Wednesday, December 1, 2021

Add News

लापरवाही

कोरोना की दूसरी लहर के घातक दुष्परिणाम की जिम्मेदारी कौन लेगा सरकार!

अब जब सुप्रीम कोर्ट सहित अन्य हाई कोर्ट में इस आपदा पर हंगामा मचा तो अदालत में सरकार ने कहा कि उसे दूसरी लहर की भयावहता का अंदाज़ा नहीं था। पर द प्रिंट ने इस पर एक विस्तार से...

लापरवाही के लिए चुनाव आयोग की जिम्मेदारी क्यों न हो तय?

चुनाव आयोग को यह बताना चाहिए कि किन कारणों से उसने बंगाल के विधानसभा चुनाव को आठ चरणों तक खींचा है? जब पूरे देश का चुनाव, सात चरणों में कराया जा सकता है, केरल, तमिलनाडु,  पुद्दुचेरी और असम के...

महाराष्ट्र में आग के रूप में आई मौत, 13 कोविड मरीजों का दर्दनाक अंत

यह सिस्टम की ही नाकामी है कि मौत हर तरफ से बरस रही है। कहीं इलाज न मिल पाने से लोग मर रहे हैं तो कहीं अस्पताल के आईसीयू में ऑक्सीजन की सप्लाई रुक जाने से। आज महाराष्ट्र के...

झारखंडः आदिवासी महिला के प्रसव में लापरवाही मामले में एनएचआरसी ने दुमका डीसी से मांगी रिपोर्ट

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने 2 मार्च, 2021 को झारखंड के दुमका जिला के डीसी (उपायुक्त) से प्रसव कराने दुमका सदर अस्पताल में आई आदिवासी महिला कालीदासी मरांडी को एनेस्थीसिया के विशेषज्ञ चिकित्सक न होने के कारण दूसरे अस्पताल में...

चमोली आपदाः एनटीपीसी ने नहीं किए थे सुरक्षा इंतजाम, एफआईआर दर्ज कराने के लिए भाकपा माले आई आगे

भाकपा माले ने कहा है कि चमोली में आई आपदा मामले में एनटीपीसी ने मजदूरों की सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए थे। न कोई सायन की व्यवस्था थी, न मजदूरों के लिए रस्से तक लगाए गए थे, ताकि आपदा...

इलाहाबाद हाई कोर्ट सोशल डिस्टेंसिंग पर सख्त, कहा- सरकार और लोगों की नियमों के पालन में रुचि नहीं

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के पालन में शासन की लापरवाही को गंभीरता से लिया है। अदालत ने सख्त लहजे में चेतावनी दी है कि यदि शासन की सोशल डिस्टेंसिंग के...

एसीसी सीमेंट प्लांट में स्लैग से दब कर मजदूर की मौत, शव गेट पर रखकर दिया धरना

झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिला के झींकपानी प्रखंड मुख्यालय स्थित एसीसी सीमेंट प्लांट में काम के दौरान ठेका मजदूर की मौत हो गई। 54 साल के सुकरा गोप स्लैग से दब गए। यह हादसा तीन अगस्त की सुबह हुआ। सुकरा...
- Advertisement -spot_img

Latest News

एड्स दिवस: जब एचआईवी पोज़िटिव लोग सामान्य ज़िंदगी जी सकते हैं तो फिर 2020 में एड्स से 680,000 मौतें क्यों?

"जब वैज्ञानिक उपलब्धियों के कारण और सामुदायिक अनुभव से हम यह जानते हैं कि एचआईवी के साथ जीवित व्यक्ति...
- Advertisement -spot_img