Wednesday, December 8, 2021

Add News

theater

जन्मदिन विशेषः हबीब तनवीर ने कह दिया था सामाजिक-राजनीतिक उद्देश्यों के लिए फिल्मों को अलविदा

आधुनिक रंगमंच में हबीब तनवीर की पहचान लोक को पुनर्प्रतिष्ठित करने वाले महान रंगकर्मी की है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 1 सितंबर, 1923 को जन्मे हबीब तनवीर, रंगमंच में अपने आगाज से लेकर अंत तक उन सांस्कृतिक मूल्यों-रंगों...

जन्म दिन विशेषः नेमिचंद्र जैन ने रंगकर्म में भरे जीवन के रंग

साल 2019, नेमिचंद्र जैन यानी नेमि बाबू का जन्मशती वर्ष था। पिछले साल उनकी याद में शुरू हुए तमाम साहित्यिक कार्यक्रम, इस साल उनके जन्म दिवस 16 अगस्त पर खतम होंगे। नेमिचंद्र जैन, हिंदी साहित्य में अकेली ऐसी शख्सियत...

जो शुरू हुआ वह खत्म भी होगा: युद्ध हो, हिंसा या कि अंधेरा

कुरुक्षेत्र में 18 दिन की कठिन लड़ाई खत्म हो चुकी थी। इस जमीन पर अब मेरी भूमिका रह गई थी। यह अंधा युग की गांधारी है। मुझे सूचना मिल चुकी है कि मेरा सबसे बड़ा बेटा दुर्योधन मारा जा...

इब्राहीम अल्काजीः रंगमंच के शिल्पकार और एक सहयोगी गुरू

इब्राहीम अल्काजी दिल के दौरे की वजह नहीं रहे। मैं गांधी की शूटिंग से कुछ दिन पहले ही दिल्ली आ गई थी कि चरखा कातने की भूमिका के लिए खुद को तैयार कर सकूं, अंग्रेजी ठीक से बोल सकूं और...

दुनिया छोड़ जाने के बाद भी सिखाते रहेंगे इब्राहिम अल्काजी

उस समय जबकि नाटक को निचले दर्जे की चीज़ माना जाता था और नाटक करने आए लड़के-लड़कियों को ‘नाचने-गाने वाले’ कहकर दूर हटाया जाता था। उस समय अल्काज़ी आधुनिक हिन्दुस्तानी रंगमंच की नयी फसल पैदा करने की तैयारी में...

इब्राहिम अलकाज़ी: एक युग का अंत

भारतीय रंगमंच के दिग्गज निर्देशक इब्राहिम अलकाज़ी का आज 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वे 1962 से 1977 तक राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के निदेशक रहे। ख़ुद जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय का निदेशक...

पुण्यतिथि पर विशेष: भीष्म साहनी यानी हिन्दी का यश

11 जुलाई, प्रगतिशील और प्रतिबद्ध रचनाकार भीष्म साहनी का पुण्यतिथि दिवस है। इस मौके पर उन्हें याद करना, एक शानदार और पायदार परम्परा को याद करना है। वे एक अच्छे रचनाकार के अलावा कुशल संगठनकर्ता भी थे। प्रगतिशील लेखक...

हबीब तनवीर की पुण्यतिथि पर विशेष: सबसे हबीब

भारतीय रंगमंच की कोई भी चर्चा हबीब तनवीर के बिना अधूरी ही रहेगी, हबीब तनवीर पर चर्चा का मतलब रंगमंच की कई शैलियों, अभिव्यक्तियों, अस्मिताओं इत्यादि पर एक साथ बात करना है। सच तो यह है कि हबीब तनवीर...

हबीब तनवीर की पुण्यतिथि: एक लोकधर्मी आधुनिक नाटककार

आधुनिक रंगमंच में हबीब तनवीर की पहचान लोक को पुनर्प्रतिष्ठित करने वाले महान रंगकर्मी की है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 1 सितम्बर, 1923 को जन्मे हबीब तनवीर, रंगमंच में अपने आगाज से लेकर अंत तक उन सांस्कृतिक मूल्यों-रंगों...

जब मंच पर लगे ताले, तो ये कर रहे हैं थियेटर वाले

थियेटर और फिल्मों के अभिनेता-लेखक-कवि दोस्त अमितोष नागपाल की फेसबुक वॉल पर कुछ रंगकर्मियों की तरफ़ से एक कवितानुमा मार्मिक अपील है। ये युवा रंगकर्मी इस मुश्किल वक़्त में दर्शकों के प्यार को याद करते हैं और उनकी ज़िन्दगियों...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सरकार की तरफ से मिले मसौदा प्रस्ताव के कुछ बिंदुओं पर किसान मोर्चा मांगेगा स्पष्टीकरण

नई दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चा को सरकार की तरफ से एक लिखित मसौदा प्रस्ताव मिला है जिस पर वह...
- Advertisement -spot_img