Tuesday, December 7, 2021

Add News

सुप्रीम कोर्ट उ.प्र. राज्य उपभोक्ता आयोग के सदस्यों के कम वेतन भत्तों की जाँच करेगा

ज़रूर पढ़े

उच्चतम न्यायालय के जस्टिस संजय कृष्ण कौल और जस्टिस एम सुन्दरेश कि पीठ राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग, उ.प्र. के सदस्यों से प्राप्त अभ्यावेदन के कागजात की जांच करने पर सहमत हो गयी है। राज्य आयोग के सदस्यों को जिला न्यायाधीश-सुपरटाइम वेतनमान के सेवानिवृत्त न्यायाधीश के वेतन, भत्ते और अन्य अनुलाभ नहीं दिए जा रहे हैं जिन्हें प्राप्त करने के वे हकदार हैं , जो राज्य के समान वेतनमान के एक मौजूदा जिला न्यायाधीश के लिए अनुमन्य हैं। इस आदेश के साथ ही पीठ ने शुक्रवार को ट्रिब्यूनल में रिक्तियों को समय पर भरने में विफल रहने के लिए केंद्र सरकार के खिलाफ अपना सख्त रुख दिखाते हुए कहा कि अगर सरकार ट्रिब्यूनल के साथ जारी रखने के इच्छुक नहीं है, तो उसे उन्हें खत्म कर देना चाहिए।

पीठ ने टिप्पणी की कि अगर सरकार ट्रिब्यूनल नहीं चाहती है तो अधिनियम को खत्म कर दे! रिक्तियों को भरने के लिए हम अपने अधिकार क्षेत्र को बढ़ा रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस मुद्दे को देखने के लिए न्यायपालिका को बाध्य किया गया है,यह बहुत अच्छी स्थिति नहीं है।

पीठ ने स्पष्ट किया कि 11 अगस्त 2021 को उसके द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार राज्य उपभोक्ता आयोगों में रिक्तियों को भरने की प्रक्रिया को बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच द्वारा 14सितम्बर 2021 को कुछ उपभोक्ता संरक्षण नियमों को रद्द करने के फैसले से बाधित नहीं किया जाना चाहिए।

यह मुद्दा तब सामने आया जब उच्चतम न्यायालय देश भर में उपभोक्ता आयोगों में रिक्तियों से निपटने के लिए उठाए गए मामले पर विचार कर रहा था। मामले में एमिकस क्यूरी, वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन ने नियमों, 2020 के नियम 3(2)(बी), नियम 4(2)(सी) और नियम 6(9) को रद्द करने के बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले से पीठ को अवगत कराया। उन्होंने प्रस्तुत किया कि अन्य राज्यों के लिए एक स्पष्टीकरण की आवश्यकता है जहां नियमों को उसके साथ ही आगे बढ़ने के लिए लागू नहीं किया गया है।

14 सितंबर, 2021 को जस्टिस सुनील शुक्रे और जस्टिस अनिल किलोर की बॉम्बे हाई कोर्ट (नागपुर बेंच) की पीठ ने नए उपभोक्ता संरक्षण नियम 2020 के कुछ प्रावधानों को रद्द कर दिया, जो राज्य उपभोक्ता आयोग और जिला फोरम में फैसला देने वाले सदस्यों के लिए न्यूनतम 20 साल और 15 साल का पेशेवर अनुभव निर्धारित करते हैं। एमिकस क्यूरी ने प्रस्तुत किया था कि अन्य राज्यों को आगे बढ़ने के लिए कुछ स्पष्टीकरण की आवश्यकता होगी जहां नियमों का उल्लंघन नहीं किया गया है ताकि अन्य राज्यों में प्रक्रिया में देरी न हो।

पीठ ने स्पष्ट किया कि बॉम्बे हाईकोर्ट का फैसला पहले से की गई नियुक्ति और अन्य राज्यों में अनुकरण की जाने वाली प्रक्रियाओं में बाधा नहीं डालेगा। पीठ ने यह कहते हुए एक आदेश पारित किया: कि हमने 11अगस्त 2021 को यह सुनिश्चित करने के लिए एक निर्देश जारी किया था कि उपभोक्ता मंचों के अध्यक्ष और सदस्यों की रिक्तियों को भरा जाए। इसके बाद विद्वान एमिकस क्यूरी ने बताया कि कुछ नियमों को बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने रद्द कर दिया था और अन्य राज्यों में पहले से शुरू की गई प्रक्रिया पर इसका असर हो सकता है। पीठ ने सुनवाई 16 नवंबर तक स्थगित की।

पीठ ने कहा कि सवाल यह है कि क्या 11/08/2021 में पारित हमारे व्यापक आदेशों के अनुसरण में विभिन्न राज्यों में शुरू की गई प्रक्रिया को इस फैसले के मद्देनज़र स्थगित रखा जाना चाहिए। रिक्तियों को भरने के महत्व पर विचार करने पर, हमारा विचार है कि समय-सीमा और प्रक्रियाओं को जारी रखना चाहिए क्योंकि कुछ मामलों में नियुक्तियां की गई हैं और अन्य में, नियुक्ति प्रक्रिया एक विकसित चरण में है। इस प्रकार, उस आदेश के अनुसरण में शुरू की गई प्रक्रिया को बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच के बाद के फैसले से बाधित नहीं किया जाना चाहिए, जो कि उस संबंध में सरकार द्वारा दायर की जाने वाली आगे की कार्यवाही का अंतिम परिणाम हो सकता है।

पीठ ने कहा कि जहां तक महाराष्ट्र का संबंध है, हमें सूचित किया गया है कि कोई नियुक्ति नहीं की गई है और निर्णय के मद्देनज़र प्रक्रिया राज्य और केंद्र सरकार द्वारा दायर किए जाने वाली एसएलपी के परिणाम पर निर्भर करेगी और क्या उन कार्यवाही में कोई अंतरिम आदेश दिया गया है। पीठ ने स्पष्ट किया है कि राज्य और केंद्र सरकार बॉम्बे हाईकोर्ट के उक्त फैसले को चुनौती देते हुए एक एसएलपी दायर करने के लिए स्वतंत्र हैं। पीठ ने पहले स्पष्ट किया था कि बॉम्बे हाईकोर्ट उपभोक्ता संरक्षण नियमों की वैधता की अपनी घोषणा देने के लिए स्वतंत्र होगा, चाहे उच्च्तम न्यायालय के समक्ष स्वत: संज्ञान का मामला कुछ भी हो।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार होने के साथ कानूनी मामलों के जानकार हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

महाराष्ट्र निकाय चुनाव में ओबीसी के लिए 27 फीसद आरक्षण पर सुप्रीमकोर्ट की रोक

निकाय चुनाव में ओबीसी को 27 फीसद आरक्षण देने के मुद्दे पर महाराष्‍ट्र सरकार को उच्चतम न्यायालय में झटका...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -