Tuesday, November 29, 2022

नसीरुद्दीन शाह

इरफ़ान = अक्ल, इल्म और शुक्रगुज़ारी

"ओह, वह चला गया? अलविदा कहे बिना, वह ऐसा कैसे कर सकता था? उसने इंतजार किया होगा ” वेटिंग फॉर गोडॉट (नाटक) इरफान जिस सादगी और गौरव के साथ जीया उसी के साथ चला भी गया।  एक दिन घर लौटने पर...

About Me

1 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

कस्तूरबा नगर पर DDA की कुदृष्टि, सर्दियों में झुग्गियों पर बुलडोजर चलाने की तैयारी?

60-70 साल पहले ये जगह एक मैदान थी जिसमें जगह-जगह तालाब थे। बड़े-बड़े घास, कुँए और कीकर के पेड़...