Saturday, October 1, 2022

पुष्पेंद्र एनकाउंटर मामला: डीएम ने दिया पुष्पेंद्र के बड़े भाई को धमकी, कहा-पत्र लिख देंगे तो चली जाएगी नौकरी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

झांसी/नई दिल्ली। पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर मामले में प्रशासन ने पुष्पेंद्र के परिजनों की घेराबंदी शुरू कर दी है। जिले के डीएम शिव सहाय अवस्थी ने उनके बड़े भाई और सीआईएसएफ में नौकरी करने वाले रवींद्र से कहा है कि एक पत्र लिख कर दे देंगे तो नौकरी चली जाएगी। इसके पहले पुष्पेंद्र यादव की दादी ठकुरानी बिलैया का रविवार सुबह देहांत हो गया।

ईटीवी भारत के हवाले से आयी खबर में यह बताया गया है कि  डीएम का यह बयान एक वीडियो में देखा और सुना जा सकता है। जिसमें वह एसएसपी के साथ बैठे हुए हैं। इस वीडियो में उन्हें बिल्कुल साफ-साफ कहते सुना जा सकता है कि सरकारी काम में बांधा पहुंचाने का एक पत्र लिखकर दे देंगे तो उनकी नौकरी चली जाएगी। यह बात उन्होंने पुष्पेंद्र के बड़े भाई रविंद्र यादव के लिए कही है जो सीआईएसएफ दिल्ली में नौकरी करते हैं। रवींद्र यादव ने भी इस बात की पुष्टि की है।

ईटीवी भारत के साथ बातचीत में उन्होंने बताया कि वह जब अपने भाई की हत्या की जांच और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग का आवेदन देने डीएम के पास गए थे और उन्होंने जब उसकी रिसीविंग मांगी तो डीएम ने देने से इंकार कर दिया। उनके और दबाव डालने पर डीएम अवस्थी नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि अगर एक पत्र लिखकर दे देंगे तो तुम्हारी नौकरी चली जाएगी।

पुष्पेंद्र की दादी की मौत के मामले में परिवार के लोगों का कहना है कि पुष्पेंद्र के साथ हुई घटना के बाद से ही दादी ने खाना-पीना छोड़ दिया था और सदमे के कारण उनकी मौत हो गई। रवींद्र ने कहा कि अब उनके परिवार को न्याय मिलने की उम्मीद खत्म हो चुकी है। पूरे हालात से परेशान रवींद्र ने गुस्से में कहा कि हमारे पूरे परिवार का एनकाउंटर कर दो।

इस सिलसिले में रवींद्र यादव का एक वीडियो सामने आया है। वीडियो में रवींद्र को कहते सुना जा सकता है कि “मैं सैनिक हूं और देश की रक्षा करता हूं। मेरे भाई की हत्या कर दी गई है। कोई न्याय देने को तैयार नहीं है। सरकार इतनी निकम्मी है कि हमारे परिवार से कोई पूछने तक नहीं आया। पुष्पेंद्र की मौत के बाद हमारी दादी ने खाना-पीना तक छोड़ दिया था”। 

रवींद्र ने कहा कि खाना-पीना त्यागने के कारण दादीकी स्थिति इतनी ख़राब हो गई कि उनकी मौत हो गई। अब मैं और कितना भार सहूं। यह सरकार और कितने लोगोंकी जान लेगी। हम तो कहते हैं कि हमारे पूरे ही परिवार का एनकाउंटर कर दो। एक का क्यों किया। पूरा परिवार माफिया है। पूरे परिवार का एनकाउंटर कर दो। अभी दादी चली गईं। पूरा परिवार ऐसे ही प्राण त्याग देगा। भाई के अस्थि विसर्जन से पहले परिवार में दूसरी मौत हो गई।

(ईटीवी भारत से कुछ इनपुट लिए गए हैं।)



तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

सोडोमी, जबरन समलैंगिकता जेलों में व्याप्त; कैदी और क्रूर होकर जेल से बाहर आते हैं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि भारत में जेलों में अत्यधिक भीड़भाड़ है, और सोडोमी और जबरन समलैंगिकता...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -