Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

अश्वेतों की लाशें बनीं वोट का ‘ट्रम्प’ कार्ड

क्या विडंबना है कि दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र होने का दावा करने वाले संयुक्त राज्य अमेरिका में कोविड-19 वैश्विक महामारी से त्रस्त होने और गिरती अर्थव्यवस्था के बावजूद चुनाव में काले नागरिक की हत्या बनाम श्वेत नागरिक की हत्या चुनावी मुद्दा बना हुआ है। डेमोक्रेटिक उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप लगा रहे हैं कि वो काले नागरिक की हत्या की निंदा क्यों नहीं करता। वहीं रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन पर आरोप लगाते हैं कि वो श्वेत नागरिक के हत्यारे एंटीफा की निंदा नहीं कर सकते।

डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन ने पोर्टलैंड में दक्षिणपंथी श्वेत नागरिक की हत्या पर लिखा – “पोर्टलैंड में रात भर हमने जो घातक हिंसा देखी, वह अस्वीकार्य है। एक महान अमेरिकी शहर की सड़कों पर गोलीबारी अस्वीकार्य है।

मैं किसी भी तरह की हिंसा की निंदा करता हूं, चाहे वह लेफ्ट विंग की ओर से हो या राइट विंग की ओर से हो। और मैं डोनाल्ड ट्रम्प को भी ऐसा करने की चुनौती देता हूं।”

वहीं डोनाल्ड ट्रंप ने प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया- “धीमा जो बिडेन एंटीफा के अराजकतावादियों, ठगों और आंदोलनकारियों की आलोचना कब करने वाला है? वह कब बुरी तरह संचालित हो रहे और अपराधग्रस्त शहरों और राज्यों में नेशनल गार्ड लाने का सुझाव देने जा रहा है? याद रखें, वह क्रेजी बर्नी सुपर लिबरल का वोट नहीं खो सकता है! ”

काले नागरिक और श्वेत नागरिक की हत्या पर डोनाल्ड ट्रम्प के दो अलग सुर

पिछले एक सप्ताह के भीतर (23, 29 अगस्त) दक्षिणपंथी नस्लवादी डोनाल्ड टंम्प शासित संयुक्त राज्य अमेरिका में दो अलग नस्लों के दो नागरिकों की गोली मारने की घटना घटित हुई। 23 अगस्त को काले नागरिक जैकब ब्लैक को श्वेत पुलिसकर्मियों द्वारा पीठ पर 7 गोलियां मारकर पैरलाइज कर दिया गया। और उस हालत में भी उन्हें हथकड़ी पहनाकर अस्पताल ले जाया गया।

वहीं दूसरी घटना में पोर्टलैंड में ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ प्रदर्शनकारियों और कट्टरपंथी श्वेत नस्लवादी ट्रंप समर्थकों के बीच हुए झड़प में एक ट्रंप समर्थक Aaron “Jay” Danielson की गोली लगने से मौत हो गई।

काले नागरिक जैकब ब्लैक को गोली मारे जाने की घटना पर 6 दिन से पुरी तरह से खामोश दक्षिणपंथी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपने श्वेत नस्लवादी समर्थक एरोन डेनियल्सन की हत्या पर ट्विटर से लेकर मीडिया तक बस बोले ही जा रहे हैं।

जैकब को गोली मारने की घटना पर ट्वीट में ये लिखने वाले कि- “अमेरिकी सड़कों पर लूटपाट, आगजनी, हिंसा और अराजकता के लिए नहीं खड़ा हूँ। आज, मैं संघीय कानून प्रवर्तन और नेशनल गार्ड को केनोशा, वाई कानून और व्यवस्था बहाल करने के लिए भेजूंगा!”

वहीं पोर्टलैंड की घटना पर वो ट्वीट करते हुए लिखते हैं कि वामपंथी मेयर टेड व्हीलर के चलते ही 95 दिन से पोर्टलैंड में प्रोटेस्ट चला आ रहा है। इसी ने एरोन की जान ली है। लेकिन अब मेरे नेशनल गार्ड इसे एक घंटे में खत्म कर देंगे।

वहीं पोर्टलैंड के मेयर टेड व्हीलर ने घटना पर कहा है – “मेरा मन भारी है। मैं हिंसा की निंदा करता हूँ। पिछली रात की त्रासदी को दोहराया नहीं जा सकता।”

काले नागरिकों की हत्याओं के सिलसिले के बीच राष्ट्रपति चुनाव

मई से अब तक चार काले नागरिकों की पुलिस द्वारा गोली मारकर हत्या की जा चुकी है। जैकब ब्लेक को गोली मारने की घटना सामने आते ही प्रदर्शनकारियों और अमेरिकी शहरों में पुलिस हिंसा का नया चक्र शुरू हो गया। जिसमें जॉर्ज फ्लॉयड (George Floyd) और ब्रेयोना टेलर (Breonna Taylor) की मौतें भी शामिल थीं। जैकब ब्लेक को गोली मारने से एक रात पहले ही लफेट, लुइसियाना में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया, क्योंकि  पुलिस ने एक कन्विनिंयस स्टोर के बाहर एक 31 वर्षीय एक काले व्यक्ति – ट्रेफोर्ड पेलरिन (Trayford Pellerin) की हत्या कर दी थी।

जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या पर खुलकर ‘लूटिंग स्टार्ट, शूटिंग स्टार्ट’ और ‘प्रदर्शनकारियों के सामने पुलिस को कमजोर न पड़ने’ की नसीहत देने वाले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जैकब ब्लेक नामक काले नागरिक की पीठ पर श्वेत पुलिसकर्मी द्वारा 7 गोली मारकर उसे पैरलाइज करने की घटना पर दुनिया भर के अपने समकक्षी दक्षिणपंथी शासकों की तरह चुप्पी पहन लेते हैं।

ट्रम्प का कहना है यदि हमने व्यवस्थागत सुधार नहीं किया जिसके लिए कि इस वक़्त अमेरिका मांग रहा है तो हम लगातार हैशटैग के बाद हैशटैग, प्रोटेस्ट के प्रोटेस्ट,और अमेरिका के तमाम शहरों का जलना देखते रहेंगे।

क्या अमेरिकी चुनाव काला बनाम श्वेत की नस्लवादी राजनीति में बदल चुका है

बेशक ऐसा हो चुका है। डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन ने जैकब ब्लेक पर पुलिस द्वारा गोली मारने की घटना को “देश की आत्मा को छलनी करने वाला” बताते हुए घटना की निंदा की है और पीड़ित परिवार से मिल चुके हैं।

जो बिडेन अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो पोस्ट करते हुए लिखते हैं- “एक बार फिर, एक काला व्यक्ति- जैकब ब्लेक — पुलिस द्वारा मारा गया। अपने बच्चों के सामने। इसने मुझे दुखी कर दिया है। क्या हम देश को ऐसा ही बनाना चाहते हैं? अनावश्यक हिंसा हमारे घावों को नहीं भरने देगी। हम हिंसा का खात्मा चाहते हैं और न्याय की मांग करने के लिए शांतिपूर्वक एक साथ आना चाहिए।”

वहीं उपराष्ट्रपति उम्मीदवार कमला हैरिस भी जैकब ब्लेक की पीठ पर 7 गोलियाँ मारे जाने की निंदा करते हुए कहा है- “अगर वह सशस्त्र नहीं था, तो बल का उपयोग करके एक आदमी की पीठ पर बिल्कुल नजदीक से 7 गोलियां मार देना, मुझे नहीं दिखता कि किसी के पास भी उस घटना को न्यायसंगत ठहराने का कोई भी कारण हो सकता है।”

वहीं वर्तमान राष्ट्रपति और रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप पूरे मामले पर खुद तो चुप्पी साधे हुए हैं पर जैकब को पुलिस द्वारा गोली मारने का विरोध करने वालों को आड़े हाथ ले रहे हैं। इतना ही नहीं जैकब ब्लेक को पुलिस द्वारा गोली मारने के विरोध में उतरे NBA को उन्होंने राजनीतिक संगठन करार देते हुए कहा – “मुझे नहीं लगता कि ये कोई अच्छी बात है, कि खिलाड़ी विरोध कर रहे हैं। वे एक राजनीतिक संगठन की तरह हो गए हैं और ये अच्छी चीज नहीं है। मुझे नहीं लगता है कि ये खेल और देश के लिए अच्छी बात है। ट्रंप के ये बयान बास्केट बाल, फुटबाल, बेसबॉल और टेनिस की टीम और खिलाड़ियों द्वारा पहले से निर्धारित खेल में हिस्सा लेने से इन्कार करने के बाद आया है।

इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने NFL खिलाड़ियों की आलोचना करते हुए टीम मालिक से उन स्टार खिलाड़ियों को निकाल फेंकने के अपील की थी, जो पुलिस द्वारा जैकब की पीठ में 7 गोलियां मारने की बर्बरता के विरोध में घुटने पर बैठकर विरोध कर रहे थे। इतना ही नहीं विरोधस्वरूप खिलाड़ियों ने जो टी शर्ट पहनी थी उसमें भी 7 गोलियों और खून के निशान बने थे। ये आंदोलन कोलिन केपरनिक (Colin Kaepernick) ने शुरु की थी।

कौन था जैकब ब्लेक

जैकब ब्लेक एक 29 वर्षीय व्यक्ति था जिसे 23 अगस्त को पुलिस द्वारा उसके तीन बच्चों के सामने पीठ पर 7 बार गोली मारकर पैरलाइज कर दिया गया और फिर हथकड़ी लगाकर अस्पताल ले जाया गया।। पुलिस द्वारा जब जैकब को गोली मारा गया उस समय वो निहत्था था।

मंगलवार 25 अगस्त को मिलवॉकी अस्पताल (Milwaukee hospital) में जैकब की सर्जरी की गई। एक गोली ने उसकी एक भुजा में जख्म किया। दूसरी ने किडनी, लीवर, और स्पाइनल कॉर्ड को। एक गोली स्पाइनल कॉर्ड को वेधती हुई निकली। जैकब के पेट में भी छेद था। सर्जरी द्वारा लगभगा उनका पूरा कोलोन और छोटी आँत निकाल दिया गया है। ये कहना है परिवार के अटॉर्नी जनरल पैट्रिक साल्वी जूनियर का। बता दें कि पुलिस द्वारा उस वक़्त 7 गोलियां मारी गई थीं जब वो अपनी एसयूवी कार में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे थे। गाड़ी में 3 साल, 5 साल और 8 साल के तीन बेटे बैठे हुए थे।

विरोध प्रदर्शन

जैकब ब्लेक को पुलिस द्वारा गोली मारने की घटना के बाद नस्लीय अन्याय और पुलिस बर्बरता के खिलाफ़ एक नया विरोध प्रदर्शन शुरु हो गया। तब से हर रोज, रात में किनोशा शहर की तमाम गलियों में विरोध मार्च निकलता है।

शहर में विरोध प्रदर्शन के हिंसक हो जाने से काफी क्षति भी हुई है। कई कार और इमारतों को आगे के हवाले कर दिया गया है।

वहीं केनोशा, विस्कॉन्सिन पुलिस द्वारा 9 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया गया।

29 अगस्त को मॉर्टिन लूथर किंग के 57वीं एनिवर्सरी के अवसर पर वॉशिंगटन में नस्लवाद विरोधी मार्च निकाला गया। जबकि शनिवार को जैकब ब्लेक के परिवार की अगुवाई में एक विरोध मार्च किनोशा में आयोजित किया गए जिसमें हजारों लोगों ने हिस्सा लिया।

जैकब को गोली मारे जाने के बाद से पूरे राज्य में हिंसक विरोध प्रदर्शन से हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। टोनी इवर्स ने पूरे राज्य में आपातकाल घोषित कर दिया है। और किनोशा में अतिरिक्त 125 विस्कोन्सिन नेशनल गार्ड को तैनात किया है।

मंगलवार को विरोध प्रदर्शन के दौरान ही एक 17 वर्षीय काइल रिटेनहाउस (Kyle Rittenhouse) द्वारा जोसेफ रोजेनबॉम (Joseph Rosenbaum 36 वर्ष), और एंथनी ह्युबर (Anthony Huber 26 वर्ष) की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

प्रदर्शनकारियों ने न्यूयॉर्क सिटी, वॉशिंगटन डीसी और मिनियापोलिस समेत कई राज्यों में विरोध मार्च निकाला है।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि  हम जैकब को गोली मारे जाने की घटना के बाद से काले नागरिक के तौर पर अमेरिका में बेहद डरे हुए हैं।

फुटबाल, टेनिस, बेसबॉल, बास्केट बॉल कई स्टार खिलाड़ी और टीमों ने जैकब ब्लेक को गोली मारे जाने के विरोध में प्लेऑफ गेम का बॉयकाट कर दिया है।

WNBA के खिलाड़ियों ने जैकब ब्लेक को गोली मारे जाने का विरोध दर्ज़ करवाया। सभी खिलाड़ी जैकब ब्लेक को मारी गई गोली की तर्ज पर टीशर्ट में पीछे गोलियों की 7 सुराख वाला टीशर्ट पहन कर कोर्ट में उतरे।

कनाडाई गायक Weeknd ने VMAs पुरस्कार लेने के बाद शुक्रिया के बजाय Breonna Taylor और Jacob Blake को न्याय दिलाने और समाज जागरुकता लाने की बात की।

जैकब ब्लेक के माता-पिता बहन और बेटों की प्रतिक्रिया

जैकब ब्लेक की माँ जूलिया जैक्सन ने अमेरिका में फैले संस्थागत और सामाजिक नस्लवाद पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा- “स्पष्ट रूप से आप अभी देख सकते हैं कि मेरे पास सुंदर भूरी त्वचा है, लेकिन अपने हाथ पर एक नज़र डालें और उसकी छाया पर भी, वह भी सुंदर है,” “हम जो हैं उससे नफ़रत करने की हिमाकत करते हैं। हम इंसान हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “कोई भी दूसरे से श्रेष्ठ नहीं है। एकमात्र सर्वोच्च भगवान खुद है। कृपया हमारे राष्ट्र के लिए प्रार्थना करना शुरू करें। हम यूनाइटेड स्टेट अमेरिका हैं। लेकिन क्या वाकई में हम यूनाइटेड हुए हैं ?”

विरोध प्रदर्शन के हिंसक होने पर दुःख प्रकट करते हुए कहा है- “हिंसा उसके बेटे को न्याय दिलाना नहीं है। तोड़ फोड़ और हिंसा से मेरे बेटे को खुशी नहीं मिलेगी। आप सब लोग सिर्फ़ मेरे बेटे कि लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के घाव भरने के लिए प्रार्थना करिए।”

जैकब के पिता ने अपने बेटे को गोली मारे जाने को – “निर्ममतापूर्ण हत्या का प्रयास” बताते हुए कहा है- “ उन्होंने मेरे बेटे को सात बार मारा…..सात बार गोलियां मारना उनके लिए मायने नहीं रखता होगा पर मेरे लिए मेरा बेटा मायने रखता है। वो एक मनुष्य था और वो मायने रखता है।”

जैकब की बहन ने अपने भाई को पुलिस द्वारा गोली मारकर पैरलाइज करने की निंदा करते हुए पुलिस व्यवस्था को खत्म करने की माँग की है।

जैकब के बच्चे पूछ रहे हैं कि –“पुलिस ने उनके पिता की पीठ में गोली क्यों मारी?”

केनोशा पुलिस का आरोप

केनोशा प्रोफेशनल पुलिस एसोसिएशन द्वारा जारी स्टेटमेंट के मुताबिक़- 3 मई को एक घटना जिसमें महिला जैकब पर यौन हमला, घरेलू हिंसा, के बाद जैकब ब्लेक को केनोशा स्थित पीड़ित महिला के घर जाने पर मनाही थी। पुलिस ने जैकब ब्लेक के खिलाफ़ यौन हमला, जबर्दस्ती घर में घुसने, और घरेलू हिंसा के मामलों में केस दर्ज़ किया था। और जुलाई में उसे गिरफ्तार करने का वारंट जारी किया था।

रविवार 23 अगस्त को पुलिस के पास 9-11 कॉल आया कि जैकब ब्लेक उस महिला के घर पर है। फोन आने के बाद ही प्रतिक्रियात्मक कार्रवाई के लिए निकले थे। रिकॉर्ड के मुताबिक कॉल आने के तीन मिनट अंदर ही जैकब ब्लेक को 7 गोली मारने की घटना घटित हुई थी।

पुलिस का आरोप है कि उसने अपने कार के कारबोर्ड में एक चाकू छुपा रखा था।

केनोशा के शेरिफ का कहना है कि उन्होंने जैकब ब्लेक को गोली मारने का वीडियो नहीं देखा है।

वहीं पिता ने पुलिस के आरोप का खंडन करते हुए पूछा है कि क्या पुलिस की आँखों में एक्सरे फिट थी बिना कार की तलाशी लिए वो कैसे जान गए कि कार की कार बोर्ड के नीचे चाकू है।

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

This post was last modified on September 2, 2020 7:57 pm

Share