Sunday, December 4, 2022

aaj

नेहरू से आरएसएस-बीजेपी का तो ठीक है लेकिन ‘आज तक’ को क्यों है एलर्जी?

आज तक की श्वेता सिंह आप को याद है, वही एंकर जिसने भारतीय मुद्रा 2000 रुपए के नोट को लेकर एक अफवाह फैलाई थी कि उसमें एक इलेक्ट्रॉनिक चिप है जो नोट लोकेशन बता देगी ? होना तो यह...

मुझे सरकार से धोखा मिला: आज अखबार के दिवंगत मालिक की पत्नी अंजली

वाराणसी। जिस सरकार को हम-आप विकल्प के तौर पर चुनते हैं वो सरकार हमारे सारे विकल्पों पर विकल्पहीन क्यों हो जाती है? कोरोना काल लोगों के लिए कष्टकाल बन गया है। जान लेवा कोरोना से कहीं ज्यादा जानलेवा ये...

आज के दिवंगत मालिक शाश्वत की पत्नी ने पीएम को दोबारा लिखा पत्र, कहा-मोदी जी मुझे बीमार न्याय नहीं, न्याय चाहिए

वाराणसी। कोरोना काल में हुई पति की असामयिक मृत्यु को चिकित्सकीय हत्या करार देने वाली आज समाचार पत्र समूह के निदेशक शाश्वत विक्रम गुप्त की जीवन संगिनी अंजलि गुप्ता ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी...

वाराणसी: डॉक्टरों की लापरवाही से हुई थी आज अखबार के मालिक की मौत, पत्नी ने पीएम को पत्र लिखकर मांगा इंसाफ

वाराणसी। अपने ही समाचार पत्र समूह के निदेशक के असामयिक निधन के पीछे की खबर को गुम करते हुए उनके निधन की खबर और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शोक संदेश को छाप कर भले ही 100 साल पुराने हिंदी...

आज तक, जी न्यूज, न्यूज़ 24 और इंडिया टीवी फिर दंडित! NBSA ने कहा- सुशांत केस में मांगो माफी

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट से फटकार खाने के बाद अब नेशनल ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (एनबीएसए) ने भी सख्त कदम उठाते हुए आज तक, ज़ी न्यूज़, न्यूज़ 24 और इंडिया टीवी को...

सुप्रीम फटकार के बाद नींद से जागा एनबीएसए, सुशांत मामले में ‘आज तक’ समेत कई चैनलों पर लगाया जुर्माना

सुदर्शन न्यूज टीवी के विवादास्पद शो के खिलाफ मामले की सुनवाई के दौरान उच्चतम न्यायालय की फटकार के बाद न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (एनबीएसए) की तन्द्रा टूटी है और एनबीएसए ने इलेक्ट्रॉनिक समाचार चैनल आजतक, जी न्यूज, न्यूज 24 और इंडिया टीवी को...

चित्रकूट में यौन शोषण: बच्चियों के बलात्कार का विरोध सरकार का विरोध क्यों है?

बलात्कार का विरोध करना भी अब सरकार का विरोध करना हो गया है? बलात्कारी का विरोध करना भाजपा का विरोध हो गया है? आखिर क्या वजह है कि चित्रकूट में कोल जनजाति समुदाय की बच्चियों का खनन माफियाओं और...
- Advertisement -spot_img

Latest News

 मोदीराज : याराना पूंजीवाद की पराकाष्ठा

पिछले पांच वर्षों में विभिन्न कम्पनियों द्वारा बैंकों से रु. 10,09,510 करोड़ का जो ऋण लिया गया वह माफ...
- Advertisement -spot_img