“इतनी डरपोक सत्ता कभी नहीं देखी”

Estimated read time 1 min read

आप एक प्रयोग कीजिये लिखिए कि ‘मैं कश्मीरी जनता के साथ हूं’

फिर देखिये भाजपा भक्त कैसे आकर आपको गालियां बकते हैं ?

वैसे यह कहते घूम रहे हैं कि इन्होनें जो किया है वह कश्मीरी जनता के भले के लिए और उनके विकास के लिए किया है

लेकिन आप जैसे ही कश्मीरी जनता के प्रति अपनी एकजुटता ज़ाहिर करेंगे ये लोग आप पर टूट पड़ेंगे

असली बात क्या है ?

असली बात यह है कि एक भाजपा नेता ने माना है कि ‘धारा 370 का हटाना और कश्मीर का राज्य का दर्ज़ा खत्म करना शेष भारत के हिन्दुओं को खुश करने के लिए किया गया है

और भाजपा सरकार के इस फैसले का कश्मीर की जनता की भलाई से कोई लेना देना नहीं है’

इसी लिए जिस कश्मीरी जनता की भलाई के फर्ज़ी दावे अमित शाह और मोदी कर रहे हैं

उस जनता को बोलने, घर से बाहर निकलने, आपस में मिलने जुलने और बात करने तक पर पाबंदी लगा दी गई है

जनता का ऐसा कठोर दमन इससे पहले किसी ने नहीं देखा था

इसका नतीजा यह हो रहा है कि मोदी और अमित शाह को यह झूठ फ़ैलाने का मौका मिल पा रहा है कि इनके फैसले से कश्मीरी बड़े खुश हैं

कश्मीर में अखबारों का प्रकाशन बंद है

कभी आपने सुना है कि किसी देश में अखबार निकालने पर पाबंदी हो ?

सुरक्षा बल का एक जवान बाइक पर जाते एक युवक को रोकते हुए।

कितना डरे हुए हैं ये दोनों सत्ताधारी ?

ये जनता के बोलने से, अखबार के निकलने से, इंटरनेट से और यहां तक कि लोगों के घर से निकलने से भी डरे हुए हैं

इतनी डरपोक सत्ता कभी नहीं देखी

गांधी कहते थे कायर हिंसक होता है और बहादुर को हिंसा करने की ज़रूरत नहीं पड़ती

सोचिये जब लोग घरों से बाहर निकलेंगे तो उनकी आवाज़ को दबाने के लिए यह सरकार जनता का कितना भयानक दमन करेगी ?

कितनी हिंसा होगी

अभी कश्मीरियों और भारत की बड़ी परीक्षा होनी बाकी है

(हिमांशु कुमार गांधीवादी कार्यकर्ता हैं और आजकल हिमाचल प्रदेश में रहते हैं।)

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours