Sunday, December 4, 2022

अमित भादुड़ी

लहरें नहीं मानतीं शाही हुक्मनामों को

उसे हर उस चीज का बादशाह माना जाता था जिस पर उसकी नजर जाती थी। सो उस सर्वशक्तिमान बादशाह केन्यूट ने उमड़ती आ रही लहरों को हुक्म दिया कि वे पीछे लौट जाएं और उसके राजसी चरणों और...

कृषि कानूनों के चाहे-अनचाहे नतीजे

पलासी की निर्णायक लड़ाई में, जिसके बाद ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में अपने पैर जमा लिए और अपना शासन कायम कर लिया, हार लड़ाई के मैदान में नहीं, बल्कि एक सेनापति की दगाबाजी के कारण हुई। इसी तर्ज...

About Me

2 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

 मोदीराज : याराना पूंजीवाद की पराकाष्ठा

पिछले पांच वर्षों में विभिन्न कम्पनियों द्वारा बैंकों से रु. 10,09,510 करोड़ का जो ऋण लिया गया वह माफ...