Saturday, January 22, 2022

Add News

सलमान खुर्शीद के घर आगजनी: सांप्रदायिक असहिष्णुता का नमूना

ज़रूर पढ़े

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, कांग्रेस के एक प्रमुख नेता और उच्चतम न्यायालय के जानेमाने वकील हैं. हाल में उनकी एक किताब प्रकाशित हुई है, जिसका शीर्षक है “सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन प्रेजेंट टाइम्स”. पुस्तक की प्रचार सामग्री में उसके एक उद्धरण का प्रयोग किया गया है: “…सुप्रीम कोर्ट…ने राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ़ कर दिया…अगर एक मस्जिद का ध्वंस आस्था की रक्षा है, अगर एक मंदिर की स्थापना, आस्था का उद्धार है तो हम सब मिल कर संविधान में आस्था का उत्सव मना सकते हैं…”.

पुस्तक में यह भी कहा गया है कि जहाँ हिन्दू एक महान और सहिष्णु धर्म है वहीं हिंदुत्व एक तरह की राजनीति है जिसकी तुलना आईएसआईएस और बोको हरम की राजनीति से की जा सकती है. अपनी पुस्तक में खुर्शीद ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का जम कर बचाव किया है. यह इस तथ्य के बावजूद कि देश की सबसे बड़ी अदालत ने यह तो स्वीकार किया कि 1949 में परिसर में चोरी-छुपे रामलला के प्रतिमाएं रखी जाना एक आपराधिक कृत्य था और मस्जिद को ढहाना भी अपराध था परन्तु उसने इन अपराधों के लिए किसी को भी सजा नहीं दी. जहाँ तक दूसरे अपराध का सवाल है, लिब्रहान आयोग की रपट ही भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को सीखचों के पीछे डालने के लिए पर्याप्त है. खुर्शीद, दरअसल, शांति की बात कर रहे हैं और उस निर्णय के प्रति नर्म रुख अपना रहे हैं जिसने अपराधियों को बरी कर दिया.

हाँ, पुस्तक में उन्होंने हिंदुत्व की परिकल्पना की विवेचना करते हुए उसकी तुलना अन्य कट्टरपंथी संगठनों से की है. इस बात पर बवाल खड़ा कर दिया गया है. हिंदुत्व की राजनीति के सिपाहियों ने नैनीताल में स्थित उनके घर पर गोलियां चलाईं और वहां आगजनी की. उनकी किताब को हिन्दू धर्म का अपमान बताया गया. दरअसल, वे हिन्दू धर्म की तारीफ कर रहे हैं. वे तो हिन्दू धर्म के नाम पर की जा रही हिंदुत्व की राजनीति का विरोध कर रहे हैं. उन्हीं की तरह, राहुल गाँधी ने भी हिन्दू धर्म और हिंदुत्व के बीच विभेद किया. हिन्दू एक धर्म है और हिंदुत्व राजनीति है. इस्लाम एक धर्म है, बोको हरम और आईएसआईएस इस्लाम के नाम पर राजनीति करने वाले संगठन हैं.

लोगों के दिमाग में यह भर दिया गया है कि हिंदुत्व और हिन्दू धर्म पर्यायवाची हैं. यह सांप्रदायिक राष्ट्रवादियों की बड़ी सफलता है. सावरकर ने बड़ी होशियारी से अपनी राजनैतिक विचारधारा, हिंदुत्व, के नाम में ‘हिन्दू’ शब्द को शामिल कर लिया. इससे एक आम हिन्दू को लगता है कि हिंदुत्व की आलोचना, उसकी आलोचना है.   

सावरकर हिन्दू राष्ट्रवाद के पितामह हैं और उनकी दृष्टि में राष्ट्रीय पहचान…तीन स्तंभों पर आधारित है – “भौगोलिक एकता, नस्लीय लक्षण और सांझा संस्कृति”. सावरकर हिन्दुओं के लिए धर्म के महत्व को कम कर आंकते हुए कहते हैं कि हिन्दू धर्म, हिन्दू-ता का एक गुणधर्म मात्र है” (हिन्दुत्व पृष्ठ 18). इस प्रकार दोनों शब्दों के बीच का अंतर स्पष्ट है.

हिन्दू धर्म को समझना जटिल कार्य है क्योंकि इस धर्म का न तो कोई एक पैगम्बर है, न कोई एक पवित्र पुस्तक और न कोई एक देव. परंतु हिन्दू एक धर्म है, इसमें कोई संदेह नहीं है. नेहरू लिखते हैं “एक धर्म के रूप में हिन्दू अस्पष्ट, अनाकार और कई पहलुओं वाला है और विभिन्न लोग इसे अलग-अलग रूप में देखते हैं…आज और अतीत में भी उसमें अलग-अलग तरह की आस्थाएं और आचरण शामिल रहे हैं. इनमें से कई एक-दूसरे के विपरीत और एक-दूसरे का खंडन करने वाले हैं. मुझे ऐसा लगता है कि जिओ और जीने दो इस धर्म की मूल आत्मा है.” महात्मा गांधी ने हिन्दू धर्म को परिभाषित करने का प्रयास करते हुए लिखा था, “अगर मुझे हिन्दू धर्म को परिभाषित करने को कहा जाए तो मैं केवल यह कहूंगा: अहिंसक साधनों से सत्य की खोज. कोई व्यक्ति ईश्वर में विश्वास न करते हुए भी स्वयं को हिन्दू कह सकता है. हिन्दू धर्म, सत्य की अनवरत खोज का नाम है… .” गांधी का हिन्दू धर्म सहिष्णु था.

इसके विपरीत, सावरकर के लिए हिन्दू धर्म का एक राजनैतिक निहितार्थ था और यही हिन्दू साम्प्रदायिकता का आधार है. सावरकर के अनुसार हिन्दू वह है जो सिंधू से लेकर समुद्र तक के भूभाग को अपनी पितृभूमि और पुण्यभूमि दोनों मानता है. उनके अनुसार हिन्दू एक अलग राष्ट्र हैं और भारत भूमि के मूल रहवासी हैं. मुसलमान एक अलग राष्ट्र हैं. गांधी-नेहरू की समझ यह थी कि हमारा धर्म चाहे

कोई भी हो हम एक राष्ट्र हैं. गांधीजी ने उनके हिन्दू धर्म को परिभाषित करते हुए कहा था “ईश्वर अल्लाह तेरो नाम”.  

हिन्दू राष्ट्रवादी, अर्थात हिन्दुत्व की राजनीति करने वाले, हिन्दू धर्म और हिन्दुत्व को पर्यायवाची के रूप में प्रयुक्त करते हैं. बहुत सोच-समझकर यह प्रचारित किया जा रहा है कि हिन्दुत्व सभी को एक साथ लाता है और उनमें एकता स्थापित करता है. यह बात मोहन भागवत भी कहते हैं. यह सारा प्रचार चुनावी लाभ के लिए किया जा रहा है. हिन्दुत्व के एजेंडे में शामिल है अतीत का महिमामंडन – उस अतीत का जिसमें जातिगत और लैंगिक पदक्रम पत्थर की लकीर था – ‘विदेशी धर्मों’ (ईसाई धर्म व इस्लाम) का दानवीकरण और गाय, राम मंदिर, लव जिहाद आदि जैसे मुद्दों पर हिन्दुओं की भावनाएं भड़काना. हिन्दुत्ववादी मानते हैं कि मुसलमानों की बढ़ती आबादी हिन्दुओं के लिए खतरा है. वे यह भी मानते हैं कि ईसाई मिशनरियों द्वारा करवाया जा रहा ‘धर्मांतरण’ भी हिन्दुओं के लिए खतरा है. संक्षेप में हिन्दुत्व का एजेंडा ऐसी नीतियों को लागू करना है जो समाज के श्रेष्ठिवर्ग को लाभ पहुंचाएं और दमितों के प्रति केवल शाब्दिक सहानुभूति व्यक्त करें.

हिन्दू धर्म और हिन्दुत्व को एक बताना साम्प्रदायिक ताकतों की राजनैतिक रणनीति है. हिन्दुत्व असहिष्णु है, हिंसा को बढ़ावा देता है और धार्मिकता को भी. वह दलितों और आदिवासियों का सोशल इंजीनियरिंग के जरिए अपने राजनैतिक हित साधने के लिए उपयोग करना चाहता है. दरअसल, हिन्दुत्व उस राजनीति का नाम है जो यथास्थिति को बनाए रखने के साथ-साथ समाज को पदक्रम पर आधारित पुरातन व्यवस्था की ओर वापस ढ़केलना चाहता है.

अपने घर में आगजनी के बाद खुर्शीद ने कहा कि इससे यही साबित हुआ है कि वे जो कह रहे थे वह ठीक था. वे सही बात कह रहे हैं परंतु सवाल यह है कि हम इस विघटनकारी विचारधारा का मुकाबला कैसे करें? बांटने वाली ताकतों ने आम लोगों को यह समझाने में सफलता हासिल कर ली है कि हिन्दू धर्म और हिन्दुत्व एक ही हैं. क्या हम हिन्दुत्व का नाम लिए बगैर उसकी विभाजक राजनीति का मुकाबला कर सकते हैं? क्या हम हिन्दुओं को समझा सकते हैं कि हिन्दू धर्म वह है जिसे गांधी और नेहरू ने परिभाषित किया है. हमें गांधी के हिन्दू धर्म और गोडसे और उसके साथियों के हिन्दुत्व के बीच विभेद करना ही होगा ताकि हिन्दू धर्म के बहुलता और मानवीयता पर आधारित सिद्धांत बचे रहें और हम साम्प्रदायिकतावादियों के एजेंडे का मुकाबला करते हुए शांति और बंधुत्व पर आधारित समाज की स्थापना कर सकें।

(अंग्रेजी से रूपांतरण अमरीश हरदेनिया) (लेखक आईआईटी मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007  के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं)

            

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुरानी पेंशन बहाली योजना के वादे को ठोस रूप दें अखिलेश

कर्मचारियों को पुरानी पेंशन के रूप में सेवानिवृत्ति के समय प्राप्त वेतन का 50 प्रतिशत सरकार द्वारा मिलता था।...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -