Categories: बीच बहस

रामराज्य के निशाने पर दलित और महिलाएं!

पिछले दिनों सोशल मीडिया पर रामराज के पैरवीकारों ने बिहार में जंगलराज की आशंका के विरुद्ध अभियान छेड़ दिया था और यहाँ तक कहा था कि अभी भी विदेशों में भारत को झाड़फूंक और सपेरों का देश कहा जाता है। इन पोस्टों को अभी लोग भूले नहीं हैं कि इस बीच यूपी के कानपुर से सन्तान प्राप्ति के लिए नरबलिकी एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आ गयी है। यह न केवल 21वीं शताब्दी के कम्प्यूटर युग पर पर सवाल कर रही है बल्कि यह भी प्रदर्शित कर रही है कि भारत के एक बड़े हिस्से के लोग आज भी अन्धविश्वास, कूपमन्डूकता, तन्त्र-मन्त्र और चमत्कार से ऊपर नहीं उठ पाए हैं।

बिहार में भाजपा हार जाती तो जंगल राज वापस आ जाता पर यूपी में तो बहुमत का रामराज है। पर महिलाओं और बच्चों के विरुद्ध अपराध रुकने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। अब तक पूरे प्रदेश में बड़ी संख्या में पुलिस मुठभेड़ में पैर में गोली लगने के बाद अपराधी गिरफ्तार किये जा चुके हैं, माफिया की सम्पत्तियां या तो ध्वस्तीकरण की जद में हैं या कुर्क की जा रही हैं। लेकिन अपराध पर नियन्त्रण नहीं हो पा रहा है।

गौरतलब है कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार 2018 से 2019 के बीच उत्तर प्रदेश राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध के सबसे ज्यादा 59,853 केस सामने आए। उत्तर प्रदेश में ही पाक्सो एक्ट  के तहत बच्चियों के खिलाफ अपराध के सबसे ज्यादा 7,444 केस सामने आए हैं। दहेज के मामलों से लेकर अनुसूचित जाति के खिलाफ अपराध में उत्तर प्रदेश का नाम सबसे आगे है।

सन्तान प्राप्ति के लिए नरबलि

उत्तर प्रदेश के कानपुर में दिवाली की रात हुई छह साल की बच्ची की हत्या मामले में पुलिस ने दिल को दहला देने वाला खुलासा किया है। पुलिस ने मामले में दंपति समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। बच्ची की हत्या काले जादू व तंत्र-मंत्र के चक्कर में हुई थी। दंपति की कोई संतान नहीं थी, इसलिए उन्होंने अपने भतीजे से बच्ची की हत्या कराई। भतीजे ने अपने एक दोस्त के साथ मिलकर पहले मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और गला दबाकर उसकी हत्या कर दी थी। इसके बाद लिवर निकालकर चाचा-चाची को दे दिया। चाचा-चाची ने लिवर का कुछ हिस्सा खाया और बाकी कुत्ते को खिला दिया था। हत्याकांड को अंजाम देने के लिए दंपति ने भतीजे को 500 रुपए और उसके दोस्त को 1000 रुपए दिए थे।

घाटमपुर थाना क्षेत्र के भदरस गांव के एक शख्स की 7 साल की बेटी दिवाली पर शनिवार शाम पड़ोस की दुकान पर कुछ सामान लेने गई थी, लेकिन घर नहीं लौटी। परिजन रात में उसकी तलाश करते रहे, पुलिस को भी सूचना दी। सुबह काली मंदिर के पास कुछ लोगों को बच्ची का क्षत-विक्षत शव मिला। शरीर पर कपड़े नहीं थे। पास में ही खून से सनी उसकी चप्पलें पड़ी थीं। मौका-ए-वारदात पर पड़ताल में तंत्र-मंत्र के कारण वारदात को अंजाम देने का मामला सामने आया। ऐसा इसलिए भी क्योंकि घटना दिवाली की रात की थी। इस दिन अघोरी साधना वाले अनुष्ठान करते हैं, दूसरा यह कि शव काली मंदिर के सामने मिला था। शरीर के कई अंदरूनी अंग भी गायब थे। दंपति को विश्वास था कि अगर किसी बच्ची का लिवर वह अपनी पत्नी के साथ मिलकर खाए तो संतान की प्राप्ति होगी।

फतेहपुर में दलित बहनों का शव तालाब में मिले

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर में डबल मर्डर का मामला सामने आया है। यहां दो सगी दलित बहनों (12 साल और 8 साल) के शव सोमवार रात गांव के बाहर तालाब में मिले। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर दोनों शवों को तालाब से बाहर निकलवाया। परिजन के मुताबिक, दोनों बहनों के हाथ पुआल से बंधे थे। सिर और कान पर किसी धारदार हथियार से चोट के निशान थे। दोनों बच्चियों की एक-एक आंख भी फोड़ दी गई थी।’ परिजन ने दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताई है। घटना असोथर थाना इलाके की है।

सोमवार शाम दोनों बहनें चने की भाजी लेने के लिए खेतों की तरफ गई थीं। जब वह देर शाम तक घर वापस नहीं लौटीं तो परिजन ने खोजबीन की। देर रात दोनों के शव तालाब में मिले। मां ने आशंका जताई कि एक बेटी से दुष्कर्म किया गया होगा। जब दूसरी बेटी ने विरोध किया होगा तो दोनों की आंखें फोड़कर हत्या कर शव को तालाब में फेंक दिया गया।

बाल यौन शोषण में जूनियर इंजीनियर गिरफ्तार

केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के चित्रकूट से सिंचाई विभाग के एक जूनियर इंजीनियर को बच्चों का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपी 10 साल में 50 से ज्यादा बच्चों का यौन शोषण कर चुका है। वह बच्चों के साथ अश्लील फोटो और वीडियो बनाकर ऑनलाइन बेचता था। आरोपी इंजीनियर रामभवन ने बच्चों के साथ घिनौनी करतूत को चित्रकूट, हमीरपुर और बांदा में अंजाम दिया। सीबीआई ने आरोपी के पास से 8 मोबाइल फोन, 8 लाख कैश, लैपटॉप, सेक्स टॉय, पेन ड्राइव, मेमोरी कार्ड और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद किए हैं।

पूछताछ में आरोपी रामभवन ने बताया कि वह 5 से 16 साल के बच्चों को शिकार बनाता था। उन्हें जाल में फंसाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का लालच देता था। आरोपी के ईमेल की जांच से पता चला है कि आरोपी अश्लील फोटो और वीडियो शेयर करने के लिए देश-विदेश के कई गिरोह के संपर्क में था। आरोपी सोशल मीडिया पर भी यह सामाग्री शेयर करता था। पीड़ित परिवारों को तस्वीरें दिखाकर ब्लैकमेल कर पैसों की मांग कर रहा था।

बुलंदशहर में रेप पीड़िता ने खुदकुशी की

बुलंदशहर में एक 19 साल की रेप विक्टिम ने खुदकुशी कर ली है। पुलिस पर निष्क्रियता का आऱोप है। 24 अक्तूबर को अनूपशहर पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। परिवार का कहना है कि पुलिस कार्रवाई ही नहीं कर रही थी तो परेशान और दुखी बेटी ने आत्महत्या कर ली। अब सुसाइड के बाद 19 नवंबर को हरियाणा के फरीदाबाद से आरोपी गिरफ्तार किया गया है।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

This post was last modified on November 18, 2020 10:38 am

Share
%%footer%%