Thursday, February 29, 2024

पांच साल बेमिसाल: ईन्यूज़रूम ने स्वतंत्र मीडिया के तौर पर बनाई खास पहचान

शाहनवाज़ अख़्तर द्वारा बनाई संस्था ईन्यूज़रूम इंडिया ने बिना किसी राजनीतिक समर्थन, कॉर्पोरेट सहयोग और बड़ी ग्रांट्स के अब तक अपने मीडिया संस्थान को चलाया। 

ईन्यूज़रूम इंडिया (eNewsroom India) पूर्वी और मध्य भारत के टियर-2 शहरों को कवर करने वाला एक डिजिटल मीडिया संगठन है। यह अंग्रेजी और हिंदी में एक दुभाषिया समाचार पोर्टल है जो मुख्य रूप से चार भारतीय राज्यों- पश्चिम बंगाल, झारखंड, मध्य प्रदेश और राजस्थान पर केंद्रित ख़बरें करता है।

2017 में, चार पत्रकार- शाहनवाज़ अख़्तर, शबीना अख़्तर, सुचेता चक्रवर्ती और नसरीन खान ने ईन्यूज़रूम की शुरुआत की, जो पिछले कुछ वर्षों में इस क्षेत्र से संबंधित समाचारों और विचारों के एक विश्वसनीय स्रोत के रूप में उभरा है।

कोलकाता स्थित ईन्यूज़रूम ने पिछले पाँच वर्षों में क्षेत्रीय और राष्ट्रीय महत्व के कई अच्छी तरह से शोध परख लेख प्रकाशित किए हैं। 

इसकी कुछ उल्लेखनीय उपलब्धियों में झारखंड और राजस्थान में मॉब लिंचिंग, झारखंड में भूख से मौत, पश्चिम बंगाल में सीएए-एनआरसी विरोध और कार्यकर्ता स्टेन स्वामी की ‘संस्थागत हत्या’ की रिपोर्ट शामिल हैं। ईन्यूज़रूम के कोविड-19 महामारी के कवरेज ने देश में अचानक और लंबे समय तक लॉकडाउन के प्रभाव और आने वाले प्रवासी श्रम संकट पर करीब से नज़र डाली। 2018 में भारत में #MeToo (मीटू) आंदोलन के दौरान, प्रकाशन ने महिला पत्रकारों को उनके शोषक और शक्तिशाली संपादकों द्वारा किए गए उत्पीड़न की कहानियों को सामने लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

ईन्यूज़रूम के अनुभवी पत्रकारों ने पश्चिम बंगाल और झारखंड में चुनावों के दौरान बेहतरीन ग्राउंड रिपोर्ट्स की थी। अपने सीमित संसाधनों के बावजूद, ईन्यूज़रूम ने फेसबुक-ट्विटर-यूट्यूब जैसे विभिन्न प्लेटफॉर्म पर एक साथ लाइव प्रोग्राम आयोजित किए हैं।

 ईन्यूज़रूम अपने अस्तित्व के पाँच साल पूरे करने में सक्षम हुआ है तो यह कोई मामूली उपलब्धि नहीं है, यह उसने ऐसा किसी राजनीतिक दल, सरकार या निजी निगमों के संरक्षण के बिना किया है – जो देश में मीडिया संगठनों के लिए सामान्य बात नहीं। अन्य डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के विपरीत, इसे अब तक किसी संगठन से भी कोई बड़ा वित्तीय अनुदान नहीं मिला है।

संस्थापक सदस्य शाहनवाज अख़्तर का कहना ​​है कि ईन्यूज़रूम पूरी तरह से पत्रकारों द्वारा चलाया जाता है। अख्तर ने कहा, “ईन्यूज़रूम देश के उन गिने-चुने संस्थानों में से एक है, जो केवल पत्रकारों द्वारा चलाए जाते हैं।” “यहाँ आप 3,000 शब्दों तक की रिपोर्ट भी पढ़ सकते हैं, जो देश के कुछ ही मीडिया संगठनों द्वारा की जाती हैं। हमारी कहानियाँ ज्यादातर एक्सक्लूसिव होती हैं, और हम मुख्यधारा के मीडिया द्वारा बड़े पैमाने पर नजरअंदाज की गयी ख़बरों पर रिपोर्ट करते हैं।”

“ईन्यूज़रूम का टेक्स्ट और वीडियो, दोनों स्टोरीज महत्वपूर्ण होती है, इसलिए इसे सिर्फ न्यूज़ वेबसाइट या यूट्यूब चैनल नहीं समझना चाहिए,” अख़्तर ने बताया।

अख़्तर का मानना ​​है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, ऐसे में देश भर में कई छोटे स्वतंत्र मीडिया संगठनों की मौजूदगी की जरूरत है न कि कुछ निजी हाथों में मीडिया व्यवसाय का केंद्रित होना।

ईन्यूज़रूम के वित्तीय स्रोतों के बारे में अख्तर ने कहा: “हमें प्रतिदिन के कामकाज को चलाने के लिए छोटे अनुदान, छोटी सहयोग राशि और अंशदान मिलती है।”

ईन्यूज़रूम, डीजीपब न्यूज़ इंडिया फ़ाउंडेशन (DigiPub News India Foundation) का भी सदस्य है, जो भारत के केवल-डिजिटल समाचार संगठनों का एक संघ है।

एक अन्य संस्थापक, सुचेता कहती हैं, “भारत में आने वाली राजनीति और समाज को समझते हुए एक स्वतंत्र मीडिया ईन्यूज़रूम की स्थापना की गई थी। धीरे-धीरे इसने पूरे मीडिया क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। ईन्यूज़रूम ने केवल सच्चाई और सच्चाई के बारे में बात की है।”

“भारत में वर्तमान सरकारें मीडिया को नियंत्रित कर रही हैं और वो ये तय कर रही हैं की जनता को प्रसारित किया जाना चाहिए। यह प्रचार करने और लोगों का ब्रेनवॉश करने के लिए मीडिया का उपयोग एक उपकरण के रूप में कर रहा है, लेकिन ईन्यूज़रूम स्वतंत्र रूप से काम करता है। हमारे पत्रकार उन कहानियों को सामने ला रहे हैं जिन्हें बताया और पढ़ा जाना चाहिए, ”वह आगे कहती हैं। “उदाहरण के लिए, दूर-दराज के देशों में फंसे प्रवासी कामगारों की कहानियाँ और उनकी समस्याएं कुछ ऐसी हैं जो हम आम तौर पर किसी अन्य मीडिया आउटलेट में नहीं पाते हैं। लेकिन ईन्यूज़रूम ने ऐसी कई रिपोर्ट्स की हैं।”

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles