Saturday, May 28, 2022

activist

लखनऊ: ईलाज ने बना दिया कर्जदार, आयुष्मान कार्ड तक नहीं हुआ नसीब

लखनऊ। ठीक एक दिन पहले मेरे पास सामाजिक कार्यकर्ता कमला जी का फोन आता है,  आठ मार्च को मेरी व्यस्तता के बारे में पूछने के लिए.... अब महिला दिवस है तो शहर में कई जगह कार्यक्रम होंगे ही, मैंने...

देश के साहित्यकारों, संस्कृतिकर्मियों और बुद्धिजीवियों ने छेड़ा फासीवाद के खिलाफ अभियान

(देश के साहित्यकारों, संस्कृतिकर्मियों, लेखकों, कवियों और बुद्धिजीवियों ने एक साझा अपील जारी की है जिसमें उन्होंने मौजूदा दौर में संघ-बीजेपी सत्ता द्वारा चलाए जा रहे चौतरफा सांप्रदायिक-फासीवादी हिंसक अभियान की कड़े शब्दों में निंदा की है। इसके साथ...

दलित उत्पीड़न: सामने आया ‘देवभूमि’ का दानवी चेहरा

पिछले एक महीने में उत्तराखंड के चम्पावत जिले में दलित समुदाय के साथ हुई दो घटनाओं के बाद यह सोचने पर विवश कर दिया है कि अपने को खुले दिल दिमाग का बताने वाले उत्तराखंड के समाज में दलितों...

मुझ पर 12 बार जानलेवा हमले हुए, पर किसी हमलावर को जेल नहीं काटनी पड़ी: डॉ सुनीलम

देशभर में सत्तारूढ़ दल का विरोध कर रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं, राजनीतिक नेताओं, पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं अर्थात सार्वजनिक जीवन में सक्रिय व्यक्तियों पर आए दिन हमलों की घटनाएं अखबारों में प्रकाशित होती रहती हैं। हमलावरों को सजाएं मिलने की...

दलित नेता-आरटीआई एक्टिविस्ट केदार सिंह जिंदान हत्याकांड: अदालत ने सुनाई दोषियों को उम्र कैद की सजा

हिमाचल प्रदेश के बहुचर्चित केदार सिंह जिंदान हत्याकांड में आखिरकार 44 गवाहों की गवाही के बाद विशेष न्यायाधीश सिरमौर आरके चौधरी की अदालत ने तीन दोषियों को सजा सुना दी है। तीन साल पहले दलित नेता और आरटीआई एक्टिविस्ट...

भारत-माता का संदर्भ और नागरिक, देश तथा समाज का प्रसंग

'भारत माता की जय' भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान सबसे अधिक लगाया जाने वाला नारा था। भारत माता का उल्लेख सबसे पहले किरण चन्द्र बंदोपाध्याय के नाटक 'भारत माता' में आया था जो सन 1873 में खेला गया था।...

कोरोना के साये में जलवायु सम्मेलन में रिकार्ड भागीदारी

जलवायु सम्मेलन कोरोना महामारी की छाया से बाहर नहीं निकल पाया है। सम्मेलन स्थल के बाहर जिन लोगों की भीड़ इकट्ठा हो रही है, उनमें सम्मेलन को लेकर प्रतिवादी आवाज उठाने वाले जलवायु कार्यकर्ताओं के अलावा सम्मेलन में प्रवेश...

पूर्वांचल में बहुजन बुद्धिजीवियों-एक्टिविस्टों और नेताओं की जुटान

12 सितंबर को गोरखपुर के गोकुल अतिथि भवन में बहुजन बुद्धिजीवियों एक्टिविस्टों और नेताओं का एक महासम्मेलन रखा गया है। इस महा सम्मेलन का विषय ‘दलित, पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक भागीदारी उद्घोष सम्मेलन’ है। इस सम्मेलन में भारतीय समाज में...

समीक्षा: सामाजिक निर्माण में लगे लोगों को नई दृष्टि देगी नवप्रकाशित पुस्तक ‘जननायक डॉ. शमशेर सिंह बिष्ट’

शमशेर सिंह बिष्ट के जीवन पर लिखी इस क़िताब का उद्देश्य लोकतांत्रिक समाज के निर्माण के लिए प्रयासरत लोगों को शमशेर की कहानी बताकर सही मार्ग दिखाना है। लेखक ने इस क़िताब में शमशेर की बचपन से अंतिम दिनों तक...

आजादी के आंदोलन की सभी उपलब्धियों को पलटा जा रहा है: शैली स्मृति व्याख्यान में विक्रम सिंह

भोपाल।"मौजूदा निज़ाम अपनी नीतियों से सिर्फ आवाम की मुश्किलें ही नहीं बढ़ा रहा है, वह स्वतंत्रता आंदोलन की ढांचागत, राजनैतिक और वैचारिक हर तरह की उपलब्धियों को भी पलट रहा है।" शैलेन्द्र शैली स्मृति व्याख्यान 2021 में बोलते हुए एसएफआई...
- Advertisement -spot_img

Latest News

नॉर्थ ईस्ट डायरी: असम में दोहराई जा रही यूपी की बुल्डोजर राजनीति?

क्या उपद्रवियों को दंडित करने के लिए बुल्डोजर को नवीनतम हथियार बनाकर  असम उत्तर प्रदेश का अनुसरण कर रहा...
- Advertisement -spot_img