Friday, July 1, 2022

uttrakhand

डूब गया लोहारी गांव, दर-दर भटकने को मजबूर हैं गांव के लोग

देहरादून। उत्तराखंड के देहरादून में स्थित गांव लोहारी पिछले कुछ दिनों से देश भर में बड़ी चर्चा में रहा है, हर कोई एक संस्कृति को डूबते देखे जाने से दुखी है। टिहरी की तरह ही लोहारी गांव को भी...

जन्मभूमि से दूरी के बावजूद पहाडि़यों के दिलों के करीब रहे हेमवती नन्दन बहुगुणा

हिमालय पुत्र हेमवती नन्दन बहुगुणा का व्यक्तित्व इतना विराट था कि वह अपने कृतित्वों के कारण अपनी जन्मभूमि उत्तराखण्ड और कर्मभूमि उत्तर प्रदेश की सीमाओं से भी बाहर देशभर में याद किये जाते रहे। एक समय ऐसा भी था...

पांच सौ से ज्यादा लोग जुटे आशारोड़ी को बचाने के लिए

देहरादून। देहरादून के जंगलों को काटने का जो आंदोलन शुरू में बहुत कमजोर प्रतीत हो रहा था, वह अब मजबूत रूप ले रहा है। हालांकि अब तक शासन-प्रशासन की ओर से इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया है।...

देहरादून नहरों के बाद बाग भी इतिहास बनने की ओर

अंग्रेज पहली बार 1815 में देहरादून आए। गढ़वाल के अपदस्थ राजा मानवेन्द्र शाह के अनुरोध पर अंग्रेजों ने गढ़वाल पर कब्जा किए बैठे गोरखों को कई जगहों पर परास्त किया। अंतिम लड़ाई देहरादून के पास खलंगा में हुई। कई...

चुनाव से बात नहीं बनी, तो जनता को संभालना होगा मोर्चा

पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, गोवा और मणिपुर राज्यों के विधान सभा चुनावों के बीच में अब ध्यान 10 मार्च की ओर खिंच रहा है कि वह तारीख हमारे लिए क्या भविष्य लेकर आएगी। इन चुनावों को बेहद अहम माना जा...

असली मुद्दों से महरूम है उत्तराखंड का चुनाव

उत्तराखंड में कड़ाके की ठंड, बर्फबारी और बरसात के बीच चुनावी बिगुल भी फूंका जा चुका है। प्रदेश के राजनीतिक इतिहास को देखें तो यहां सत्ता में देश की दो बड़ी राजनीतिक पार्टियों का ही वर्चस्व रहा है। उत्तराखंड में...

उत्तराखंड में भाजपा टिकटों की बाँट… गैरों पे करम, अपनों पे सितम

कांग्रेस में टिकट कटने की आशंका के चलते बीते 17 जनवरी को भाजपा में शामिल हुईं महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य को तो भाजपा ने टिकट दे दिया लेकिन भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी...

भुजाएं फड़काने और सीना दिखाने वाले मोदी गुजरात में क्यों नहीं भर पाते सेना में भर्ती का जोश?

देश को केवल अपने हाथों में सुरक्षित होने का दावा कर रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उत्तराखण्ड, पंजाब और हरियाणा जैसे सैन्य बाहुल्य राज्यों में जा कर सेना के पराक्रम, शौर्य और सर्वोच्च बलिदान का जज्बा जगा रहे हैं, जबकि...

उत्तराखंड भोजन माता प्रकरण: दलितों के अपने संवैधानिक अधिकार छोड़ने के चलते कायम है गांवों में ‘सामाजिक सौहार्द’

अखबारों में यह खबर आई है कि उत्तराखंड के सूखीढांग जाआईसी में भोजन माता प्रकरण का हल हो गया है। अभी तक की सूचना के अनुसार घटना क्रम इस प्रकार है पहले सवर्णों के बच्चों (ब्राह्मणवाद-मनुवाद के जहर से...

मेरी मातृभूमि का कोई मुआवजा नहीं हो सकता: सुंदरलाल बहुगुणा

(जन्म-09 जनवरी 1927, मृत्यु- 21 मई 2021) (मई 1995 में वर्तमान में उत्तराखण्ड में शिक्षक नवेंदु मठपाल टिहरी बांध आंदोलन और वहां के डूब क्षेत्र के गांवों की स्थितियों को नजदीक से समझने टिहरी गए। वे तब श्रीनगर गढ़वाल में पत्रकारिता...
- Advertisement -spot_img

Latest News

ग्राउंड रिपोर्ट : नाम, नमक और निशान पाने के लिए तप रहे बनारसी नौजवानों के उम्मीदों पर अग्निवीर स्कीम ने फेरा पानी 

वाराणसी। यूपी और बिहार में आज भी किसान और मध्यम वर्गीय परिवार के बच्चे किशोरावस्था में कदम रखते ही...
- Advertisement -spot_img