बीच बहस

ताबूत घोटालेबाजों की नई कारस्तानी; हरिद्वार कुम्भ में कोरोना टेस्टिंग घोटाला

अजब ग़ज़ब भाजपा के घोटाले भी अजब ग़ज़ब होते हैं। कभी क़फ़न और ताबूत घोटाले में यश कमाने वाली भाजपा पर उत्तर प्रदेश में राम के नाम पर जुटाये चंदे को ऊंचे दामों में ज़मीन ख़रीदकर हेराफेरी करने का आरोप लगा है वहीं उत्तराखंड में हरिद्वार कुम्भ में कोरोना टेस्टिंग घोटाला सामने आया है। बयानों में समानता नहीं होने से मैक्स और नलवा लैब वालों को एक साथ पूछताछ की जाएगी। पूछताछ की तैयारियों को लेकर रविवार को एसआईटी के सदस्यों ने बैठक की और सवालों की लिस्ट तैयार की गई।

वहीं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कोरोना टेस्टिंग घोटाला पर आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है। 

हरिद्वार महाकुम्भ में कोरोना टेस्टिंग के नाम पर हुए महाघोटाले की उच्च स्तरीय जांच की मांग को लेकर उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह के आह्वान पर और सुमित हृदयेश के नेतृत्व में कल राज्य की भाजपा सरकार का पुतला दहन किया गया। जबकि इससे तीन दिन पहले 25 जून को हरिद्वार गंगा तट पर कांग्रेस सदस्यों ने घोटाले के विरोध में सुभाष घाट गंगा तट, हरिद्वार में उपवास किया।

उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि “जांच घोटाले में भाजपा को माफ नहीं किया जा सकता है। इस सरकार की वजह से हजारों लाखों लोग संकट में घिर गए हैं। झूठी रिपोर्ट भी कोरोना की महामारी के फैलने का मुख्य कारण है”।

उन्होंने कहा कि “हरिद्वार महाकुंभ में कोविड की फ़र्ज़ी जांच होने से देशभर में कोरोना संक्रमण फैला, हज़ारों लोगों की जानें गईं, इसलिये राज्य सरकार पर हत्या का मुकदमा दर्ज़ होना चाहिये। कोरोना टेस्टिंग घोटाला भ्रष्ट और हत्यारी भाजपा सरकार के संरक्षण में हुआ। “

मैक्स व लाल चंदानी फर्म को आमने सामने बैठायेगी SIT

हरिद्वार कुंभ में कोरोना टेस्टिंग के कथित घोटाले की जांच कर रही स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) आज सोमवार को मैक्स के पार्टनरों व लाल चंदानी लैब के संचालकों का आमना-सामना कराएगी। एसआईटी अब तक दोनों से अलग-अलग पूछताछ कर चुकी है।

गौरतलब है कि एसआईटी की टीम पिछले 10 दिनों से स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के बाद आरोपियों के बयान दर्ज करने के साथ ही पूछताछ कर रही है। सीएमओ हरिद्वार डॉ. एसके झा, मेलाधिकारी डा. अर्जुन सिंह सेंगर और कोविड सेल के नोडल प्रभारी डॉ. नरेंद्र त्यागी के 18 जून से 22 जून तक कई बार पूछताछ कर बयान लिए गए हैं।

इसके बाद 24 जून से फर्जीवाड़े के मामले में नामजद फर्म मैक्स कॉरपोरेट सर्विस के पार्टनरों, नलवा लैब हिसार के संचालक और डॉक्टर लालचंदानी लैब सेंट्रल दिल्ली के संचालकों से पूछताछ शुरू की गई है। फर्म के पार्टनरों, नलवा और लाल चंदानी लैब के संचालकों से एसआईटी व सीडीओ सौरभ गहरवार पूछताछ कर चुके हैं। एसआईटी के द्वारा मैक्स के पार्टनर शरत व मल्लिका पंत और डॉक्टर लाल चंदानी लैब के संचालकों से शनिवार को की गई पूछताछ और बयानों में विरोधाभास है।

अब आज सोमवार को लाल चंदानी लैब के संचालकों व मैक्स के पार्टनरों को बुलाया गया है। रविवार को एसआईटी कार्यालय रोशनाबाद में एसआईटी टीम के सदस्यों की कई घंटों तक आपसी बैठक चली। जिसमें आज होने वाली पूछताछ को लेकर रूपरेखा तैयार की गई। जांच अधिकारी राजेश शाह ने मीडिया को  बताया कि आज मैक्स के पार्टनरों व लाल चंदानी लैब के संचालकों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ होगी। 

स्वास्थ्य विभाग द्वारा रिजेक्ट किये जाने के बावजूद फर्म को कोरोना टेस्टिंग की अनुमति 

एसआईटी जांच में खुलासा हुआ है कि घोटाले में जिस फर्म मैक्स कॉरपोरेट सर्विस पर केस दर्ज हुआ है उसने जनवरी में जांच के लिए मेला और जिले के स्वास्थ्य विभाग से अनुमति मांगी थी। हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग ने फर्म को ठेका देने से इंकार कर दिया था। लेकिन मेला स्वास्थ्य विभाग की ओर से 26 मार्च को फर्म को अनुमति दे दी गई। इसी अनुमति के आधार पर 5 अप्रैल को हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग ने जांच के लिए फर्म को आईडी और पासवर्ड बनाकर दे दिया।

अब गंभीर सवाल खड़ा होता है कि जब हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग ने फर्म को रिजेक्ट कर दिया तो मेला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने किसके दबाव में फर्म को ठेका दिया। अभी तक हुई प्रशासन की जांच में अधिकारियों की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। जांच टीम अधिकारियों की लापरवाही भी इस मामले में देख रही है। वहीं दिसंबर 2020 में बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया था कि हरिद्वार कुंभ में आने वालों की सीमाओं पर जांच की जाएगी। इसके बाद ही हरिद्वार कुंभ में जांच के लिए लैबों ने आना शुरू किया था।  स्वास्थ्य विभाग ने फरवरी में लैबों को काम करने का ठेका दिया था। कई लैबों को इससे पहले भी अनुमति दी गई थी। मार्च में मेला स्वास्थ्य विभाग की ओर से अनुमति जारी की गई थी। 

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

This post was last modified on June 28, 2021 3:01 pm

Share
%%footer%%