Sunday, October 24, 2021

Add News

ravidas

ब्राह्मणवादी ढांचे को विखंडित करते हैं रैदास

किसी समुदाय के व्यक्ति, विचार, भाषा व नायक पर हमला निंदनीय होते हुए भी इस मायने में अपनी सार्थकता छोड़ जाता है कि वो एक कारण प्रदान करता है सुप्त सामूहिक चेतना व प्रतिरोध को जगाने का, अपने वर्ग...

जयंती पर विशेष: संत रविदास की दार्शनिक चेतना

दर्शन अपने आप में अति व्यापक और गूढ़ शब्द है। दुनिया भर में दर्शन और फिलॉस्फी को अपने-अपने ढंग से व्याख्यायित किया गया है। आमतौर पर दर्शन को सत्य को जानने की कला के रूप में परिभाषित किया जाता...

जयंती पर विशेष: तत्वदर्शी संत रविदास, यानी एक समाज वैज्ञानिक रविदास

मनुष्य जब गहरी चिंतन-प्रक्रिया से गुज़रते हुए चेतना के साथ उच्चतर होता जाता है, तब उसकी आत्मा, उस परम सत्य का अहसास करती है, जिससे पूरी प्रकृति सृजित हुई है, तो वह प्रकृति के कण-कण के साथ आंदोलित हो...

तुगलकाबाद स्थित रविदास आश्रम तोड़े जाने का विरोध कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज, कई गिरफ्तार

नई दिल्ली। तुगलकाबाद में करीब 600 साल पुराने गुरु रविदास आश्रम तोड़े जाने के खिलाफ दिल्ली सहित पूरे देश में बहुजन समाज के भीतर जबर्दस्त विक्षोभ है। गुरु स्थान के तोड़े जाने के प्रतिवाद स्वरुप दिल्ली के बहुजन समाज के लोगों ने बड़ी...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कोविड काल के दौरान बच्चों में सीखने की प्रवृत्ति का हुआ बड़े स्तर पर ह्रास

कोविड काल में बच्चों में सीखने की प्रवृत्ति का काफी बड़ा नुकसान हुआ है। इसका खुलासा ज्ञान विज्ञान समिति...
- Advertisement -spot_img