मेरठ यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम का भगवाकरण; योगी, जग्गी और रामदेव को पढे़ंगे छात्र

भाजपा आरएसएस की कोशिश हमेशा से ही देश की शिक्षा का भगवाकरण करने की रही है। अतः केंद्र में मोदी सरकार के 7 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में उत्तर प्रदेश की चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी मेरठ के पाठ्यक्रम का भगवाकरण कर दिया गया है।

यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, व्यापारी रामदेव और लंपट जग्गी वासुदेव को शामिल किया गया है। 

बता दें कि बोर्ड ऑफ स्टडीज के फैसले के बाद इन हस्तियों की किताबों को पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने यूनिवर्सिटी की ओर से गठित बोर्ड ऑफ स्टडीज ने नए पाठ्यक्रम को हरी झंडी दे दी है। नए पाठ्यक्रम में योगी आदित्यनाथ की हठ योग का स्वरूप व साधना पढ़ाई जाएगी। योगी की लिखी गई यह किताब गोरखनाथ ट्रस्ट की ओर से पब्लिश की गई है।

वहीं बीए दर्शनशास्त्र में रामदेव की योग साधना एवं योग चिकित्सा रहस्य पुस्तक पढ़ाई जाएगी। बीए दर्शनशास्त्र में अब योग प्रैक्टिकल और थ्योरी दोनों को शामिल किया गया है।

वहीं यूनिवर्सिटी के कंवीनर डॉ. डीएन सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी के 30 फीसदी पाठ्यक्रम में दो माइनर पेपर बनाए गए हैं। एक पेपर अप्लाइड ऐथिक्स और दूसरा अप्लाइड फिलॉसफी का रखा गया है। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रम में आईआईटियन मोटिवेशनल गुरु सदगुरु जग्गी वासुदेव की ईशा क्रिया साधना को भी रखा गया है।

इसके अलावा हिंदी साहित्य में उर्दू गीतकार कुंवर बेचैन और शायर बशीर बद्र को शामिल किया गया है। 

जबकि बीएससी के कोर्स में बदलाव किया है। अब आर्यभट्ट, भास्कराचार्य, लीलावती, रामानुजन, माधवाचार्य, स्वामी कृष्णतीर्थ जैसे भारतीय गणितज्ञों और उनके योगदान को पढ़ाया जाएगा। गौरतलब है कि अभी तक विदेशी गणितज्ञों के योगदान और उनके बारे में ही पढ़ाया जाता था। भारतीय गणितज्ञ केवल वैदिक गणित तक ही सीमित थे।

This post was last modified on May 31, 2021 9:23 pm

Share
%%footer%%