ज़रूरी ख़बर

कानपुर: छेड़छाड़ का विरोध करने पर दबंगों ने घर में घुसकर नाबालिग दलित छात्रा को फांसी पर लटकाया

उत्तर प्रदेश दलित लड़कियों के लिए एसैसिनेशन हब बना हुआ है। दिन तारीख और स्थान बदल जाता है बस घटना वही रहती है। ताजा घटना कानपुर देहात के राजपुर की है जहां छेड़छाड़ का विरोध करने पर 1 अप्रैल बृहस्पतिवार की शाम को पड़ोसियों ने कक्षा नौवीं की छात्रा की उसके घर में ही हत्या कर शव फंदे से लटका दिया। 

पुलिस ने नहीं दर्ज की थी रिपोर्ट 

वारदात से पहले छात्रा और उसके परिजन आरोपियों के ख़िलाफ़ मारपीट की शिक़ायत करने राजपुर थाने पहुंचे थे। लेकिन उनकी शिक़ायत को गंभीरता से लेकर कार्रवाई करने के बजाय पुलिस उन्हें टरकाती रही। हत्या के बाद परिजनों के हंगामे और आला अफ़सरों के दख़ल पर पुलिस ने 15 आरोपियों के ख़िलाफ़ हत्या की रिपोर्ट दर्ज़ की।

पीड़ित परिवार का बयान 

मरहूम छात्रा की मां का आरोप है कि पड़ोसी राधेश्याम कठेरिया का बेटा प्रियांशु उर्फ बिजली उनकी 15 वर्षीय बेटी से अक्सर छेड़छाड़ करता था। गुरुवार सुबह बेटी परीक्षा देने निकली थी। तभी आरोपी ने उसे रास्ते में रोका और एक मोबाइल देते हुए बात करने का दबाव बनाया। स्कूल से लौटकर छात्रा ने इस बाबत परिजनों को जानकारी दी। इस पर छात्रा की मां ने आरोपी के घर वालों से शिकायत कर दी। अपनी शिकायत से गुस्साए आरोपी प्रियांशु और उसके भाई ने शाम करीब साढ़े चार बजे घर में घुसकर छात्रा की पिटाई की। बचाव करने आये छात्रा की मां और छोटे भाई को भी पीटा। इसकी शिकायत लेकर परिजन थाने पहुंचे तो रिपोर्ट दर्ज करने के बजाय पुलिस पीड़िता और उसके परिजनों को टरकाती रही। 

पुलिस थाने में सुनवाई न होने पर शाम लगभग साढ़े सात बजे छात्रा अपने भाई के साथ घर आ गई। करीब दो घंटे बाद छेड़छाड़ की एफआईआर दर्ज़ होने पर परिजन भी घर लौटकर आए तो छात्रा का शव फंदे से लटका मिला। भाई ने बताया कि घर पहुंचते ही आरोपियों ने मारपीट कर बहन की हत्या कर दी और शव को फंदे से लटका दिया। 

बेटी की हत्या से गुस्साए परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई में हीलाहवाली का आरोप लगाते हुए आंदोलन शुरु कर दिया। गौरतलब है कि छेड़छाड़ की रिपोर्ट दर्ज करने के बाद भी पुलिस ने आरोपियों पर कार्रवाई नहीं की थी। 

चारों आरोपी गिरफ्तार 

छात्रा की हत्या से पहले पुलिस ने गुरुवार शाम करीब साढ़े सात बजे तीन सगे भाइयों पर पहले छेड़छाड़ की रिपोर्ट दर्ज की थी। वहीं छात्रा की हत्या होने के बाद मामले को तूल पकड़ते देख रात 12 बजे के बाद पुलिस ने प्रियांशु, उसके भाई (नाबालिग), मां शारदा देवी, पिता राधेश्याम समेत परिवार के दीपू, राजेंद्र कुमार, शारदा देवी, श्यामू, फूल श्री, शिवकुमार, खुशी लाल, शिवाय, सीता, बाबूराम और दामाद वीरेंद्र समेत 15 लोगों के खिलाफ़ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की।

वहीं मुख्य आरोपी प्रियांशु, उसके पिता राधेश्याम समेत फूलन श्री और राजेंद्र कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

कल शुक्रवार सुबह पुलिस ने तीन डॉक्टरों के पैनल से छात्रा के शव का पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, छात्रा के शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हैंगिंग (फांसी) की भी पुष्टि हुई है। 

पुलिस ने बताया प्रेम प्रसंग में आत्महत्या 
इस संदर्भ में आज कानपुर देहात के पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी ने इसे आत्महत्या बताया है। उन्होंने कहा है कि आरोपी और मरहूम छात्रा का प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसे लेकर दोनों परिवार सख्ती बरत रहे थे। दोनों परिजनों के बीच मारपीट की घटना के बाद जब दोनों परिवार एक दूसरे के खिलाफ़ मामला दर्ज़ कराने गये थे छात्रा ने आत्महत्या कर लिया। पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि छात्रा के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है जिसमें उसने लिखा है कि बदनामी के चलते वो आत्महत्या कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी हैंगिंग की पुष्टि हुई है। 

This post was last modified on April 3, 2021 7:29 pm

Share
Published by