Monday, December 5, 2022

आनंद दीपायन

वैचारिक अंधेरे में एक प्रकाशपुंज थे मैनेजर पांडेय

आचार्य मैनेजर पाण्डेय के दिवंगत होने की सूचना अभी-अभी साथी  आनंद तिवारी से मिली। मैंने फ़ोन पर दिल्ली से कन्फर्म किया। दुखद  सूचना सही थी। मैं उन्हें मुक़्क़मल तौर पर नहीं जानता। मैं उनका न तो शिष्य रहा और...

About Me

1 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

‘हिस्टीरिया’: जीवन से बतियाती कहानियां!

बचपन में मैंने कुएं में गिरी बाल्टियों को 'झग्गड़' से निकालते देखा है। इसे कुछ कुशल लोग ही निकाल...