Monday, October 25, 2021

Add News

सुप्रीम कोर्ट द्वारा सरकार को सुझाव किसानों की नैतिक जीतः एआईकेएससीसी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

एआईकेएससीसी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा है कि कोर्ट द्वारा सरकार को सुझाव किसानों की नैतिक जीत है। किसान हमेशा ही अपनी राय रखने के लिए तैयार रहे हैं पर अगर कोई कमेटी बनती भी है तक भी दिल्ली का आंदोलन तीन कानून और बिजली बिल वापस होने तक जारी रहेगा। कमेटी का बनना तब उपयोगी होगा अगर पहले ये कानून वापस लिए जाएं और कमेटी में राष्ट्रीय और क्षेत्रीय किसान संगठनों के प्रतिनिधि प्रभावी रूप में शामिल किए जाएं तथा कमेटी कानून वापसी के बाद बने।

एआईकेएससीसी ने कहा कि प्रधानमंत्री किसानों के विपक्ष द्वारा गुमराह किए जाने के पुराने राग को अलाप रहे हैं, जबकि सच यह है कि वे खुद देश को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने अपने पुराने स्पष्टीकरण को दोहराया है कि किसान की जमीन नहीं जाएगी, एमएसपी यानी सरकारी खरीद जारी रहेगी, कानून किसानों के लिए अवसर पैदा कर रहे हैं, जबकि उनके सारे कदम इसे गलत साबित करते हैं।

कल प्रधानमंत्री ने यह गलत दावा किया कि दूध उत्पादन को गैर सरकारी निजी क्षेत्र ने बढ़ावा दिया, जबकि सरकार समर्थित सहकारी समितियों से दूध क्षेत्र बढ़ा और बाद में निजी क्षेत्र के घुसने से दूध के दाम घट गए। दो दिन पहले उन्होंने उद्योगपतियों से खेती में निवेश करने के लिए कहा था। उनके मंत्री कहते हैं कि निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक लाख करोड़ रुपये का आवंटन किया है। मोदी का दस्तावेज ‘पुटिंग फामर्स फर्स्ट’ कहता है कि इन कानूनों से एग्री बिजनेस के लिए अवसर खुलेंगे। इन कानूनों से मोदी सरकार किसानों को नहीं विदेशी कंपनियों और कॉरपोरेट को लाभ पहुंचा रही है।

एआईकेएससीसी के वर्किंग ग्रुप ने आगामी 20 दिसंबर को सुबह 11 बजे से एक बजे तक हर गांव में इस आंदोलन में शहीद हुए पंजाब और हरियाणा के 30 लड़ाकुओं का श्रद्धांजलि दिवस मनाने का निर्णय लिया है।

जहां सिंघू और टिकरी, शाहजहांपुर और पलवल में भागीदारी बढ़ रही है, कल गाजीपुर में भारी संख्या में लोगों के आने की उम्मीद है। एकता परिषद, महाराष्ट्र के 1000 लोग आज पलवल पहुंचेंगे और गुजरात के 100 लोग शाहजहांपुर पहुंचेंगे।

एआईकेएससीसी ने मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल द्वारा किसान आंदोलन के नेताओं के प्रति अपशब्द के इस्तेमाल की कड़ी निंदा की। सरकार ने सतना में एक खास कंपनी का बीज खरीदने का दबाव भी किसानों पर बनाया है, जिसके बिना उनकी धान की खरीद नहीं होनी थी। कल इसके विरोध के रूप में जगह-जगह प्रदेश में मंत्री के पुतले फूंके गए और सरकार को पीछे हटना पड़ा।

एआईकेएससीसी ने बारवानी के आदिवासियों द्वारा तीन कानूनों और बिजली बिल-2020 के विरोध में लगातार संचालित संघर्ष का स्वागत किया है। एआईकेएससीसी ने सरकार द्वारा आईआरसीटीसी डाटा का दुरुपयोग कर केवल सिखों के ई-मेल निकालकर मोदी के लिए सहानुभूति अर्जित करने वाले उन्हें पत्र भेजने की कड़ी निंदा की है और कहा है कि यह किसान आंदोलन को धर्म के आधार पर बांटने के लिए है। प्रधानमंत्री के तौर पर यह अनैतिक कृत्य है।

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

भारत-पाक की क्रिकेट पिच पर तैयार होता है मुनाफे का बाजार!

आखिरकार वो दिन आया जिसका क्रिकेटप्रेमियों को बेसब्री से इंतजार था, 24 अक्टूबर। भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबला हुआ और...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -