हर मिनट भुखमरी से होती है 11 लोगों की मौत: ऑक्सफैम रिपोर्ट

Estimated read time 1 min read

गरीबी उन्मूलन के लिए काम करने वाले संगठन ‘ऑक्सफैम’ ने ‘दि हंगर वायरस मल्टीप्लाइज’ नामक अपनी एक ताजा रिपोर्ट में बताया है कि दुनियाभर में भुखमरी के कारण हर एक मिनट में 11 लोगों की मौत होती है और बीते एक साल में पूरी दुनिया में अकाल जैसे हालात का सामने करने वाले लोगों की संख्या छह गुना बढ़ गई है। ऑक्सफैम की रिपोर्ट में कहा गया कि दुनिया में करीब 15.5 करोड़ लोग खाद्य असुरक्षा के भीषण संकट का सामना कर रहे हैं और यह आंकड़ा पिछले वर्ष के आंकड़ों की तुलना में दो करोड़ अधिक है। इनमें से करीब दो तिहाई लोग भुखमरी के शिकार हैं और इसकी वजह है उनके देशों में चल रहा सैन्य संघर्ष।

ऑक्सफैम ने ‘दि हंगर वायरस मल्टीप्लाइज’ नाम की रिपोर्ट में बताया है कि भुखमरी के कारण मरने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 के कारण मरने वाले लोगों की संख्या से अधिक हो गई है। कोविड-19 के कारण दुनिया में हर एक मिनट में करीब सात लोगों की जान जाती है। ऑक्सफैम अमेरिका के अध्यक्ष एवं सीईओ एब्बी मैक्समैन ने कहा, ‘‘आंकड़े हैरान करने वाले हैं। लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि ये आंकड़े उन लोगों से बने हैं जो अकल्पनीय पीड़ा से गुज़र रहे हैं।’’

मैक्समैन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि – ‘‘कोविड-19 के आर्थिक दुष्प्रभाव और बेरहम संघर्षों, विकट होते जलवायु संकट ने 5,20,000 से अधिक लोगों को भुखमरी की कगार पर पहुंचा दिया है। वैश्विक महामारी से मुकाबला करने के बजाए, परस्पर विरोधी धड़े एक दूसरे से लड़ रहे हैं जिसका असर अंतत: उन लाखों लोगों पर पड़ता है जो पहले ही मौसम संबंधी आपदाओं और आर्थिक झटकों से बेहाल हैं।’’

ऑक्सफैम ने आर्थिक पक्ष पर रोशनी डालते हुये कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बावजूद विश्व भर में सेनाओं पर होने वाला खर्च महामारी काल में 51 अरब डॉलर बढ़ गया, यह राशि भुखमरी को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र को जितने धन की ज़रूरत है उसके मुकाबले कम से कम छह गुना ज्यादा है। इस रिपोर्ट में ‘‘भुखमरी से सर्वाधिक प्रभावित’’ की सूची में अफगानिस्तान, इथियोपिया, दक्षिण सूडान, सीरिया और यमन आदि देशों का नाम शीर्ष पर है इन सभी देशों में संघर्ष के हालात हैं।

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours