Tuesday, January 25, 2022

Add News

कोलकाता में ख़ुफ़िया विभाग के द्वारा मेरी निगरानी क्यों: रुपेश कुमार सिंह

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

(पत्रकार रूपेश कुमार सिंह अपने ईलाज के सिलसिले में झारखंड से कोलकाता गए थे। लेकिन खुफिया एजेंसियां वहां भी उनका पीछा नहीं छोड़ीं। उन्हें जब इस बात का एहसास हुआ तो उन्होंने अतिरिक्त सतर्कता बरतते हुए अपने दोस्तों को बुला लिया और सादे ड्रेस में मौजूद संबंधित पुलिसकर्मियों की उन्होंने वीडियो रिकार्डिंग शुरू कर दी। आपको बता दें कि अभी हाल में सामने आयी पेगासस की सूची में भी रूपेश का नाम शामिल था। इसके पहले उनको अवैध तरीके से यूएपीए के तहत गिरफ्तार किया गया था। जिसमें उनको जमानत मिल गयी थी। बावजूद इसके रूपेश की खुफिया एजेंसियां पीछा नहीं छोड़ रही हैं। कल की पूरी घटना का उन्होंने सिलसिलेवार ब्योरा दिया है। पेश है उनके हवाले से पूरी घटना-संपादक)  

मैं कल यानि 12 नवंबर को कोलकाता के अस्पताल में अपने पैरों के नस से सम्बंधित समस्या को दिखाने के लिए गया था, लेकिन न्यूरो सर्जन डिपार्टमेंट में मरीजों की लगी लम्बी कतार को देखकर हिम्मत हार गया। चूँकि मैंने वापसी का बस टिकट कल रात का ले लिया था, इसलिए समय बिताने के लिए बगल के विक्टोरिया मेमोरियल में 10:30 बजे चला गया। विक्टोरिया मेमोरियल में घुसते ही मुझे लगा कि कोई मेरा पीछा कर रहा है। कन्फर्म होने के लिए मैं इधर-उधर घूमने लगा, तो 2 व्यक्तियों (सिविल ड्रेस) को आगे-पीछे करते देखा।

मुझे लगा कि कहीं ये लोग अकेला देखकर मुझे फिर से गिरफ्तार ना कर ले, इसलिए मैंने कोलकाता के एक मानवाधिकार कार्यकर्त्ता को वहाँ आने को बोला। वे एक घंटे में आ गए, उन्हें मैंने सारी बात बताई। तो उन्होंने जादवपुर विश्वविद्यालय के एक छात्र को भी बुला लिया। अब हम एक से तीन हो गए थे, तो हमने भी तस्वीरें खींचनी प्रारम्भ की और उन दोनों का वीडियो भी बनाने लगे। वीडियो बनाते देख दोनों ख़ुफ़िया पुलिस भागने लगे। हमें लगा कि अब ये पीछा नहीं करेंगे।

हम लोगों ने तय किया कि झारखण्ड वापसी की बस तो रात में है, इसलिए तब तक जादवपुर विश्वविद्यालय घूमा जाये। लगभग 16 सालों बाद जादवपुर के कैंपस में गया, लेकिन पीछे-पीछे दोनों ख़ुफ़िया पुलिस भी पहुंच गयी, तब तक लगभग 2 बज चुके थे। थोड़ी देर बाद पता चला कि एक फोर व्हीलर से सात-आठ और ख़ुफ़िया के लोग गेट पर बिखरे हुए हैं, जिसमें जादवपुर विश्वविद्यालय के अंदर के भी ख़ुफ़िया विभाग के लोग शामिल थे। अब लगने लगा कि शायद फिर से एक बार मेरे खिलाफ बड़ी साजिश रची जा रही है।

जादवपुर विश्वविद्यालय के कैंटीन पर हम 3 लोग चाय पीने लगे, तब तक कई जानने वाले छात्रों (फेसबुक दोस्त) से मुलाकात हो गयी। सभी से बात करते-करते शाम के लगभग 5 बज गए, लेकिन ख़ुफ़िया पुलिस के लोग अब भी गेट पर जमे हुए थे। तब हमने एक प्रसिद्ध मानवाधिकार कार्यकर्त्ता के घर जाने का प्लान बनाया और सोचा कि अगर अब भी ये लोग नहीं हटेंगे, तो फेसबुक लाइव आकर इस अवैध निगरानी का भंडाफोड़ करेंगे। ख़ुफ़िया वालों को हमारे इरादे का पता चल गया और वे लगभग साढ़े 5 बजे वहां से हट गए। इस मानसिक तनाव के कारण मैंने रात की बस छोड़ दी और आज सुबह ट्रेन पकड़कर झारखण्ड वापस आया हूँ।

जैसा कि आप जानते हैं कि मेरे ऊपर झूठे आरोपों के तहत यूएपीए लगाकर मुझे सरकार ने 6 महीने जेल में रखा, लेकिन पुलिस चार्जशीट भी सबमिट नहीं कर सकी और मैं डिफ़ॉल्ट बेल पर बाहर आ गया। पिछले दिनों पेगासस जासूसी सॉफ्टवेयर के जरिये भी मेरी निगरानी की कोशिश की गयी, इसमें भी सरकार को कुछ नहीं मिला (इस मामले में मैंने सुप्रीम कोर्ट में रीट भी फाइल किया है)।

अब आखिर कोलकाता में ख़ुफ़िया पुलिस मेरी निगरानी कर क्या करना चाहती है?

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य ने पद्म भूषण लेने से किया इंकार

बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य ने पद्म भूषण पुरस्कार लेने से इंकार कर दिया है। गणतंत्र दिवस की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -