Friday, October 22, 2021

Add News

रायपुर में आयकर के छापों को कांग्रेस ने बताया चुनावी हार की रंजिश

ज़रूर पढ़े

राजधानी रायपुर समेत अन्य जिलों में सेंट्रल आईटी, ईडी, जीएसटी और आयकर विभाग के छापे से राज्य की सियासत गरमा गई है। एक तरफ भाजपा इसे केंद्र की कार्रवाई का नाम दे रही है, तो कांग्रेस इसे बदलापुर की राजनीति बता रही है। आयकर विभाग की कार्रवाई के खिलाफ 29 फरवरी को प्रदेश कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन किया। इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होने प्रदेश भर से कांग्रेस कार्यकर्ता गांधी मैदान में जुटे और धरना-प्रदर्शन करने के बाद आयकर कार्यालय का घेराव करने निकले। 

घेराव करने के चलते आयकर दफ्तर की सुरक्षा बढ़ा दी गई। आयकर दफ्तर जाने वाले मार्गों पर पुलिस बल तैनात कर दिया गया। छापेमारी के विरोध में आयकर दफ्तर का घेराव करने निकले कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने काली मंदिर के पास बैरिकेड लगाकर रोका। पुलिस से झड़प के बाद कार्यकर्ता बैरिकेड तोड़कर आयकर दफ्तर की ओर बढ़े। दफ्तर का घेराव करने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता वापस प्रदर्शन स्थल गांधी मैदान की ओर रवाना हो गए। 

इस प्रदर्शन में कई वरिष्ठ कांग्रेसी और पूरे प्रदेश के कांग्रेस के प्रदेश पदाधिकारी, जिला पदाधिकारी, ब्लॉक पदाधिकारी, विधायक, नगरीय निकायों में कांग्रेस के निर्वाचित जनप्रतिनिधि और त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं में कांग्रेस के निर्वाचित जनप्रतिनिधि शामिल हुए।

गांधी मैदान में आयोजित प्रदर्शन में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मोहन मरकाम ने कहा कि केंद्र सरकार लगातार छत्तीसगढ़ की सरकार को अस्थिर कर रही है, उसके विरोध में प्रदर्शन हो रहा है। 15 साल संघर्ष करने के बाद रमन सिंह सरकार को उखाड़ फेंकने में सफल हुए। छत्तीसगढ़ सरकार की लोकप्रियता बढ़ी है। भाजपा का ग्राफ लगातार गिर रहा है, इसलिए ये हथकंडा अपनाया जा रहा है। 

आयकर विभाग की तरफ से तीन दिनों से नेताओं और नौकरशाहों के घर और कार्यालय में छापेमारी की जा रही है। बीते दिन शुक्रवार को आयकर विभाग ने सीएम की डिप्टी सेक्रेटरी सौम्या चौरसिया के घर दबिश दी थी। इसके विरोध में प्रदेश कांग्रेस की ओर से रायपुर के गांधी मैदान में धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया गया है।

प्रदर्शन में पीसीसी चीफ मोहन मरकाम सहित अन्य वक्ताओं के संबोधन के बाद तमाम नेता और कार्यकर्ताओं ने आयकर कार्यालय का घेराव किया। मोहन मरकाम ने कहा कि चुनावी हार का बदला लेने के लिए केंद्र सरकार ने ऐसा किया है।

(रायपुर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

अडानी-भूपेश बघेल की मिलीभगत का एक और नमूना, कानून की धज्जियां उड़ाकर परसा कोल ब्लॉक को दी गई वन स्वीकृति

रायपुर। हसदेव अरण्य क्षेत्र में प्रस्तावित परसा ओपन कास्ट कोयला खदान परियोजना को दिनांक 21 अक्टूबर, 2021 को केन्द्रीय...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -