Sunday, December 4, 2022

alternative

संघ-भाजपा के सर्वसत्तावाद के विरूद्ध वैकल्पिक-राजनीति किधर है?

भारतीय़ जनता पार्टी और आरएसएस का सर्वसत्तावाद सन् 2022 में अपने विराट रूप में सामने आया है। यूपी सहित चार राज्यों के चुनाव में कामयाबी हासिल करने के बाद केंद्रीय सत्ता पहले से भी ज्यादा आक्रामक नजर आ रही...

केजरीवाल नहीं हो सकते मोदी का विकल्प

पांच राज्यों के हालिया विधानसभा चुनाव नतीजों से जो दो विजेता उभरे वे हैं बीजेपी और आप। इसके बाद यह धारणा और मजबूत हुई कि बीजेपी का विकल्प आम आदमी पार्टी ही हो सकती है। खुद आम आदमी पार्टी...

घोड़े की गर्दन पर किसानों की गिरफ्त!

प्रत्येक व्यवस्था की अपनी अन्तर्निहित गतिकी (डाइनामिक्स) होती है, जिसके सहारे वह अपना बचाव और मजबूती करते हुए आगे बढ़ती है। भारत में निजीकरण-निगमीकरण के ज़रिये आगे बढ़ने वाली नवउदारवादी/वित्त पूंजीवादी व्यवस्था, जिसे नव-साम्राज्यवाद की परिघटना से जोड़ा जाता...

मीडिया सुधार के सिलसिले में एक सरोकारी पत्रकार की चिट्ठी

Media, letter, journalist, broker, truth, alternative, (इस समय मीडिया की स्थिति को लेकर बहुत सारे लोग बेहद चिंतित हैं। और यह चिंता समाज के हर उस तबके में है जो न्याय, सत्य और सरोकार में विश्वास करता है। लेकिन इसकी...

डॉ. सुनीलम के हवाले से: समाजवादी चिंतक किशन पटनायक के किस्से, पत्नी वाणी की जुबानी

कल यानी 30 जून के ही दिन 1930 में समाजवादी चिंतक एवं पूर्व सांसद किशन पटनायक जी का जन्म ओडिशा के भवानी पटना में हुआ था। देश ने किशन पटनायक जी को प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के सम्बलपुर के सबसे युवा सांसद के तौर पर...
- Advertisement -spot_img

Latest News

 मोदीराज : याराना पूंजीवाद की पराकाष्ठा

पिछले पांच वर्षों में विभिन्न कम्पनियों द्वारा बैंकों से रु. 10,09,510 करोड़ का जो ऋण लिया गया वह माफ...
- Advertisement -spot_img