Tuesday, January 18, 2022

Add News

Comrade

सफदर स्मृति दिवस: ‘लड़ें तो जीत भी सकते हैं, ना लड़ें तो हार तय है’!

हम सब कॉमरेड सफदर हाशमी के पार्थिव शरीर की अंत्येष्टि के लिए दिल्ली में यमुना तट पर निगमबोध घाट के इलेक्ट्रिक क्रिमेटोरियम ले जाने के लिए विट्ठल भाई पटेल (वीपी) हाउस परिसर से रवाना होने वाले थे। मैं उस...

बेटे और पति ने मुझे जीना सिखाया: आरके की पत्नी कंदुला शिरिषा

(माओइस्ट पार्टी केन्द्रीय कमेटी सदस्य आरके (अक्कीराजू हरगोपाल) की पत्नी कंदुला शिरिषा कहती हैं कि ‘‘मेरे पति और बेटे की मौत एक महान आंदोलन में हुई, उन्होंने अपनी जान दी है, इसलिए मुझे किसी दया या सहानुभूति की जरूरत...

टूट गयी माले में नक्सलबाड़ी की आखिरी कड़ी, नहीं रहे कॉमरेड बीबी पांडे

हल्द्वानी। अल्मोड़ा (पटिया कबाड़खाना) में जन्मे कॉमरेड बृज बिहारी पांडे का आज पटना में निधन हो गया। वे 76 वर्ष के थे। अपने समय के सर्वश्रेष्ठ रिजनल इंजीनियरिंग कॉलेज, दुर्गापुर के प्रतिभावान छात्र के रूप में वह नक्सलबाड़ी आंदोलन से...

सीपी-संस्मरण: महेंद्र सिंह-आप नहीं रहे इसका गम है; पर जारी रहेगी आपकी लड़ाई

वयोवृद्ध कामरेड और मजदूर आंदोलन की बड़ी जमीन मुंबई में श्रमिकों के कई दशक अगुआ साथी रहे कामरेड महेंद्र सिंह भी कोरोना कोविड 19 महामारी के शिकार हो गए। वे 77 बरस के थे। वे इस महामारी से भी...

जयंती पर विशेष: हिन्दू-मुस्लिम एकता और आज़ादी के नायक- मौलाना मोहम्मद अली जौहर

दौर-ए-हयात आएगा क़ातिल क़ज़ा के बादहै इब्तिदा हमारी तिरी इंतिहा के बादमौलाना मोहम्मद अली जौहर को मोहम्मद अली के नाम से भी जाना जाता है, जो स्वतंत्रता के भावुक सेनानियों में थे। वह एक बहुमुखी प्रतिभा के व्यक्ति थे...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पुस्तक समीक्षा: सर सैयद को समझने की नई दृष्टि देती है ‘सर सैयद अहमद खान: रीजन, रिलीजन एंड नेशन’

19वीं सदी के सुधारकों में, सर सैयद अहमद खान (1817-1898) कई कारणों से असाधारण हैं। फिर भी, अब तक,...
- Advertisement -spot_img