Thursday, February 22, 2024

neeraj

पुण्यतिथि पर विशेष: ‘नीरज’ तो कल यहां न होगा, लेकिन उसका गीत-विधान रहेगा

‘‘कहानी बन कर जिए हैं इस जमाने में/सदियां लग जाएंगी हमें भुलाने में/आज भी होती है दुनिया पागल/जाने क्या बात है नीरज के गुनगुनाने में।’’ इन बेमिसाल पंक्तियों के गीतकार, कवि गोपाल दास ‘नीरज‘ उस कवि सम्मेलन परम्परा के...

कैलाश सत्‍यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन से जुड़े नीरज मुर्मू को ब्रिटेन का प्रतिष्ठित डायना अवार्ड सम्मान

कैलाश सत्‍यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन (केएससीएफ)  द्वारा संचालित गिरिडीह जिले के दुलियाकरम बाल मित्र ग्राम के पूर्व बाल मजदूर 21 वर्षीय नीरज मुर्मू को गरीब और हाशिए के बच्‍चों को शिक्षित करने के लिए ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से...

Latest News

ग्राउंड रिपोर्ट: जागरूकता से कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है

"मुझे करीब पांच साल पहले गले के कैंसर के बारे में पता चला। पहले मुझे कान के पास एक छोटी...