Sunday, May 29, 2022

श्रद्धांजलि: इतिहास का क्राॅफ्ट और प्रो. बी.पी. साहू

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

पिछले कुछ सालों में हमने बहुत से बुद्धिजीवियों को खो दिया। उनका जाना इतनी शांति के साथ हुआ कि हमारी बौद्धिक दुनिया में छायी हुई चुप्पी पर मानों कोई असर ही नहीं हुआ है। किसी के न रहने के संदर्भ में हम उसके अवदानों पर बात करते हैं। साथ ही हम उनके अवदानों की अग्रिम व्याख्याओं और नये हासिल संदर्भों, तथ्यों और निष्कर्षों के साथ आगे जाने की चुनौतियों के बारे में सोचते हैं। बौद्धिक जगत में सिद्धांत से व्यवहार और व्यवहार से सिद्धांत की तरफ जाने की जो प्रक्रिया है, उसमें समाज और उसके इतिहास की परतें ही नहीं खुलती हैं, वह एक ऐसे आईने की तरह होता जाता है जिसमें इंसान अपना इतिहास, वर्तमान और भावी जीवन का अक्स देखने लगता है। भारत में इतिहास लेखन और अध्यापन की परम्परा इस संदर्भ में समृद्ध है।

भारत के इतिहास लेखन की इसी तरह की परम्परा को समृद्ध करने वाले इतिहासकार प्रो. भैरवी प्रसाद साहू 3 मार्च, 2022 को हमारे बीच नहीं रहे। आमतौर पर छात्र उन्हें बीपी साहू के नाम से ही जानते थे। 30 मई, 1957 को बेहरामपुर, उड़ीसा में जन्मे बीपी साहू दिल्ली विश्वविद्यालय आये और यहीं से शोध किया। आने वाले दिनों में उन्होंने यहीं पढ़ाना शुरू किया और इतिहास विभाग के अध्यक्ष बने। यहीं से रिटायर होने के कुछ ही समय बाद ही उनका अचानक चला जाना इतिहास लेखन की उन चुनौतियों को छोड़कर जाना भी था जिस पर अभी काम करना बाकी है।

उनका शोध घुमंतू जीवन और समाज पर था। प्रो. डी.एन. झा के निर्देशन में उन्होंने शोध किया। उनका मानना था कि आज के समाज की बनावट और उसकी संस्कृतियां जिसमें उसका खान-पान भी शामिल है, उस पूर्ववर्ती समाज के साथ जुड़़ा हुआ होता है और वह हमारे समय तक आता है। यानी प्रागेतिहास इतिहास का जीवंत पन्ना होता है। प्रो. डी.एन. झा की पुस्तक पवित्र गाय का मिथक में यह संदर्भ एक नये रूप में सामने आया।

प्रो. बी.पी. साहू ने भारत के संदर्भ में स्थानीय इतिहास लेखन पर जोर दिया। आमतौर पर भारत के बृहद इतिहास लेखन में जिन संदर्भों और स्रोतों का प्रयोग किया जाता रहा है, उसमें निर्णायक पक्ष उन राज्य की अवधारणा पर ज्यादा केंद्रित होती रही है जिसे माना जाता रहा है कि उनका प्रभाव अधिक दूरगामी और व्यापक था। लेकिन यदि हम सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक विविधताओं की विशिष्टताओं को देखें, स्थिति एकदम ही अलग दिखती है। एक ऐसी ही अवधारणा समाजशास्त्री एम.एन. श्रीनिवास की सांस्कृतिकरण है जो जातियों के बनने-बिगड़ने के संदर्भ में दी गई। इस अवधारणा में मान लिया गया कि जातियां अपने से ऊपर की जातियों के सापेक्ष अपना पवित्रिकरण और अनुकरण करते हुए अपनी भिन्न श्रेणियां बनाती हैं या ऊपर की जातियों में शामिल होने का प्रयास करती हैं। इस प्रक्रिया में सामाजिक और सांस्कृतिक सम्मिलनीकरण और बहिष्करण भी शामिल होता है।

प्रो. बी.पी. साहू ने उड़ीसा के समाज का गहरा अध्ययन करते हुए उसके सांस्कृतिक, धार्मिक और सामाजिक पक्षों को उजागर किया और ब्राह्मणवाद के ट्राइबलाइजेशन की बात की। जातियों की संरचना बनने, नये राज्यों का उद्भव, भाषाओं का विकास और नये धार्मिक संस्थानों का निर्माण यह दिखाता है कि प्राचीन और पूर्ववर्ती मध्यकाल के दौरान जो समाज बनते हुए दिख रहा था वह एकीकृत महान हिंदू साम्राज्य की अवधारणा से अलग है। इस संदर्भ में प्रो. आर.एस. शर्मा की पुस्तक सामंतवाद पर उनकी टिप्पणी गौर करने लायक हैं।

उनका मानना था कि यह पुस्तक आर्थिक संरचना पर काफी जोर देती है जबकि सामंतीकरण की प्रक्रिया में संस्कृति और समाज की बनती हुई इकाईयां छूट गई हैं। इस संदर्भ में प्रो. सुनील कुमार की पुस्तक दिल्ली सल्तनत को याद करना बेवजह नहीं होगा। उन्होंने मध्यकाल पर काम करते हुए धर्म और संस्कृति की भूमिका के निर्वाह पर जोर दिया और नये सिरे से काम किया। इस संदर्भ में प्रो. बी.पी. साहू की पुस्तक ‘द चेजिंग गेजः रीजन्स एण्ड द कन्सट्रक्शन ऑफ अर्ली इंडिया’ और ‘द मेकिंग ऑफ रीजन्स इन इंडियन हिस्टाॅरीः सोसायटी, स्टेट और आइडेंटिटी इन प्रीमाडर्न इंडिया’ जरूर पढ़ी जानी चाहिए।

इन पुस्तकों के संदर्भ में वह भाषा के बनने की बात प्रमुखता से उठाते हैं। इन भाषाओं का अपना क्षेत्र था और ये नये तरह की सांस्कृतिक और सामाजिक आकांक्षाओं को लेकर आ रहे थे। इन भाषाओं में वही बातें नहीं थीं जो संस्कृत के माध्यम से अभिव्यक्त हो रही थीं। प्राचीन भारत और सामंतवाद का विकास एक रेखीय घटनाएं नहीं है जो संस्कृत, पाली जैसी भाषाओं में रचे गये साहित्यों और भारत के विशाल राज्यों की अवधारणा वाले राजाओं की प्रशस्तियों में जारी किए गये। निश्चय ही इस पर अभी और काम होना बाकी है। प्रो. बी.डी. चट्टोपाध्याय, हरमन कुल्के के साथ मिलकर प्रो. बी.पी. साहू ने इस दिशा में काम को आगे बढ़ाया। इस संदर्भ में एक और पुस्तक ‘हिस्टरी ऑफ प्रीकोलोनियल इंडिया’ जिसका संपादन प्रो. बी.पी. साहू ने किया, का उल्लेख बहुत जरूरी है। यह भारत में इतिहास दर्शन और लेखन को लेकर आ रही समस्याओं को चिन्हित करती है और इसे समृद्ध करने की चुनौतियों को रेखांकित करती है।

उन्होंने एक और पुस्तक ‘आयरन एण्ड सोशल चेन्ज्स इन अर्ली इंडिया’ संपादित किया। उत्पादन के साधन और उत्पादन संबंधों के बीच के रिश्तों को भारत के संदर्भ में समझने का प्रयास किया गया। इस संदर्भ में रोमिला थापर की पुस्तक अशोक और मौर्यो का पतन और प्रो. आर.एस. शर्मा की भारत का प्राचीन इतिहास देखा जा सकता है। लेकिन, जैसे जैसे जनपदों से इतर एक नये क्षेत्र में मौर्य साम्राज्य के बनने और नये सामाजिक संरचनाओं के उभरने का अध्ययन बढ़ता गया वैसे वैसे लोहे की भूमिका पर सवाल भी बनता गया। आमतौर पर यह मान लिया जाता है कि तकनीक और समाज के बीच सीधा संबंध है।

यह बहस भारत के संदर्भ में सामंतवाद को लेकर भी खूब रही है। और यह बहस आज भी जारी है। यदि हम आज के भारत के संदर्भ में आधुनिक तकनीक और पूंजी की नई अवधारणाओं को भारत के सामाजिक संबंधों को देखें तब हम एक भिन्न स्थिति पायेंगे। धातुओं की उपलब्धता, तकनीक की खोजों और समाज और राज्य की भूमिका एक ऐसे जटिल संरचना को पेश करती हैं, जिसे ठोस परिस्थितियों में विश्लेषित करना जरूरी होता है। इतिहास लेखन में यह किसी समाज को देखने का नजरिया भी पेश करता है और इससे वह प्रभावित भी होता है।

प्रो. बी.पी. साहू ने इतिहास लेखन और उससे जुड़ी गतिविधियों में सक्रिय रहे। भारतीय इतिहास कांग्रेस में उनकी सक्रियता ने इतिहास लेखन को आगे बढ़ाया। उन्होंने इतिहास लेखन को लेकर बनाये जा रहे पूर्वाग्रहों और इतिहासकारों पर किये जा रहे हमले का पुरजोर विरोध किया। उन्होंने इतिहास लेखन को जिस तरह से समृद्ध किया है, नये विचारों और शोध प्रविधियों को विकसित किया उससे आगे काम करने की संभावनाएं खुली हैं। हम जरूर ही इतिहास लेखन की इस विरासत के साथ जुड़ेंगे। इतिहास न तो खंडहर हैं और न ही उसे तहस-नहस कर खंडहर बनाया जा सकता है। इतिहास एक क्राफ्ट की तरह है। जितनी बार हमारी नौका टूटेगी या तोड़ दी जायेगी, …हम उतनी बार उसे बनायेंगे, अपनी जरूरतों के अनुसार, अपनी अभिरूचियों के अनुसार, …।

लेख – जयंत कुमार

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

दूसरी बरसी पर विशेष: एमपी वीरेंद्र कुमार ने कभी नहीं किया विचारधारा से समझौता

केरल के सबसे बड़े मीडिया समूह मातृभूमि प्रकाशन के प्रबंध निदेशक, लोकप्रिय विधायक, सांसद और केंद्र सरकार में मंत्री...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This