Sunday, October 24, 2021

Add News

subhash

अफगान त्रासदी और हमारे लिए उसका सबक!

काबुलीवाला, कहानी पढ़ी थी। तब तक अफगानिस्तान या किसी और मुल्क की परिकल्पना दिमाग में नहीं थी। उस कहानी ने एक पिता की जो अपने मुल्क और परिवार से हजारों मील दूर था उसके दिल में अपनी बेटी के...

नेताजी पर कब्ज़ा ज़माने की हिन्दू राष्ट्रवादी कवायद

नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती (23 जनवरी) के अवसर पर देश भर में अनेक आयोजन हुए। राष्ट्रपति भवन में उनके तैल चित्र का अनावरण किया गया। केंद्र सरकार ने घोषणा की कि नेताजी का जन्मदिन हर वर्ष 'पराक्रम...

भारत छोड़ो आंदोलन: ग्वालिया में जब गूंजी अंग्रेजों के खिलाफ खड्गधारी की आवाज़

आज ही के दिन 8 अगस्त 1942 को बम्बई के ग्वालिया टैंक मैदान जिसे अब अगस्त क्रांति मैदान कहा जाता है, में भारत छोड़ो आंदोलन की पूर्व संध्या पर गांधी जी ने एक ऐतिहासिक भाषण दिया था। जिसका टेक्स्ट...

हिंदुत्व टोली ने किस तरह नेताजी के साथ ग़द्दारी की

आरएसएस/भाजपा शासक आजकल भारतीय स्वतंत्रा संग्राम के महानतम नेताओं में से एक शहीद नेताजी सुभाष चंद्र बोस से बहुत नज़दीकी जता रहे हैं। इस से ज़्यादा शर्मनाक हरकत कोई और नहीं हो सकती। आईए हम हिंदुत्व टोली के शर्मनाक...

नेताजी सुभाष चंद्र बोस : राजनेता और विचारक

आज़ादी के बाद के दशकों में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की एक रूढ़ छवि गढ़ दी गई। एक सेनानायक की छवि। सैनिक वेश-भूषा में, बूट पहने, सावधान की मुद्रा में खड़े, सुभाष चंद्र बोस की छवि। यह छवि किसने...

मोदी सरकार की असलियत को उघाड़ कर रख देती है सुभाष गाताडे की किताब ‘मोदीनामा : हिंदुत्व का उन्माद’

सुभाष गाताडे की हाल ही में प्रकाशित पुस्तक 'मोदीनामा : हिंदुत्व का उन्माद' को पढ़ते हुए वर्तमान राजनीति की दिशा और दशा का बेहतरीन जायजा मिलता है। एक आम पाठक को किताब की सरल-प्रवाह युक्त भाषा, सहज तर्क प्रणाली...

दिल्ली विश्वविद्यालय: क्या थमेगा मूर्ति विवाद!

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) की 30 अगस्त 2019 की रैली में हुए भाषणों से यह स्पष्ट लगता है कि 12 सितम्बर को होने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव में हाल का मूर्ति-विवाद प्रमुख मुद्दा रहेगा। चुनाव परिणाम के बाद...

डीयू में अवैध तरीके से लगायी गयी सावरकर की बुत पर एनएसयूआई के कार्यकर्ता ने पोती कालिख

नई दिल्ली। आरएसएस जिस तरह देश में सत्ता और संस्थानों पर काबिज है, उसके लिए दिल्ली यूनिवर्सिटी में सावरकर का बुत दिन दहाड़े समारोहपूर्वक लगाना भी मुश्किल काम नहीं था। संसद में सावरकर का बुत समारोह के साथ ही...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कोविड काल के दौरान बच्चों में सीखने की प्रवृत्ति का हुआ बड़े स्तर पर ह्रास

कोविड काल में बच्चों में सीखने की प्रवृत्ति का काफी बड़ा नुकसान हुआ है। इसका खुलासा ज्ञान विज्ञान समिति...
- Advertisement -spot_img