Sunday, March 3, 2024

untouchability

बाबा साहेब ने छुआछूत को खत्म करने में निभाई थी बड़ी भूमिका, हम भी तय करें अपनी जिम्मेदारी

वाराणसी/जौनपुर। समाज में व्याप्त उंच-नीच, भेदभाव और छूआछूत जैसी कुप्रथा को खत्म किए बिना न तो समाज का भला होने वाला है और ना ही देश का। हम बंधुत्व की बात करते तो हैं लेकिन बंधुओं (दलितों-शोषितों-वंचितों) को गले...

गीता प्रेस के शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री: क्या आप गीता प्रेस का सच जानते हैं, मोदी जी!

आज (7 जुलाई) देश के प्रधानमंत्री ने गीता प्रेस के शताब्दी समारोह के समापन समारोह में शिरकत की। क्या प्रधानमंत्री जी आपको पता है- वर्ण व्यवस्था की संरचना पर आधारित गीता प्रेस  गीता प्रेस की संरचना वर्ण-व्यवस्था पर आधारित है। कोई भी दलित...

क्यों इस देश के सवर्ण एससी-एसटी-ओबीसी के संवैधानिक अधिकारों को स्वीकार नहीं कर पाते?

भारतीय संविधान में दर्ज स्वतंत्रता, समानता, न्याय, बंधुता, व्यक्ति की गरिमा जैसे अन्य संवैधानिक मूल्य हमारे जीवन के घोषित आधार हैं। लेकिन आजाद भारत के 75 वर्ष बाद हम संवैधानिक मूल्यों को कितना स्वीकार पाए?  हमारे देश में संवैधानिक मूल्यों का कितना पालन...

जयंती पर विशेष:अबूझ क्यों हैं आम्बेडकर बहुतेरों के लिए 

आम्बेडकर कम्युनिस्टों के लिए ही नहीं बल्कि बहुतेरे दलितों के लिए भी अबूझ हैं।हाल कुछ उस कथा जैसी है जिसमें किसी हाथी को नेत्रहीन लोग उतना ही बूझ पाए जितना वे हाथी को स्पर्श कर सके। जिसने सूंड़ स्पर्श...

हमें प्रगतिशील भारत चाहिए या अंधविश्वासी भारत ? एक निष्पृह व निर्भीक समीक्षा

आज वास्तव में इस देश में रहकर यह विश्वास करना कठिन होता जा रहा है कि हम भारत के लोग क्या वास्तव में इक्कीसवीं सदी के ज्ञान-विज्ञान के अंतरिक्ष युग में जी रहे हैं या हम आज से दस-बीस...

पुण्यतिथि पर विशेष: इस्लाम को शरीर और हिंदू धर्म को मस्तिष्क की संज्ञा देते थे स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद देश के महानतम प्रज्ञा पुरुष थे। 4 जुलाई, उनकी 118वीं पुण्यतिथि है। साल 1902 में आज ही के दिन पश्चिम बंगाल के बेलूर मठ में ध्यानावस्था में उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली थी। महज 39 साल की...

शहादत सप्ताह: दलितों, सोए हुए शेरों ! उठो और बगावत कर दो- भगत सिंह

23 मार्च 1931 को साढे तेईस वर्ष की उम्र में फांसी पर चढ़ा दिए गए भगत सिंह ( 28 सितम्बर 1907 - 23 मार्च 1931) ने प्रचुर लेखन किया है। अपने लेखन में वे गंभीर अध्येता और चिंतक के...

पेरियार का द्रविड़ आंदोलन भी जातीय और छुआछूत के भेदभाव से नहीं कर सका जनता को मुक्त

ईवी रामास्वामी पेरियार के 'द्रविड़ कड़गम आंदोलन' का केवल एक ही निशाना था आर्य ब्राह्मणवादी और वर्ण व्यवस्था का अंत कर देना, जिसके कारण समाज ऊंच और नीच जातियों में बांटा गया है। द्रविड़ कड़गम आंदोलन उन सभी शास्त्रों, पुराणों और देवी-देवताओं में...

Latest News

नेशनल प्रेस कल्ब और प्रेस क्लब जर्नलिस्ट इंस्टीट्यूट ने कश्मीरी पत्रकार आसिफ सुल्तान की फिर से गिरफ्तारी की निंदा की

नई दिल्ली। नेशनल प्रेस क्लब की अध्यक्ष एमिली विलकिंस और नेशलन प्रेस क्लब जर्नलिज्म इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष गिल क्लीन...