Friday, April 19, 2024

लुंगी और मुसलमानी टोपी पहनकर ट्रेन के इंजन पर पत्थर फेंकते हुए बीजेपी के कार्यकर्ता गिरफ्तार

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में बीजेपी के एक कार्यकर्ता और उसके पांच समर्थकों को पुलिस ने ट्रेन के एक इंजन पर पत्थर फेंकते हुए गिरफ्तार किया है। ये सभी लुंगी और मुसलमानी टोपी पहने हुए थे।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने भाषण में यह बात कही थी कि बीजेपी के कार्यकर्ता भारी तादाद में टोपियां खरीद रहे हैं हालांकि उन्होंने अपने भाषण में इस घटना का हवाला नहीं दिया था। उन्होंने कहा था कि बीजेपी के कार्यकर्ता मुसलमानी टोपियां पहन कर जगह-जगह तोड़फोड़ में शामिल हैं। वे ऐसा इसलिए कर रहे हैं जिससे उसका पूरा आरोप एक खास समुदाय पर जाए।

पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद झारखंड की एक सभा में कहा था कि प्रदर्शनकारियों को उनके कपड़ों से पहचाना जा सकता है। टेलीग्राफ में प्रकाशित खबर के मुताबिक मुर्शिदाबाद के अफसर ने बताया कि राधामाधाबताला गांव के लोगों ने सियालदह-लालगोला लाइन पर सियालदह के लिए जाने वाले ट्रायल इंजन पर पथराव करते देखने के बाद इन्हें पकड़ लिया और फिर पुलिस को सौंप दिया। उन्होंने बताया कि इन छह लोगों में 21 वर्षीय सरकार बीजेपी कार्यकर्ता है।

 जिले के पुलिस चीफ मुकेश ने बताया कि  “इन युवाओं का दावा था कि लुंगी और टोपियां उन्होंने एक यूट्यूब चैनल के वीडियो की शूटिंग के लिए खरीदी थी। लेकिन वे किसी इस तरह के चैनल की मौजूदगी को साबित नहीं कर सके।”

राधामाधाबताला के लोगों ने कहा कि श्रीसनगर में रहने वाला अभिषेक बीजेपी की सभी रैलियों में सबसे आगे-आगे रहता है। गुरुवार को गांव के एक शख्स ने बताया कि उन लोगों को तब संदेह हुआ जब इन युवाओं ने रेलवे लाइन के किनारे अपने कपड़े बदलने शुरू कर दिए। हम जानते हैं कि अभिषेक अपने विचारों को लेकर बहुत खुला है। इसलिए हम लोगों ने उन्हें पुलिस को सौंपने का फैसला किया।

सूत्रों का कहना है कि समूह का सातवां सदस्य पीछा करने के बाद भा गया। बाकी छहों से बहरामपुर पुलिस स्टेशन में पूछताछ हो रही थी।

स्थानीय बीजेपी सूत्रों ने सरकार के बीजेपी कार्यकर्ता होने की पुष्टि की। लेकिन बीजेपी के जिला अध्यक्ष गौरी शंकर घोष का कहना था कि वह मेरी पार्टी का सदस्य नहीं है। हम राधामाधाबताला में हुई घटना के बारे में कुछ नहीं जानते हैं।

कोलकाता के रानी रश्मि एवेन्यू में हुई एक रैली में ममता बनर्जी ने कहा था कि बीजेपी के बिछाए जाल में मत फंसो। वो इस लड़ाई को हिंदू बनाम मुस्लिम में बदल देने की पूरी कोशिश कर रहे हैं……हमको खुफिया विभाग से यह रिपोर्ट मिली है कि बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं के लिए मुसलमानी टोपी खरीद रही है। वो इसे पहन कर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हुए फोटो खिंचवाना चाहते हैं…..जिससे एक समुदाय को बदनाम किया जा सके।

मैं अपनी युवा पीढ़ी से अपील करना चाहूंगी कि सोशल मीडिया पर जो देखते हैं उसकी हर चीज पर उन्हें भरोसा नहीं करना चाहिए। बीजेपी अपने स्तर पर इसका बेजा इस्तेमाल कर रही है। और करोड़ों रुपये खर्च कर फेक न्यूज फैलाने में लगी हुई है। जिसमें नफरत और हिंसा फैलाने वाले वीडियो की भरमार है।

गांव वालों ने कहा कि सियालदह-लोलगोला ट्रैक गांव से गुजरता है और पिछले एक हफ्ते से पूरे गांव के लिए चिंता का विषय बना हुआ था। इस सप्ताह बेहद संघर्ष के बाद हम लोगों ने शांति को सुनिश्चित कर लिया। और हम इस तरह की किसी नकारात्मक मंशा को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं।

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।

Related Articles

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।