Friday, April 19, 2024

जेएनयू के छात्रों और शिक्षकों पर विद्यार्थी परिषद के लोगों का जानलेवा हमला, छात्रसंघ अध्यक्ष आईषी घोष गंभीर रूप से घायल

नई दिल्ली। जेएनयू में छात्रों और शिक्षकों पर विद्यार्थी परिषद के लोगों ने बड़ा हमला किया है। इस हमले में जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आईषी घोष गंभीर रूप से घायल हो गयी हैं। उनके सिर में गंभीर चोट लगी है। इसके अलावा महासचिव सतीश चंद्र यादव लापता हो गए हैं। उनका कुछ पता नहीं चल पा रहा है। बताया जा रहा है कि यह हमला साबरमती ढाबा के पास किया गया है। विद्यार्थी परिषद से जुड़े गुंडों ने लाठियों और राड से छात्रों पर हमला किया है।

जेएनयू के एक छात्र रवि प्रकाश का कहना है कि जेएनयू से बाहर के विद्यार्थी परिषद के लोग कैंपस में घुस गए हैं और वो लोगों को मारपीट रहे हैं। कल से ही परिषद से जुड़े लोगों ने छात्रों को धमकाना शुरू कर दिया था।

खुशबू शर्मा ने अपनी फेसबुक वाल पर निम्न बातें लिखी हैं:

आपातकालीन!!
टी पॉइंट पर एक सार्वजनिक बैठक चल रही थी । अचानक abvp के एक बड़े समूह ने लाठियों और छड़ों के साथ आकर सभा को पीटना शुरू किया । शिक्षक उनके खिलाफ मजबूती से खड़े हुए और उनमें से कई गंभीर चोटें आई । उन्होंने भीड़ के पीछे भाग लिया और हमें पीछे किया । हमने ताप्ती छात्रावास में आश्रय लिया । सभा में पत्थर फैक रहे हैं । हम ताप्ती पर अटके हैं । पता नहीं सब बाहर क्या हो रहा है । दिल्ली और मीडिया में सिविल सोसाइटी कृपया इस का ध्यान रखें । यह एक आपातकालीन है। वे लोगों को नर्क की तरह मार रहे हैं । मुझे नहीं पता कि मेरे प्रोफेसरों को क्या हुआ है, मेरे दोस्तों । वे इंटरनेट भी काट सकते हैं ।

इस बीच एक ह्वाटसएप चैट सामने आया है जिसको देखकर लगता है कि पूरा हमला पूर्व नियोजित था। फ्रेंड्स आफ आरएसएस के नाम से बने इस ग्रुप में पूरे चैट को देखकर कोई भी समझ सकता है कि इसकी पूरी योजना पहले ही बना ली गयी थी।

https://twitter.com/jyotiyadaav/status/1213832309771628544

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।

Related Articles

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।