Saturday, October 16, 2021

Add News

प्रदीप सिंह

क्या कल्याण सिंह की राह पर चल पड़े हैं योगी आदित्यनाथ

देश के सबसे बड़े प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के अंदर मचे घमासान पर देश भर की निगाहें लगी हैं। योगी मंत्रीमंडल के विस्तार और विधानसभा चुनाव-2022 की तैयारी को लेकर शुरू हुई बैठक ने सत्ता परिवर्तन का रूप ले...

भावनाओं को भड़काने में सिद्धहस्त संघ-भाजपा को नहीं है बुनियादी सवालों को हल करने का अनुभव

कोविड-19 से होने वाली मौतों का सिलसिला अभी खत्म नहीं हुआ है; यह सच है कि सरकारी आंकड़ों में कोरोना से होने वाली मौतों में गिरवाट आयी है। लेकिन देश अभी भी कोरोना के आतंक के साए में जी...

मोदी के जन्मदिन पर अकाली दल का ‘तोहफा’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शान में उनके मंत्री जब ट्विटर पर बेमन से कसीदे काढ़ रहे थे, उस समय देश में दो घटनाएं परवान चढ़ रही थीं। पहला देश भर में छात्र, युवा और किसान मोदी के जन्मदिन को...

एक बीमार समाज से स्वामी अग्निवेश का जाना

स्वामी अग्निवेश अंतत: दुनिया से कूच कर गये। स्वामी जी लंबे समय से बीमार थे और कुछ दिनों पहले उन्हें दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलेरी साइंसेज (आईएलबीएस) में भर्ती कराया गया था। पिछले डेढ़ वर्षों से आईएलबीएस...

तेलुगु श्याम राव का हरियाणवी स्वामी अग्निवेश बनना

(सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश का आज दिल्ली में निधन हो गया। लंबे समय से वह बीमार थे और कुछ दिनों पहले उन्हें दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलेयरी साइंसेज (आईएलबीएस) में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों के मुताबिक,...

प्रतिभा किसी कुल की दास नहीं होती: अल्पना मिश्र

अल्पना मिश्र को हिंदी का ‘अनकन्वेंशनल राईटर’ माना जाता है। भाषा की ताज़गी, विलक्षणता और लेखन में लोक रंग की उपस्थिति साहित्य की दुनिया में उनको एक अलग पहचान देती है। कथाकार अल्पना मिश्र से प्रदीप सिंह की बातचीत...

वाद और विचारधारा का बंदी नहीं है साहित्य: गीतांजलि श्री

गीतांजलि श्री हिन्दी की जानी-मानी कथाकार और उपन्यासकार हैं। अब तक उनके पांच उपन्यास और पांच कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं; तीन उपन्यासों का फ्रेंच में अनुवाद हुआ है। हाल ही प्रकाशित ‘रेत समाधि’ उनकी बहुचर्चित कृति है।...

मोदीराज बीजेपी का “स्वर्ण काल” नहीं “गुप्त काल” है

संसदीय लोकतंत्र में संख्या बल का बहुत महत्व होता है। लोकसभा और विधान सभा में बहुमत वाले दल की ही सरकार बनती है। संसदीय लोकतंत्र में चुनावी जीत और फिर सरकार गठन किसी भी राजनीतिक दल के विकास का...

मोदी के ‘कत्ल और कानून’ के राज में कहां खड़े हैं गांधीजन

आज महात्मा गांधी की 72वीं पुण्यतिथि है। 30 जनवरी 1948 को दिल्ली के बिड़ला हाउस में प्रार्थना सभा के लिए जाते हुए महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी। हिंदू कट्टरपंथी नाथूराम गोडसे और उसके साथियों ने गांधी...

दिल्ली चुनाव:“अरविंद केजरीवाल बनाम ऑल”

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है वैसे-वैसे राजनीतिक बयानबाजी भी जोर पकड़ रही है। दिल्ली पर देश भर की निगाहें लगी हैं। लोगों के जेहन में यह सवाल कौंध रहा है कि क्या...

About Me

लेखक डेढ़ दशक से पत्रकारिता में सक्रिय हैं और जनचौक के राजनीतिक संपादक हैं।
21 POSTS
0 COMMENTS
- Advertisement -spot_img

Latest News

जलवायु सम्मेलन से बड़ी उम्मीदें

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र का 26 वां सम्मेलन (सीओपी 26) ब्रिटेन के ग्लास्गो नगर में 31 अक्टूबर से...
- Advertisement -spot_img

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.