Estimated read time 2 min read
बीच बहस

खेल-खेल में, क्या खेल हुआ! लोकतंत्र क्या, फेल हुआ!

नौवीं बार नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने हैं। बिहार विधान सभा के अंदर सरकार में विश्वासमत के प्रति राजनीतिक आस्था के पराक्रम का प्रयास पराकाष्ठा पर [more…]

Estimated read time 5 min read
बीच बहस

रोजी-रोजगार विमुख लाभार्थी योजना कल्याणकारी नहीं है, न सेंगोल ही संवैधानिक न्याय का प्रतीक है

सत्रहवीं लोक सभा का अवसान हो चुका है। याद करें तो, जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाई जा चुकी है, उसकी राजनीतिक हैसियत भी ठीक कर [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

भारत जोड़ो न्याय यात्रा और बुलडोजर न्याय के साए में होने वाले आम चुनाव का महत्व ?

सामने है-2024 का आम चुनाव। चुनावी माहौल में चल रही है भारत जोड़ो न्याय यात्रा। अचरज की बात है, देखते-देखते बेखौफ बुलडोजर न्याय का उल्लसित [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

आलोचना की स्वतंत्रता का अवसर क्या जीवन में अवसरवाद का राज-द्वार खोल देता है?

जैसे-जैसे 2024 का आम चुनाव नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे भारत के राजनीतिक दलों की गतिविधियों में तेजी आ रही है। स्वाभाविक है कि वैचारिक [more…]

Estimated read time 3 min read
बीच बहस

आत्महंता राज्य-व्यवस्था के रौरव निकाय के शासन का सच और झूठ

गरीब को अपनी गरीबी नापने के लिए किसी इंडेक्स की जरूरत नहीं होती है। अपने सपनों के मजार पर सिर झुकाये वह रोज अपनी गरीबी [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

अनुरक्त बनो या रक्त दो, इसके अलावा कोई विकल्प नहीं

अद्भुत परिस्थिति में फंस गया है देश। लोकतंत्र का इतना बुरा हाल है कि कुछ कहते नहीं बनता है। कुछ कहना-सुनना तो तब होता है [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

यह भावुकता की फांस से बाहर निकलकर बुद्धिमत्तापूर्ण ढंग से सोचने और विवेक को आजमाने का क्षण है‎

भारत में जनवरी महान गणतंत्र, महात्मा गांधी और नेताजी सुभाषचंद्र बोस का महीना है। भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में 30 जनवरी का दिन [more…]

Estimated read time 2 min read
पहला पन्ना 

विचारधारा और भावधारा के संगम की साझी जमीन पर होता है चुनाव का संघर्ष

नीतीश कुमार अब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल हो चुके हैं। उनके लिए वे सारे खतरे खत्म हो चुके होंगे जिन खतरों की बातें [more…]

Estimated read time 2 min read
लेखक

संक्रमण की पीड़ा और अंतर्घात का आघात

अब लगभग तय हो चुका है कि इंडिया गठबंधन (I.N.D.I.A – इंडियन नेशनल डेवलेपमेंटल इनक्लुसिव अलायंस) अपना अर्थ खो चुका है या खोने के कगार [more…]

Estimated read time 2 min read
पहला पन्ना 

पांच किलो की मोटरी तले जन, भारी गठरी के तले नायक: कैसे बचेगा लोकतंत्र!

अयोध्या के राम मंदिर में भगवान राम की प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम हो चुका है। आयोजन की भव्यता और दिव्यता के राजनीतिक प्रभाव का प्रसार हो [more…]