Friday, April 19, 2024

प्रफुल्ल कोलख्यान

तर्कशील लोकतंत्र और तर्कातीत चुनाव में आयुधीकृत अर्धसत्य का विष-प्रभाव

युवाओं का सभ्यता के विकसित होने में बड़ा योगदान रहा है। कहना न होगा कि ‎‘विकसित भारत’ ‎में भी युवाओं का महत्व कोई कम नहीं है। इस लिहाज से युवाओं का मन टटोलना स्वाभाविक है। मीडिया इस काम को...

व्यक्तिवाद-परिवारवाद और समाजवाद अपनी जगह, चुनाव में चाहिए संविधानवाद

जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में चुनाव का बहुत महत्व होता है। हम सब हर पल किसी-न-किसी तरह के चुनाव में लगे रहते हैं। सब से ज्यादा चुनावी पल मोबाइल के साथ जुड़ा दिखता है। ‎‎चुनाव विकल्पों में से किसी...

धीमी आवाज पर कान हो हाथ में वोटर कार्ड हो कि यह मुल्क हम सब का ‎है

पूरी दुनिया भारत के लोकतंत्र के भविष्य पर भारत के निर्णय का बेकरारी से इंतजार कर रहा है। सब की नजर हिंदी पट्टी में भारत की गंगा-जमुनी संस्कृति की ताकत और ध्रुवीकरण की मंशा पर लगी हुई है। जनादेश...

भारत का लोकतंत्र ‘लोक’ की हिफाजत में है ‘तंत्र’ की गिरफ्त में नहीं, बिल्कुल नहीं

भारत के लोकतंत्र के लिए गैरमामूली आम चुनाव 2024 सामने है। चुनाव प्रचार का सिलसिला जोर पकड़ चुका है। चुनाव प्रचार के सिलसिला में 2 अप्रैल 2024 को उत्तराखंड के रुद्रपुर के ‘मोदी मैदान’ में अपना भाषण देते हुए...

इलेक्टोरल बॉन्ड के पहले और बाद की राजनीति एवं रणनीति

भाग्य विधाता बनने की हैसियत के भ्रम के शिकार नरेंद्र मोदी अपनी औका पर इतराते हुए कह गये कि इलेक्टोरल बांड की अभेद्य गोपनीयता के सार्वजनिक व्यवस्था (Public Order) में आ जाने पर खुश होने वाले के भविष्य में...

आगे बढ़कर बचा लेना होगा लोकतंत्र को भी, उम्मीद को भी

माननीय सुप्रीम कोर्ट ‎में भारत सरकार की तरफ से कहा गया है कि चुनाव संपन्न होने तक आयकर विभाग (IT) कांग्रेस की फाइल पर कोई कठोर कार्रवाई नहीं करेगा। भारत के सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जस्टिस बीवी नागरत्ना...

संविधान, लोकतंत्र, राष्ट्रीय एकता, सभ्य और बेहतर जीवन हमारा हक है

ऐतिहासिक रामलीला मैदान में विपक्षी गठबंधन की ‎‘लोकतंत्र बचाओ’‎ रैली सफलतापूर्वक शुभ-शुभ संपन्न हुई। सफल इसलिए कि उसका संदेश इस कठिन समय में लोगों का भरोसा हासिल करने में कामयाब रही है। कठिन समय में भारत के लोग अपनी...

तो फिर क्या समाधान है, समझना होगा समाधान है साहस

ऐतिहासिक रामलीला मैदान एक बार फिर भारत के लोकतंत्र की अंगड़ाइयों के इतिहास का साक्षी बनेगा। कहते हैं जो चीज जहां खोती है, उसकी तलाश वहीं करनी चाहिए। कई बार खोनेवाले को पता ही नहीं चलता है कि जो...

अब संसदीय लोकतंत्र के तामझाम पर चमक रहा है बिल्कुल नया सामंती ताला  

आम चुनाव में राजनीतिक दलों में कांटे की टक्कर में कांटेदार टकराव और चकराव है। अभी आगे सत्य हकलाता हुआ मारा-मारा फिरेगा और  झूठ दहाड़ता हुआ सामने आयेगा। पिछले दस सालों के शासन और राजनीतिक प्रक्रिया में सतरू (सत्तारूढ़)...

लोकतंत्र की आंख में पानी बचाने और तालाब में ‎नया पानी ‎भरने के लिए ‎चुनाव

सामने 2024 का आम चुनाव है। केंद्रीय चुनाव आयोग मन-प्राण और प्राण-पण से स्वतंत्र, निष्पक्ष, निर्भय एवं दबाव से मुक्त वातावरण में चुनाव संपन्न करवाने के लिए संघर्ष का समान अवसर (Level Playing Field)‎ बनाने में कोई कोताही नहीं...

About Me

76 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

वामपंथी हिंसा बनाम राजकीय हिंसा

सुरक्षाबलों ने बस्तर में 29 माओवादियों को मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है। चुनाव से पहले हुई इस घटना में एक जवान घायल हुआ। इस क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय माओवादी वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं और हमले करते रहे हैं। सरकार आदिवासी समूहों पर माओवादी का लेबल लगा उन पर अत्याचार कर रही है।