Friday, October 22, 2021

Add News

nefa

उपन्यास ‘एक गधा नेफा में’: सरहदें खींचना आसान, सरहदें मिटाना-मिलाना सबसे मुश्किल

कृश्न चंदर एक बेहतरीन अफसानानिगार के अलावा एक बेदार दानिश्वर भी थे। मुल्क के हालात-ए-हाजरा पर हमेशा उनकी गहरी नज़र रहती थी। यही वजह है कि उनके अदब में मुल्क के अहम वाकये और घटनाक्रम भी जाने-अनजाने आ जाते...
- Advertisement -spot_img

Latest News

जहीर भाई, एक बनारस जो उनके साथ चला गया

जहीर भाई नहीं रहे। उनके साथ एक बनारस चला गया शायर पिता नज़ीर बनारसी ने जिस हिन्दुस्तान की तामीर...
- Advertisement -spot_img