Sunday, October 24, 2021

Add News

गाइडलाइंस के ख़िलाफ़ कोर्ट जाने से केंद्र सरकार और वॉट्सएप कंपनी के बीच तकरार

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

फेसबुक के मालिकाना हक़ वाली मेसेंजिंग एप वॉट्सएप ने केंद्र सरकार के नये आईटी नियमों के ख़िलाफ़ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। वॉट्सएप कंपनी का कहना है कि सरकार के इस फैसले से लोगों की प्राइवेसी खत्म हो जाएगी। वॉट्सएप के प्रवक्ता ने मीडिया को बताया है कि मैसेजिंग एप से चैट को इस तरह से ट्रेस करना लोगों की निजता के अधिकार का उल्लंघन होगा। हमारे लिए यह वॉट्सएप पर भेजे गए सारे मैसेज पर नज़र रखने जैसा होगा, जिससे एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन का कोई औचित्य नहीं बचेगा।

वॉट्सएप कंपनी के प्रवक्ता के मुताबिक, हम लगातार सिविल सोसायटी और दुनियाभर के विशेषज्ञों के साथ उन पहलुओं का विरोध करते आए हैं, जिससे यूजर की प्राइवेसी को ख़तरा हो सकता है। इस बीच हम मामले का समाधान निकालने के लिए भारत सरकार के साथ बातचीत जारी रखेंगे।

वहीं इलेक्ट्रानिक्स एंड आईटी मिनिस्ट्री ने वॉट्सएप के आरोपों पर जवाब देते हुये कहा है कि भारत सरकार राइट टु प्राइवेसी का सम्मान करती है। सरकार का इसे नुकसान पहुंचाने का कोई इरादा नहीं है, जब वॉट्सएप को किसी खास मैसेज के ओरिजिन का खुलासा करना ज़रूरी हो। ऐसी ज़रूरत सिर्फ़ उन्हीं केस में होती है, जब किसी खास मैसेज पर रोक ज़रूरी हो या सेक्सुअल एक्सप्लिक्ट कंटेंट जैसे गंभीर अपराधों की जांच और सजा का मसला हो।

गौरतलब है कि तीन महीने पहले 25 फरवरी को केंद्र सरकार के आईटी मंत्रालय द्वारा जारी किये गये नये गाइडलाइन में वॉट्सएप और उस जैसी कंपनियों को अपने मैसेजिंग ऐप पर भेजे गए मैसेज के ओरिजिन (उद्गम) की जानकारी अपने पास रखनी होगी। सरकार के इसी नियम के ख़िलाफ़ वॉट्सएप कंपनी ने अब दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

वहीं मिनिस्ट्री ने अपने बयान में कहा कि एक ओर वॉट्सएप प्राइवेसी पॉलिसी को अनिवार्य बनाना चाहता है, जिसमें वह अपने यूजर का डेटा मूल कंपनी फेसबुक के साथ शेयर करना चाहता है। दूसरी ओर वह लॉ एंड ऑर्डर बनाए रखने और फेक न्यूज पर रोक लगाने के लिए ज़रूरी गाइडलाइंस को लागू न करने के लिए हर कोशिश करता है।

सरकार की ओर से बयान में कहा गया है कि भारत में चलाए जा रहे कोई भी ऑपरेशन यहां के कानून के दायरे में आते हैं। वॉट्सएप की ओर से गाइडलाइंस का पालन करने से इनकार करना साफ-साफ इसकी अवहेलना है। एक अहम सोशल मीडिया इंटरमीडियरी के रूप में वॉट्सएप आईटी एक्ट के प्रावधानों के मुताबिक सुरक्षा चाहता है। यह सही नहीं है। वे इससे बचना चाहते हैं।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पैंडोरा पेपर्स में रेमंड के चेयरमैन की ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में दो कंपनियां

पैंडोरा पेपर्स के खुलासे पर द इंडियन एक्सप्रेस लगातार खोजी रिपोर्ट प्रकाशित कर रहा है। इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -