Saturday, October 23, 2021

Add News

pmo

लोग कोरोना से मर रहे थे और मोदी सरकार के मंत्री संपत्ति ख़रीद रहे थे

कोरोनाकाल के पहले चरण की शुरुआत अप्रैल 2020 से शुरु होती है। जबकि कोरोना के दूसरे चरण अप्रैल 2021 में लोग बाग ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी से बेमौत मरने को अभिशप्त थे। मरीजों की छंटनी के लिये प्राइवेट...

कोविड-19 की दूसरी लहर इतनी विनाशक नहीं होती यदि…

लेख- डॉ. राजू पाण्डेय क्या सरकार को कोविड-19 की इस विनाशक दूसरी लहर की पूर्व सूचना थी? यह प्रश्न अब भी अनुत्तरित है। पिछले कुछ दिनों से मीडिया के एक वर्ग द्वारा इस प्रश्न को यह कहते हुए महत्वहीन बनाया...

क्योंकि मोदी जी को लोगों की जिंदगियों से ज्यादा अपनी सत्ता प्यारी है!

मोदी जी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में फंड के तीन संभावित स्रोत हैं। पीएम केयर्स, राज्यों को मिलने वाली जीएसटी का हिस्सा और अलग से घोषित कोई पैकेज। अब आइये बारी-बारी से इन तीनों पर बात करते हैं। आपने...

अर्णब के चैट से बेपर्दा हुआ सरकार और मीडिया के बीच का रिश्ता

रिपब्लिक टीवी संस्थापक मालिक व गोदी मीडिया के आधार स्तंभ अर्णब गोस्वामी का वाट्सअप चैट लीक होने के साथ ही मोदी सरकार भी नंगी हो गई है। अर्णब गोस्वामी के 512 पन्नों के वॉट्सअप चैट से ये साबित हो...

पीएमओ की सफाई पर विपक्ष की कड़ी प्रतिक्रिया; कहा- बयान उलझाने वाला, स्थिति स्पष्ट करे सरकार

नई दिल्ली। केंद्र सरकार चीनी मसले पर दिए गए अपने ही बयानों पर फंसती जा रही है। पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने माना था कि चीनी घुसपैठ हुई है और बड़ी संख्या में चीनी सैनिक भारतीय क्षेत्र में घुस...

भारत-चीन सीमा झड़प: पीएमओ की सफाई पर भी सफाई की जरूरत

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री के बयान पर PMO की  सफाई/व्याख्या ने जितना सुलझाया उससे ज्यादा उलझा दिया। अब उस सफाई पर सफाई की जरूरत ! उस दिन प्रधानमंत्री ने कहा था, " हमारी जमीन पर न कोई घुसा, न घुसा हुआ है" अपनी...

एयरपोर्ट्स पर थर्मल स्कैनिंग में बरती गयी लापरवाही का नतीजा भुगत रहा है पूरा देश

भारत मे कोरोना को आने से सिर्फ और सिर्फ एक ही सूरत में रोका जा सकता था और वो था सभी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों पर विदेश से आने वाले यात्रियों की ठीक तरह से जाँच। और यदि कोई बीमार...

तैयार हो गया रेलवे के निजीकरण का ब्लूप्रिंट, पीएमओ ने सौंपा रेल विभाग को “100 डे प्लान”

आधुनिकीकरण के बहाने मोदी सरकार ने देश की रेल सेवाओं के निजीकरण की शुरुआत कर दी है। और इसके लिए उसने सबसे पहले पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप का रास्ता चुना है। इसकी पृष्ठभूमि हाल में संसद में पेश निर्मला सीतारमण के बजट में...
- Advertisement -spot_img

Latest News

ममता के निशाने पर मोदी के बजाय राहुल

रुख से नकाब उतरता जाए आहिस्ता आहिस्ता। कुछ ऐसा ही सियासत में भी होता है। कभी गोविंदाचार्य ने कहा...
- Advertisement -spot_img