Sunday, December 5, 2021

Add News

पत्रकार मनदीप पुनिया और धर्मेंद्र सिंह को पुलिस ने सिंघु बॉर्डर से हिरासत में लिया

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

पत्रकार मनदीप पुनिया जो कारवां पत्रिका के लिए लिखते हैं और ऑनलाइन न्यूज़ इंडिया के धर्मेद्र सिंह को दिल्ली पुलिस ने सिंघु बॉर्डर से हिरासत में ले लिया है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि ये दोनों पत्रकार वहां मौजूद पुलिसकर्मियों का वीडियो शूट कर रहे थे।

मनदीप पुनिया आंदोलन की बिल्कुल शुरुआत से यानि 26 नवंबर, 2020 से जनपथ न्यूज वेब पोर्टल के लिए किसान आंदोलन की रिपोर्टिंग और फेसबुक लाइव करते आ रहे थे।

इधर गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत के एक डेढ मिनट के आंसुओं वाले वीडियो ने सोशल मीडिया पर वायरल होकर केंद्र सरकार और यूपी सरकार के मंसूबों पर पानी फेर दिया था। उसके बाद से ही खिसियाई केंद्र सरकार ने टिकरी बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर के आस-पास 500 मीटर के दायरे में इंटरनेट सर्विस 31 जनवरी तक के लिए बंद करवा दिया है। ताकि किसान आंदोलन पर हो रहे सत्तारूढ़ पार्टी समर्थित गुंडों के हमले, सरकार के इशारे पर पुलिस प्रशासन के हमले के लाइव वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर न जा सकें। न ही राकेश टिकैत के आंसुओं वाले वीडियो वॉट्सअप पर शेयर हो सकें।

मनदीप पुनिया और धर्मेंद्र सिंह सोशल मीडिया और वेब पोर्टल मीडिया के सशक्त पत्रकार हैं और किसान आंदोलन पर लगातार रिपोर्टिंग कर रहे हैं। तो मुमकिन है कि जिस तरह से मेन स्ट्रीम मीडिया को डराने के लिए 6 पत्रकारों के खिलाफ़ केस दर्ज़ करवाया गया है उसी तरह तमाम न्यूज़ वेब पोर्टल और वेब पत्रकारों को डराने के लिए और किसान आंदोलन के पक्ष में रिपोर्टिंग करने से रोकने के लिए वेब पोर्टल के दो पत्रकारों को निशाना बनाया गया हो।

रिपोर्ट लिखे जाने तक ये पता नहीं चल पाया है कि दोनों पत्रकारों को कहां किस थाने में ले जाया गया है। सिंघु बॉर्डर के नजदीकी पुलिस थाने अलीपुर थाने में करीब दो दर्जन पत्रकार जानकारी के लिए पहुंचे तो वहां पत्रकारों को बताया गया कि इन दोनों पत्रकारों को वहां नहीं रखा गया है। स्पेशल सेल के डीसीपी ने भी इन्कार किया है कि दोनों पत्रकारों की गिरफ्तारी उनके संज्ञान में नहीं है। 

किसान मजदूर संघर्ष समिति के जनरल सेक्रेटरी श्रवण सिंह पंढेर समर्थकों के साथ अलीपुर थाने पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि मनदीप पुनिया और एक पत्रकार धर्मेंद्र सिंह को पुलिस ने उठाया है। दरअसल पुलिस एक सिविल को तकलीफ दे रहे थे उसी को उन दोनो पत्रकारों ने वीडियो शूट किया तो इससे पुलिस चिढ़ गई।
ये जब से किसान आंदोलन शुरु हुआ है पहली बार है कि पुलिस इस तरह से पत्रकार को पकड़कर ले गयी है। ये शर्मनाक और निंदनीय है। ऐसा नहीं होना चाहिये।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

नगालैंड के मोन जिले में सुरक्षाबलों ने 13 स्थानीय लोगों को मौत के घाट उतारा

नगालैंड के मोन जिले में सुरक्षाबलों ने 13 स्थानीय लोगों को मौत के घाट उतार दिया है। बचाव के लिये...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -