Wednesday, October 27, 2021

Add News

राजस्थान और केरल में सर्पदंश से हत्या का नया ट्रेंड

ज़रूर पढ़े

दुनियाभर में सर्पदंश से मौत की हर साल करीब 50 लाख घटनाएं होती हैं। इनमें से करीब एक लाख लोगों की मौत हो जाती है। इनमें से तकरीबन आधी मौतें भारत में होती हैं। डब्लूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 2000 से 2019 के बीच सांप के काटने से हुई मौतों का आंकड़ा करीब 12 लाख हैं। यानी देश में हर साल औसतन 58 हजार लोगों की सांप के काटने से मौत हो जाती है। इसे हादसा माना जाता है। लेकिन पिछले दिनों उत्तर पश्चिम के राजस्थान और सुदूर दक्षिण के केरल से दो अनोखे मामले सामने आये जिसमें किसी की हत्या के लिए जहरीले सांप का इस्तेमाल हथियार के तौर पर किया गया।

केरल की एक अदालत ने बुधवार को सूरज को उम्रकैद की सजा सुनाई और अपनी 25 वर्षीय विकलांग पत्नी उथरा की हत्या के लिए 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया। सूरज को अपनी 25 वर्षीय विकलांग पत्नी की उस पर भूखा कोबरा फेंक कर हत्या करने का दोषी पाया गया था, जब वह सो रही थी। केरल की अदालत ने पति सूरज को उम्रकैद की सजा सुनाते हुए ₹5लाख का जुर्माना लगाया।

अपर सत्र न्यायाधीश मनोज एम कि अदालत ने कोल्लम ने इस अनूठे मामले में सजा सुनाई, जहां पति ने सर्पदंश से मौत के लिए प्रेरित करने के लिए अपनी सो रही पत्नी को भूख से मरा हुआ कोबरा फेंक कर हत्या कर दी। मई 2020 में जो घटना हुई, वह सूरज की अपनी पत्नी को सांप से मारने की दूसरी कोशिश थी। उनका पहला प्रयास असफल साबित हुआ था, लेकिन उसी की रिपोर्ट ने सूरज के खिलाफ मामला मजबूत किया।

अदालत ने सोमवार को सूरज को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या), 307 (हत्या का प्रयास), 328 (जहर से चोट पहुंचाना) और 201 (अपराध के सबूतों को गायब करना) के तहत दोषी पाया था।मार्च 2020 में 27 वर्षीय सूरज ने पहली बार सोते हुए उथरा पर एक जहरीले भूखे सांप को रखकर अपनी पत्नी की हत्या करने का प्रयास किया था, लेकिन वह उस हमले से बच गई थी। हालाँकि, सूरज मई 2020 में अपने दूसरे प्रयास में सफल रहा, जब उसने एक घातक भारतीय कोबरा का इस्तेमाल किया और इस बार, उथरा, जो अपने जीवन के पहले प्रयास से उबर रही थी, ने कोबरा के घातक काटने के कारण दम तोड़ दिया।

सूरज के परिवार ने शुरू में इस घटना को एक प्राकृतिक सर्पदंश के रूप में खारिज करने का प्रयास किया, उथरा के परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और दहेज उत्पीड़न का आरोप लगाया। जांच में सुरेश नाम के एक सांप-हैंडलर की गिरफ्तारी हुई, जो सरकारी गवाह बन गया और उसने सूरज को दोनों सांपों की आपूर्ति करने की बात स्वीकार की। पूछताछ के दौरान सूरज ने अपना गुनाह कबूल कर लिया और कहा कि उसका मकसद आर्थिक फायदा उठाना था।

रिपोर्टों के अनुसार, राज्य पुलिस ने विभिन्न विशेषज्ञों की सहायता से एक विस्तृत जांच की और यहां तक कि सांप के काटने को फिर से बनाने और प्राकृतिक सर्पदंश और प्रेरित सर्पदंश के बीच के अंतर को समझने के लिए एक डमी का इस्तेमाल किया। सूरज के परिवार को घरेलू हिंसा और साजिश के लिए भारतीय दंड संहिता के तहत दंडनीय विभिन्न अपराधों के लिए भी दर्ज किया गया था, क्योंकि यह पाया गया था कि सूरज ने उथरा की मौत के बाद परिवार के परिसर के आसपास सोना दफनाया था।सूरज और उसके परिवार के खिलाफ घरेलू हिंसा के अन्य संबंधित मामले और वन विभाग द्वारा दर्ज एक मामला अभी भी लंबित है।

उच्चतम न्यायालय में अक्टूबर 2021 में राजस्थान का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। कथित तौर पर एक महिला ने सांप से कटवाकर अपनी सास की हत्या कर दी। सांप के काटने से हर साल भारत में हजारों लोगों की मौत होती है। इसे हादसा माना जाता है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट में एक अनोखा मामला सामने आया जिसमें किसी की हत्या के लिए जहरीले सांप का इस्तेमाल हथियार के तौर पर किया गया।

चीफ जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ के सामने यह अनोखा केस आया था। पीठ ने कहा कि एक बुजुर्ग महिला की हत्या के लिए जहरीले सांप का इस्तेमाल हथियार के तौर पर करना जघन्य अपराध है। सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान से जुड़े इस मामले में आरोपी को जमानत देने से इंकार किया।

महिला ने अपने आशिक और उसके दोस्तों के साथ मिलकर झुंझुनू जिले के एक संपेरे से जहरीले सांप का इंतजाम किया। सांप को एक बैग में डाला गया। 2 जून 2018 की रात को महिला ने सांप वाले बैग को अपनी सास के पास रख दिया। सुबह बुजुर्ग महिला मृत पाई गईं जिस अस्पताल में उसे ले जाया गया उसने इसे सर्पदंश से मौत का मामला बताया। लेकिन जांच-पड़ताल के बाद पुलिस ने बहू और एक शख्स के बीच 100 से ज्यादा बार फोन पर हुई बातचीत के आधार पर बहू को पकड़ लिया और उसके आशिक और आशिक के एक दोस्त को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी कृष्ण कुमार के वकील आदित्य चौधरी की कोर्ट में दलील थी कि आरोपी के खिलाफ सीधे तौर पर कोई भी सबूत नहीं मिले है। उस पर सिर्फ आरोप है कि उसने अपने दोस्त के साथ जाकर सपेरे से 10 हजार रुपये में जहरीला सांप खरीदा था। आरोपी के वकील ने कहा कि उसका दोस्त सांप या जहर क्यों ले रहा है इसकी जानकारी उसे नहीं थी। उसे बताया गया था कि दवा के लिए इसका प्रयोग होगा। इसके अलावा आरोपी जहरीले सांप को लेकर महिला के घर भी नहीं गया था। आरोपी के वकील ने पीठ से गुजारिश करते हुए कहा कि आरोपी इंजीनियरिंग का स्टूडेंट है और उसके भविष्य को देखते हुए उसे बेल दी जाए।

आरोपी के वकील की दलीलों पर पीठ ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि राजस्थान में हत्या के लिए किसी जहरीले सांप का इस्तेमाल करना बहुत कॉमन हो गया है। लोग सपेरे से जहरीला सांप ले आते हैं और इसके जरिए हत्या कर देते हैं। एक लोग सपेरे से जहरीला सांप ले आते हैं और इसके जरिए हत्या कर देते हैं। यह बहुत ही नया तरीका अपनाया है। आप कथित तौर पर इस साजिश का हिस्सा थे और संपेरे के जरिए आपने हत्या में इस्तेमाल हथियार (सांप) की व्यवस्था की। आप इस स्टेज में जमानत पर रिहा करने के लायक नहीं हैं।

यह मामला साल 2019 की राजस्थान के झुंझुनू जिले के एक गांव का है। अल्पना नाम की युवती की शादी आर्मी के एक जवान सचिन से हुई थी। 12 दिसंबर 2018 को दोनों शादी के बंधन में बंधे थे। आरोप है कि शादी के बाद भी अल्पना का जयपुर के रहने वाले मनीष से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। अल्पना और उनकी सास सुबोध देवी गांव में एक साथ रहती थीं। अल्पना के पति और देवर सेना में थे, तो उनकी पोस्टिंग घर से दूर ही थी। ससुर राजेश भी नौकरी के कारण घर से दूर ही रहते थे। इस बीच अल्पना अपने प्रेमी मनीष से अक्सर बात करती थी। जब उसकी सास को इस अफेयर की भनक लगी तो वह हमेशा फोन पर रहने के लिए उसे ताना मारने लगी।

जब सास इस अफेयर के बीच आने लगी तो अल्पना और उसके प्रेमी मनीष ने हत्या की योजना बनाई। 2 जून 2019 को सांप के डसने से सुबोध देवी की मौत हो गई। उसकी मौत के डेढ़ महीने बाद, अल्पना के ससुराल वालों को उस पर शक हुआ और उन्होंने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज कराई और पुलिस को कुछ सबूत भी सौंपे। जिसमें अल्पना और मनीष के फोन नंबर भी शामिल थे।

पुलिस ने जब दोनों की कॉल डिटेल्स खंगाली तो 2 जून को अल्पना और मनीष के बीच 124 और अल्पना और कृष्ण कुमार के बीच 19 कॉल की गईं। इन नंबरों के बीच कुछ मैसेज भी शेयर किए गए। पुलिस ने अल्पना, मनीष और उसके दोस्त कृष्ण कुमार को सुबोध देवी की हत्या में शामिल माना। उसे 4 जनवरी, 2020 को गिरफ्तार कर लिया गया, तभी से वो जेल में है। पुलिस के मुताबिक सास के तानों से तंग आकर अल्पना ने उसे मारने की योजना बनाई। प्रेमी और उसके दोस्तों के साथ मिलकर झुझुनू जिले के एक संपेरे से जहरीले सांप का इंतजाम किया। सांप को एक बैग में डाला गया। 2 जून 2018 की रात को महिला ने सांप वाले बैग को अपनी सास के पास रख दिया। सुबह बुजुर्ग महिला मृत पाई गई। जिस अस्पताल में उसे ले जाया गया, वहां इसे सर्पदंश से मौत का मामला बताया गया।
(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

मंडियों में नहीं मिल रहा समर्थन मूल्य, सोसाइटियों के जरिये धान खरीदी शुरू करे राज्य सरकार: किसान सभा

अखिल भारतीय किसान सभा से संबद्ध छत्तीसगढ़ किसान सभा ने 1 नवम्बर से राज्य में सोसाइटियों के माध्यम से...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -