Friday, July 1, 2022

first

पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने नहीं दिया 40 फीसद सीट महिलाओं को, अभी तक 8 टिकट

यूपी में लगभग तीन दशक से सत्ता से दूर बैठी देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए अपने 125 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। अपने वादे के अनुरूप महिला...

कैबिनेट में 70 प्रतिशत महिलाओं को प्रतिनिधित्व देने वाला दुनिया का पहला देश बना अल्बानिया

शुक्रवार को अल्बानिया की संसद ने विश्व की पहली महिला प्रधान कैबिनेट को मंजूरी दे दी है। अल्बानिया की 17 सदस्यीय कैबिनेट में 12 महिलायें हैं। इस तरह अल्बानियाई संसद में 71 प्रतिशत महिलाओं को प्रतिनिधित्व देने के मामले...

सिंघु बॉर्डर पर जो मैंने देखा

दोस्तों, कल 26 जनवरी को लाल किले और आईटीओ पर घटित घटना चर्चे में है। और उसको लेकर हर कोई बात कर रहा है। लेकिन यह सब कुछ अचानक नहीं हो गया। बल्कि इसकी एक पृष्ठभूमि है जिसका मैं खुद...

काश, हमारा प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सफल हुआ होता !

1857 के characterisation पर और चाहे जो भी बहसें हों, यह तो निर्विवाद है कि यह अंग्रेजों के खिलाफ हिंदुस्तानियों की लड़ाई थी, मजहब की सीमाओं के पार। गंगा-जमनी तहज़ीब की बुनियाद पर लड़ी गई, साझी शहादत की वह...

आज के अमीरों के पुरखों ने ही 1857 में की थी देश के साथ ग़द्दारी!

आज 10 मई 2020, प्रथम भारतीय सवतंत्रता संग्राम 1857 की 163वी जयंती है। सरकार की नीतियों की वजह से, भारत में कोरोना संकट अमीर बनाम गरीब, गांव बनाम शहर आधारित सत्ता के संघर्ष मे बदल गया है। अमीरों को...

गांधी जी को नहीं हुआ था ‘स्पानी फ्लू’

सन 1918 में महात्मा गांधी बहुत बीमार थे। मरते-मरते बचे थे। ऐसा उनके जीवन में कई बार हुआ था। लेकिन आम धारणा के विपरीत उन्हें पूरी दुनिया में विश्व युद्ध से ज्यादा तबाही मचाने वाली फ्लू की महामारी ने...

कैमरे में हिमा दास का इतिहास है, उसकी जीत के क्षणों की रिकार्डिंग नहीं

6 मिनट के वीडियो में हिमा दास चार नंबर की लेन पर तैनात हैं। फायर होती है। कैमरा स्टेडियम के मैदान की तरफ से धावकों को दिखाता है। हिमा दास काफी देर तक दौड़ में पांचवें नंबर पर होती हैं। अचानक...
- Advertisement -spot_img

Latest News

ग्राउंड रिपोर्ट : नाम, नमक और निशान पाने के लिए तप रहे बनारसी नौजवानों के उम्मीदों पर अग्निवीर स्कीम ने फेरा पानी 

वाराणसी। यूपी और बिहार में आज भी किसान और मध्यम वर्गीय परिवार के बच्चे किशोरावस्था में कदम रखते ही...
- Advertisement -spot_img