सोनी सोरी और बर्खास्त जज ग्वाल की बजाय “आप” ने आदिवासी युवा हुपेंडी को बनाया सीएम उम्मीदवार

Estimated read time 1 min read

तामेश्वर सिन्

रायपुर। दिल्ली की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में चुनाव लड़ने वाली आम आदमी पार्टी ने सोनी सोरी, प्रभाकर ग्वाल को दरकिनार कर एक आदिवासी युवा कोमल हुपेंडी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है। छत्तीसगढ़ में बीते 3 सालों से जमीन तलाश रही आम आदमी पार्टी छत्तीसगढ़ की 90 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए अपने आप को तैयार बता रही है। हालांकि यह समझने की जरूरत है कि आम आदमी पार्टी की अब भी जमीनी पकड़ दूर है। बहरहाल यह कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी के खिलाफ हल्ला बोलने वाली आम आदमी पार्टी कहीं कांग्रेस के लिए घातक न बन जाए?

विदित हो कि “आप” के पास दमदार सीएम उम्मीदवार के रूप में आदिवासी नेत्री सोनी सोरी एक मजबूत प्रत्याशी के रूप में खड़ी थीं। “आप” के पास दूसरे विकल्प के तौर पर बर्खास्त मजिस्ट्रेट प्रभाकर ग्वाल भी थे जो सीएम उम्मीदवार के लिए बेहतर चेहरे साबित हो सकते थे। लेकिन पार्टी ने दोनों दमदार नेताओं को दरकिनार कर कोमल हुपेंडी को छत्तीसगढ़ में सीएम प्रत्याशी बनाया है । 

हालांकि “आप” ने 37 वर्ष के युवक कोमल हुपेंडी को मुख्यमंत्री पद के दावेदार के तौर पर पेश कर अन्य राजनीतिक दलों को चौंका दिया है। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में पहली बार किस्मत आजमा रही आम आदमी पार्टी ने आदिवासी समाज के युवक को मुख्यमंत्री पद का दावेदार बनाया है। पार्टी इसके जरिए आदिवासी बाहुल्य छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जनजाति के वोटों में सेंध लगाने की कोशिश में है। लेकिन पार्टी भूल रही है सोनी सोरी, प्रभाकर ग्वाल जैसे चर्चित चेहरों को इन्होंने पीछे धकेल दिया है ।

आप को यह भी बताते चलें कि आम आदमी पार्टी छत्तीसगढ़ में बीजेपी के खिलाफ जरूर हल्ला बोल रही है लेकिन वोट काटने का काम वो कांग्रेस का करेगी। बीजेपी को “आप” से कोई ज्यादा नुकसान होता नहीं दिख रहा है । 

पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने बुधवार को यहां बताया कि हुपेंडी राज्य में मुख्यमंत्री पद के सबसे युवा उम्मीदवार हैं। इतिहास में एमए तक पढ़ाई करने वाले हुपेंडी वर्ष 2005 बैच में सहकारिता विस्तार अधिकारी के पद पर भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। राय ने बताया कि हुपेंडी ने वर्ष 2016 में सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे दिया था और आम आदमी पार्टी के सदस्य बन गए थे।

छत्तीसगढ़ आप संयोजक संकेत ठाकुर ने जनचौक को बताया कि प्रदेश में 21 लाख से ज्यादा युवा बेरोजगार हैं, कोमल हुपेंडी एक युवा नेतृत्व की क्षमता रखते हैं, बेदाग युवा नेतृत्वकर्ता हैं । इसीलिए सीएम पद के उम्मीदवार के रूप में उन्हें सामने रखा गया है । हालांकि सोनी सोरी को सीएम पद का उम्मीदवार नहीं बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने पल्ला झाड़ लिया ।

संकेत ठाकुर ने आगे कहा कि हमारी जमीनी पकड़ अच्छी है हम जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं, और छत्तीसगढ़ में सीट भी लाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि हमारी लड़ाई बीजेपी की सरकार से है । कांग्रेस एक अच्छे विपक्ष की भूमिका नहीं निभा पाई है । पूर्व निलंबित जज और “आप” नेता प्रभाकर ग्वाल से बात करने पर उन्होंने कहा कि मैंने सीएम पद की उम्मीदवारी रखी ही नहीं थी । पार्टी का फैसला है कोमल हुपेंडी सीएम पद के उम्मीदवार हों। 

आने वाले चुनाव में आम आदमी पार्टी का यह दाव क्या रंग लाता है ये तो वक्त ही बताएगा। बरहाल सोनी जैसी प्रभावशाली नेता को दरकिनार करने को लेकर प्रदेश में चर्चा आम है।

You May Also Like

More From Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments