Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

न्यू इंडिया:बेगैरत बादशाह की गुलाम जनता

कहने को तो देश में लोकतंत्र है पर जो व्यक्ति सत्ता पर काबिज है वह अपने आप को राजतंत्र के किसी बादशाह से कम नहीं समझ रहा है। जनता से चुने गये जनप्रतिनिधियों के मार्फत निर्वाचित यह बादशाह बेगैरत भी इतना है कि देश कितना भी गर्त में चला जाए, और जिम्मेदार लोगों द्वारा उसकी तरफ कितना भी ध्यान दिलाया जाए। लेकिन इसके कान में जूं तक नहीं रेंगती।

इतना ही नहीं यदि देश में हो रही हिंसा के खिलाफ कोई पत्र भी लिख दे तो इसके समर्थक उस पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करा देते हैं। समर्थक भी ऐसे जो लोकतंत्र की रक्षा के लिए बनाए गए तंत्र से संबंधित हों। बादशाह में बेशर्मी इतनी कि एक ओर गांधी की 150वीं जयंती पर शांति का संदेश देने का ढकोसला कर रहा है दूसरी ओर शांति की बात करने वालों को देशद्रोही साबित कराने में लगा है।
इस शख्स का एक दूसरा चेहरा और भी ज्यादा भयानक है। बादशाह की शह पर गिने-चुने पूंजीपतियों द्वारा देश के संसाधनों का जमकर दोहन किया जा रहा है। एक विशेष तबका जनता का हक मारकर अय्याशी करने में लगा है। और फिर देश की माली हालत के लिए पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराकर अपना दामन साफ कर लिया जाता है। कीड़े-मकोड़े की जिंदगी जीने को मजबूर जनता गुलामों की तरह मुंह नीचा करके देश में चल रहे नंगे नाच को देख रही है। इतना ही नहीं एक बड़ा तबका शर्म के सारे पर्दों को फाड़कर इस बादशाह की पैरवी करता नजर आ रहा है। कहीं-थोड़ा बहुत विरोध हो भी रहा है तो वह भी जाति और धर्म के नाम पर। इस बादशाह का नहीं बल्कि आपस में एक-दूसरे का।
देश की आजादी के बाद यह पहला विपक्ष है जो कहीं नहीं दिखाई दे रहा है। हां यदि सत्ता की मलाई चाटने की बात आ जाए तो विपक्ष में बैठे नेताओं में एक से बढ़कर एक शूरमा निकल कर बाहर आ जाएंगे। विपक्ष के कमजोर होने के पीछे देश में इनके भ्रष्ट होने का तर्क दिया जा रहा है। इसी तर्क के आधार पर सत्ता का मजा लूटने वाले लोग इस बादशाह की पैरवी करने में लगे हैं। अंधभक्ति भी ऐसी कि यह बादशाह तो सत्ता के लिए विपक्ष के नेताओं पर शिकंजा कस रहा है पर देश का बड़ा तबका इसे भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान समझ रहा है।

बादशाह के पिछले कार्यकाल से भी इन लोगों ने कोई सबक नहीं लिया। जिस प्रदेश में चुनाव आता है बादशाह उस सूबे के दूसरे दलों के नेताओं पर शिंकजा कसना शुरू कर देता है। चुनाव जीतते ही काहें का भ्रष्टाचार, काहें का देश और काहें का समाज? उत्तर प्रदेश में विधानसभा और लोकसभा दोनों चुनावों में पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और अखिलेश यादव पर शिकंजा कसा गया और चुनाव जीतते ही मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। हां 2022 के विधानसभा चुनाव में देखना फिर से यह जिन्न बाहर निकल जाएगा। ऐसे ही अब हरियाणा और महाराष्ट्र में चुनाव चल रहा है तो हरियाणा में चौटाला परिवार के साथ ही भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुलदीप विश्नोई के परिवार पर भी शिकंजा कसा गया है। महाराष्ट्र में शरद परिवार के परिवार पर शिंकजा कसा गया है। चुनाव जीतते ही भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहा यह अभियान खत्म हो जाएगा। इसी अभियान का डर दिखाकर विपक्ष के भ्रष्ट नेताओं को अपने में मिला लिया जा रहा है। भाजपा में आते ही यह नेता स्वच्छ छवि के हो जा रहे हैं। मतलब आप इस बादशाह के सामने समर्पण कर दो फिर कितने ही कुकर्म करते घूमो। हां यदि अड़ गये तो आप भी लालू प्रसाद और आजम खां की श्रेणी में आ जाएंगे।
निश्चित रूप से सभी राजनीतिक दलों में एक से बढ़कर एक भ्रष्ट नेता हैं पर इन पर शिकंजा देश और समाज के लिए नहीं बल्कि सत्ता के लिए कसा जा रहा है। मतलब भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान के नाम पर जनता को बेवकूफ बनाया जा रहा है। सत्ता भी ऐसी कि जनता कराहती रहे और एक विशेष तबका देश के संसाधनों का दोहन कर मौज मारता रहे।

यह वही देश है जिसमें अंग्रेजी शासन के खिलाफ क्रांति की मशालें जल गई थीं। देश के युवा देश और समाज के लिए माथे पर कफन बांधकर सड़कों पर निकल गये थे। निश्चित रूप से सत्ता के लिए ही विपक्ष में भी बैठे नेता भी इस बादशाह की तरह जनता की भावनाओं से खिलवाड़ कर रहे हैं। देश की रक्षा के लिए गये बनाए गए तंत्र भी सत्ता की मलाई चाटने के आदी हो गये हैं। ऐसे में सारा भार जनता के कंधों पर है। पर जनता है कि गुलामी से बाहर ही नहीं निकल रही है। इस व्यवस्था के बीच में जो लोग इस बादशाह से टकरा रहे हैं उनका साथ जनता भी नहीं दे रही है।
हां, यह भी सच है कि आंदोलनों ने जनता को जरूर निराश किया है लेकिन आंदोलनों से निकली पार्टियों में कितने भी भ्रष्ट नेता हो जाएं पर उनकी नीतियां ऐसी होती हैं उनसे कमजोर आदमियों को कुछ न कुछ फायदा जरूर मिल जाए। जेपी क्रांति से निकली जनता पार्टी में रहे नेता भले ही बिखर गये हों पर इन नेताओं ने शुरुआती दौर में जनता के लिए काफी काम किये। ऐसे ही अन्ना आंदोलन से निकली आम आदमी पार्टी कितनी भी भटक जाए पर उसकी नीति में गरीब आदमी है।

यही वजह रही है कि देश में शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र में उन्होंने काम कर देश के लिए एक मिसाल पैदा की। आजादी की लड़ाई की विरासत संजोये कांग्रेस में कितना भी परिवारवादवाद और कितना भी भ्रष्टाचार हो जाए पर जनता का दबाव पड़ने पर पार्टी ने अच्छे काम भी किये हैं। मनमोहन सरकार के भूमि अधिग्रहण कानून और खाद्य सुरक्षा कानून इसके बड़े उदाहरण हैं। क्षेत्रीय दलों में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी में कितना भी भ्रष्टाचार रहा हो पर जमीनी स्तर पर भी काफी काम हुए हैं। मुलायम सिंह के पहले कार्यकाल और मायावती के कार्यकाल में कानून व्यवस्था का आज भी लोग हवाला देते हैं।
समाजवाद के प्रणेता डॉ. राम मनोहर लोहिया ने कहा था कि जिंदा कौमें पांच साल तक इंतजार नहीं करती हैं। यह आह्वान उन्होंने राजनीतिक दलों से नहीं बल्कि जनता से किया था। जब देश में विपक्ष कमजोर पड़ जाता है, लोकतंत्र के रक्षक भ्रष्ट हो जाते हैं तो एक जनता ही होती है जो देश और समाज के लिए खड़ी होती है। आज के दौर में जनता का यह हाल है कि अपनी आंखों के सामने ही सब कुछ लूटते देखते हुए भी मौन है। देश का युवा तो जैसे उसे किसी बात की कोई चिंता ही नहीं है। कहीं पर मर्डर करते हुए लाइव दिखाया जा रहा है तो कहीं पर आत्महत्या करते हुए और कहीं पर स्टंट करते हुए। सेटिंग व वेटिंग में अपना समय बर्बाद कर रहा है।
देश का यह बेगैरत बादशाह एक दूसरे देश को हजारों करोड़ रुपये दे आता है ओैर अपने देश में किसी बड़ी आपदा के लिए रखा गया रिजर्व बैंक में रिजर्व पैसा भी निकाल लेता है।

नोटबंदी के नाम पर, जीएसटी के नाम पर, ब्लैकमनी के नाम पर हजारों, लाखों करोड़ रुपये इस बादशाह ने जुटाये। कहां है वो पैसा कोई पूछने वाला नहीं है? देश की सबसे बड़ी कंपनी एलआईसी को बर्बादी की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया। सरकार को सबसे अधिक राजस्व देना वाले रेलवे का पूरी तरह से निजीकरण कर दिया जा रहा है। इसकी शुरुआत तेजस ट्रेन से हो चुकी है। जनता चुप है। सत्ता की शह पर अपने धंधे को चमकाने में लगे बाबा बहू-बेटियों की अस्मत लूट रहे हैं।

स्वामी चिन्मयानंद प्रकरण ताजा उदाहरण है। आरोपी वातानुकूलित कमरे में रह रहा है और पीड़िता जेल की सलाखों के पीछे है। जनता चुप है। हां जनता में जाति और धर्म पर जरूर जोश आ जा रहा है। जो लोग एक-दूसरे के दुख-दर्द में खड़े होते रहे हैं वे उनके ही खून के प्यासे हो जा रहे हैं। एक ओर चंद्रयान की बात की जा रही है और दूसरी ओर देश को गाय-गोबर और अंधविश्वास की दुनिया में धकेला जा रहा है और जनता चुप है। भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, आर्थिक मंदी, कानून व्यवस्था जैसे जमीनी मुद्दों को छोड़कर हिंदू-मुस्लिम, पाकिस्तान, गो हत्या, दिखावे का राष्ट्रवाद मुख्य मुद्दे बने हुए हैं।

देश में सब कुछ इस बेगैरत बादशाह के इशारे पर हो रहा है और देश का एक बड़ा तबका इस बादशाह को क्लीन चिट देकर इसे एक उद्धारक के रूप में देख रहा है। अपने आप मर रहे पड़ोसी देश को सबक सिखाने के नाम पर देश को एक बड़े खतरे की ओर ले जाया जा रहा है और देश की गुलाम जनता इसे इस बादशाह की बहादुरी समझ रही है। अमेरिका जैसे दूसरी यूरोपीय देश जो हमारे देश का बिल्कुल भी हित नहीं चाहते हैं उन्हें मित्र बनाकर देश को गुमराह किया जा रहा है।

हर साल दो करोड़ रोजगार देने का दावा करने वाला, संसद को दाग मुक्त करने की बात करने वाला, स्विस बैंक में पड़ी देश की ब्लैक मनी लाकर हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रुपये देने वाला यह बेगैरत बादशाह जनता के खून पसीने की कमाई पर विदेशी भ्रमण कर रहा है और जनता इसे देश का मान बढ़ाना समझ रही है। देश की जनता की अनदेखी कर विदेश में रह रहे स्वार्थी लोगों के बीच में जाकर सेल्फी लेने वाले इस बादशाह का असली चेहरा लोग नहीं देख पा रहे हैं। यह बेगैरत बादशाह देश के नौनिहालों का हक मारकर अपने रुतबे को बढ़ाने में लगा दे रहा है और यही लोग इसके विदेशी भाषण पर खुश हो रहे हैं। इन्हें झूठे सपने दिखाकर इनका निवाला भी छीन ले रहा है और ये लोग किसी चमत्कार का इंतजार कर रहे हैं।

(चरण सिंह पत्रकार हैं और आजकल नोएडा से निकलने वाले एक दैनिक में कार्यरत हैं।)

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

विनिवेश: शिखंडी अरुण शौरी के अर्जुन थे खुद वाजपेयी

एनडीए प्रथम सरकार के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आरएसएस की निजीकरण की नीति के…

39 mins ago

वाजपेयी काल के विनिवेश का घड़ा फूटा, शौरी समेत 5 लोगों पर केस दर्ज़

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अलग बने विनिवेश (डिसइन्वेस्टमेंट) मंत्रालय ने कई बड़ी सरकारी…

1 hour ago

बुर्के में पकड़े गए पुजारी का इंटरव्यू दिखाने पर यूट्यूब चैनल ‘देश लाइव’ को पुलिस का नोटिस

अहमदाबाद। अहमदाबाद क्राइम ब्रांच की साइबर क्राइम सेल के पुलिस इंस्पेक्टर राजेश पोरवाल ने यूट्यूब…

2 hours ago

खाई बनने को तैयार है मोदी की दरकती जमीन

कल एक और चीज पहली बार के तौर पर देश के प्रधानमंत्री पीएम मोदी के…

3 hours ago

जब लोहिया ने नेहरू को कहा आप सदन के नौकर हैं!

देश में चारों तरफ आफत है। सर्वत्र अशांति। आज पीएम मोदी का जन्म दिन भी…

13 hours ago

मोदी के जन्मदिन पर अकाली दल का ‘तोहफा’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शान में उनके मंत्री जब ट्विटर पर बेमन से कसीदे काढ़…

14 hours ago