संयुक्त किसान मोर्चा ने स्टेन स्वामी को दी श्रद्धांजलि, ईंधन के दाम वृद्धि के विरुद्ध 8 जुलाई को होगा विरोध-प्रदर्शन

Estimated read time 1 min read

नई दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चा ने 2 जुलाई की बैठक में सभी इकाइयों से अपील की है कि डीजल पेट्रोल व रसोई गैस में मूल्य वृद्धि के ख़िलाफ़ विरोध कार्यक्रम आयोजित किये जाएं। 

यह विरोध कार्यक्रम 8 जुलाई को सुबह 10:00 से 12:00 बजे तक, देश भर में, सार्वजनिक स्थलों पर, रास्ता अवरुद्ध किए बिना आयोजित किया जाएगा। विरोध करने आए लोगों को अपने वाहन सड़क पर खड़े करने चाहिए, साथ में गैस के सिलेंडर सड़क पर रखने चाहिए और प्लेकार्ड व बैनर के साथ नारे लगाकर विरोध आयोजित करना चाहिए। इसमें मांग उठानी चाहिए “डीजल पेट्रोल के दाम आधे करो”, “रसोई गैस के दाम आधे करो” तथा “खेती के तीन काले कानून वापस लो” व “सभी फसलों का एमएसपी देने की कानूनी गारंटी करो”।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि 8 जुलाई के हर कार्यक्रम के प्रेस बयान जारी किए जाएं। इनमें अन्य बातों के अलावा निम्न बातों का भी उल्लेख किया जा सकता है। 

मार्च 2020 और मई 2020 के बीच केंद्र सरकार ने केंद्रीय एक्साइज ड्यूटी को पेट्रोल पर ₹13 और डीजल पर ₹16 प्रति लीटर की दर से बढ़ाया था,  जो अब तक की सबसे अधिक वृद्धि है। हम जो दाम देते हैं उसका 65 फीसदी हिस्सा सरकारी टैक्स है। इससे सभी वस्तुओं के दाम बढ़ते हैं।

21 जून 2021 को भारत ने पेट्रोल के दाम ₹99.89 प्रति लीटर थे, जबकि पाकिस्तान में यह ₹52.21, श्रीलंका में ₹68.64, नेपाल में ₹78.23 और बांग्लादेश में ₹77.92 थे।

इसकी तुलना में एयर टरबाइन फ्यूल यानी हवाई जहाज का ईंधन केवल ₹61.30 प्रति लीटर  था।

इसी तरह 28 जून 2021 को भारत में डीजल के दाम रुपए 99.30, जबकि पाकिस्तान में रुपए 53.06, श्रीलंका में 41.58, नेपाल में ₹69 और बांग्लादेश में 57.08 रुपए थे। खेती यातायात और परिवहन में डीजल ही मुख्य ईंधन है और इसके दाम बढ़ने का सबसे ज्यादा बोझ मेहनतकश जनता पर पड़ता है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने फादर स्टेन स्वामी को श्रद्धांजलि 

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा कल 6 जुलाई 2021 को विभिन्न किसान आंदोलन स्थलों पर श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गयी। गाज़ीपुर में कल फादर स्टेन स्वामी को भावभीनी श्रद्धांजलि देने के साथ संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि पूरी कानून व्यवस्था ने उनके साथ बड़ा अन्याय किया है।

कई किसान संगठनों के नेताओं ने आज मोर्चे की बैठक में फादर स्टेन स्वामी को श्रद्धांजलि दी और कहा कि झारखंड के आदिवासी लोगों के अधिकारों के लिए वे समर्पित ढंग से लड़ते रहे। उन्होंने भीमा कोरेगांव मामले में उनको फर्जी पाबंद करने की निंदा की और कहा कि उन्हें बिना कानूनी आवश्यकता के ही न्यायिक हिरासत में लंबे समय रखा गया। उन्हें चिकित्सीय सुविधाएं भी नहीं दी गई और 84 वर्ष के होने तथा कई बीमारियों से ग्रसित होने के बाद उन्हें जमानत भी नहीं दी गई। फादर स्टेन स्वामी को इस मामले में जांच के नाम पर न्यायिक हिरासत में रखा गया पर 9 महीने तक उनसे कोई पूछताछ भी नहीं की गई। वे एनआईए की यूएपीए मे उन्हे पाबंद कर जेल भेजने की योजना तथा जेल के प्रशासन की निर्दयता के कारण मारे गए।

वक्ताओं ने 8 जून 2021 को देश भर में डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस के दाम में वृद्धि के खिलाफ विरोध कार्यक्रम की भी घोषणा की। सभा को संबोधित करने वालों में डॉ आशीष मित्तल, चंद्र प्रकाश सिंह, रतन सिंह, किशन नम्बरदार, राजनेत यादव, प्रताप प्रधान आदि शामिल थे। सभा को इटावा से आए 110 वर्ष के गंधर्व सिंह यादव जी ने भी संबोधित किया। उनका जन्म 1911 में हुआ था।

(सुशील मानव जनचौक के विशेष संवाददाता हैं।)

You May Also Like

More From Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments