Saturday, July 2, 2022

किशोरों को सिर्फ़ कोवैक्सीन का टीका दें, भारत बायोटेक ने की स्वास्थ्यकर्मियों से अपील

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

भारत बायोटेक ने स्वास्थ्य कर्मचारियों से अनुरोध किया है कि वे इस बात को सुनिश्चित करें कि किशोरों को सिर्फ़ और सिर्फ़ कोवैक्सीन ही दी जाए क्योंकि देश में 15 से 18 आयु वर्ग के किशोरों के लिए अभी तक सिर्फ़ कोवैक्सीन को ही मंज़ूरी मिली है। 

कंपनी ने इस संबंध में देर रात ट्वीट करके कहा है कि “हमें 15-18 आयु वर्ग के लोगों को कोविड-19 के अन्य टीके दिए जाने की सूचना मिली है। हम सभी स्वास्थ्यकर्मियों से अनुरोध करते हैं कि वे बहुत अधिक सतर्क रहें और यह सुनिश्चित करें कि इस आयु वर्ग को सिर्फ़ और सिर्फ़ कोवैक्सीन की ही डोज़ दी जाए।”

कंपनी का कहना है कि भारत में क्लिनिकल ट्रायल्स के नतीजों के आधार पर इस आयु वर्ग के बच्चों के लिए केवल कोवैक्सीन को ही अनुमति मिली है।

इससे पहले 5 जनवरी को भारत बायोटेक ने अपने एक बयान में कहा था कि- “हमें फ़ीडबैक मिला है कि कुछ वैक्सीनेशन सेंटर्स पर कोवैक्सीन लेने वाले बच्चों को पैरासिटामोल देने की सिफ़ारिश की जा रही है। जबकि कोवैक्सीन लगवाने के बाद न तो पैरासिटामोल लेने की ज़रूरत है और न ही किसी तरह के पेनकिलर की ज़रूरत है। “

25 दिसंबर 2021 को ड्रग कंट्रोलर जनरल आफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक की वैक्सीन Covaxin की खुराक 12-18 आयु वर्ग के किशोरों का दिये जाने की मंजूरी दी थी। जिसका उसी दिन देर रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एलान किया था। 

हालांकि डीजीसीआई ने भले ही 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को वैक्सीन की मंजूरी दे दी हो, लेकिन मोदी सरकार ने अभी 15 – 18 साल के किशोरों को ही वैक्सीन डोज देने का फैसला किया है। 

3 जनवरी से शुरु हुआ किशोरों का टीकाकरण

देशभर में 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष के किशोरों का कोविड-19 रोधी टीकाकरण शुरू हो गया। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक अभी तक देश में 15-18 आयु वर्ग के 22 प्रतिशत किशोरों को कोरोना का टीका लग चुका है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देश के अनुसार, इस आयु वर्ग के बच्चों को केवल कोविड-19 रोधी ‘कोवैक्सीन’ टीके की खुराक़ दी जा रही है। 

सरकार ने दावा किया है कि एक सप्ताह से भी कम समय में 15-17 आयु वर्ग के बच्चों को 2 करोड़ से अधिक वैक्सीन के डोज लगाए गए हैं।

(जनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कितना कारगर हो पाएगा प्लास्टिक पर प्रतिबंध

एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर प्रतिबंध एक जुलाई से लागू हो गया। प्लास्टिक प्रदूषण का बड़ा स्रोत है और...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This