Tuesday, March 5, 2024

theater

इब्राहीम अल्काजीः रंगमंच के शिल्पकार और एक सहयोगी गुरू

इब्राहीम अल्काजी दिल के दौरे की वजह नहीं रहे। मैं गांधी की शूटिंग से कुछ दिन पहले ही दिल्ली आ गई थी कि चरखा कातने की भूमिका के लिए खुद को तैयार कर सकूं, अंग्रेजी ठीक से बोल सकूं और...

दुनिया छोड़ जाने के बाद भी सिखाते रहेंगे इब्राहिम अल्काजी

उस समय जबकि नाटक को निचले दर्जे की चीज़ माना जाता था और नाटक करने आए लड़के-लड़कियों को ‘नाचने-गाने वाले’ कहकर दूर हटाया जाता था। उस समय अल्काज़ी आधुनिक हिन्दुस्तानी रंगमंच की नयी फसल पैदा करने की तैयारी में...

इब्राहिम अलकाज़ी: एक युग का अंत

भारतीय रंगमंच के दिग्गज निर्देशक इब्राहिम अलकाज़ी का आज 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वे 1962 से 1977 तक राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के निदेशक रहे। ख़ुद जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय का निदेशक...

पुण्यतिथि पर विशेष: भीष्म साहनी यानी हिन्दी का यश

11 जुलाई, प्रगतिशील और प्रतिबद्ध रचनाकार भीष्म साहनी का पुण्यतिथि दिवस है। इस मौके पर उन्हें याद करना, एक शानदार और पायदार परम्परा को याद करना है। वे एक अच्छे रचनाकार के अलावा कुशल संगठनकर्ता भी थे। प्रगतिशील लेखक...

हबीब तनवीर की पुण्यतिथि पर विशेष: सबसे हबीब

भारतीय रंगमंच की कोई भी चर्चा हबीब तनवीर के बिना अधूरी ही रहेगी, हबीब तनवीर पर चर्चा का मतलब रंगमंच की कई शैलियों, अभिव्यक्तियों, अस्मिताओं इत्यादि पर एक साथ बात करना है। सच तो यह है कि हबीब तनवीर...

हबीब तनवीर की पुण्यतिथि: एक लोकधर्मी आधुनिक नाटककार

आधुनिक रंगमंच में हबीब तनवीर की पहचान लोक को पुनर्प्रतिष्ठित करने वाले महान रंगकर्मी की है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 1 सितम्बर, 1923 को जन्मे हबीब तनवीर, रंगमंच में अपने आगाज से लेकर अंत तक उन सांस्कृतिक मूल्यों-रंगों...

जब मंच पर लगे ताले, तो ये कर रहे हैं थियेटर वाले

थियेटर और फिल्मों के अभिनेता-लेखक-कवि दोस्त अमितोष नागपाल की फेसबुक वॉल पर कुछ रंगकर्मियों की तरफ़ से एक कवितानुमा मार्मिक अपील है। ये युवा रंगकर्मी इस मुश्किल वक़्त में दर्शकों के प्यार को याद करते हैं और उनकी ज़िन्दगियों...

स्थापना दिवस पर विशेष: इप्टा का इंकलाबी इतिहास और भविष्य

‘‘लेखक और कलाकार आओ, अभिनेता और नाटककार आओ, हाथ से और दिमाग़ से काम करने वाले आओ और स्वंय को आज़ादी और सामाजिक न्याय की नयी दुनिया के निर्माण के लिये समर्पित कर दो।’’ आज से 77 साल पहले...

पंजाबी थिएटर की पहली महिला अभिनेत्री उमा गुरबख्श सिंह प्रीत लड़ी का निधन

23 मई की सुबह पंजाब में कला-साहित्य और नाटक (थिएटर) के एक ऐसे युग का अंत हो गया, जिसके साथ बेमिसाल इतिहास वाबस्ता है। उमा गुरबख्श सिंह प्रीतलड़ी संयुक्त पंजाब की पहली पंजाबी थिएटर अभिनेत्री थीं। पंजाबी साहित्य...

पुण्यतिथि पर विशेष: विजय तेंदुलकर, भारतीय रंगमंच में यथार्थवाद का चितेरा

भारतीय रंगमंच को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान दिलाने वाले विजय तेंदुलकर, देश के महान नाटककारों में से एक थे। वे एक होनहार नाटककार थे, जिन्होंने अपने नाटकों में जोखिम उठाकर हमेशा नये विचारों को तरजीह दी। रंगमंच में...

Latest News

ग्रामीण अर्थतंत्र के बीच किसानों की जिजीविषा को बड़े परिदृश्य पर रखता हरियश राय का उपन्‍यास माटी-राग

वाणी प्रकाशन समूह द्वारा प्रकाशित हरियश राय के नये उपन्‍यास माटी- राग का लोकार्पण विश्व पुस्‍तक मेले में किया...