवाओं और अन्य सामाजिक कार्यक्रमों की ओर पुनर्निर्देशित करने की कसम खाई।

इससे पहले, श्री डी ब्लासियो ने पुलिस फंडिंग में कटौती के ज्ञान के बारे में पर्याप्त संदेह व्यक्त किया था, यहां तक कि उन्होंने स्वीकार किया कि सभी एजेंसियों को कटौती का सामना करना पड़ सकता है जिससे संघीय सरकार को कोविड-19 के बाबत अधिक राहत प्रदान करने में विफल हो सकती है।

डीसी मेयर म्यूरियल बॉजर का कहना है कि जब लोग कहते हैं कि वे पुलिस को बचाना चाहते हैं, तो वह मानती हैं कि उनका मतलब सुधार और अच्छी पुलिसिंग व्यवस्था से है।

लॉस एंजिल्स में, मेयर एरिक गार्सेटी ने पिछले सप्ताह पुलिस विभाग के लगभग 2 बिलियन डॉलर के बजट से $ 150 मिलियन को स्वास्थ्य, शिक्षा और और अन्य शहर के कार्यक्रमों के लिए पुनर्निर्देशित किया। यह कदम ब्लैक लाइव्स मैटर लॉस एंजिल्स और नगर परिषद के सदस्यों के कॉल के बाद उठाया गया।

कई दिनों के विरोध प्रदर्शन के बाद पिछले हफ्ते के आखिर में, पोर्टलैंड के मेयर टेड व्हीलर ने स्कूल के रिसोर्स ऑफिसरों के पद को समाप्त करने की घोषणा की जिससे स्कूल के 1 मिलियन डॉलर की बचत होगी। 

मिनियापोलिस में सामुदायिक कार्यकर्ताओं के गठबंधन MPD150 कलेक्टिव की सदस्य अरियाना नसन ने कहा कि पुलिस को डिफंड करने और पुलिस को खत्म करने के बीच अंतर है।

वह एक ऐसे शहर की कल्पना करती है, जहाँ समुदाय समूह या ऐप-आधारित सुरक्षा समूह अपराधों से निपट सकते हैं।

कुछ लोगों की चिंता है और संभावना है कि पड़ोसी निगरानी समूह स्टीरियोटाइप हों और अलग रंग के लोगों के लिए खतरनाक हो सकते हैं। लेकिन मौजूदा प्रणाली में यह खतरा पहले से ही मौजूद है।

“यह एक बहुत विश्वास की छलांग है, “मैं मानवता में विश्वास करना चाहती हूं। मैं यह मानना चाहती हूं कि इस पल की अनुभूति अलग है क्योंकि यह अलग है।”

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

Leave a Reply