Subscribe for notification

बीच बहस

लोकतांत्रिक संस्थाएं भी मना रही हैं अपनी मौत का जश्न

भारतीय समाज के अपराधीकरण की प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई है। शुक्रवार की हैदराबाद की घटना और उसके बाद देश…

11 months ago

खूनी खेल के जंगली तमाशबीन!

सऊदी अरब में आज की दुनिया की सबसे बर्बर राजशाही चल रही है। इसकी एक पहचान है रियाद शहर का…

11 months ago

एनकाउंटर का यह जश्न पूरे समाज पर पड़ सकता है भारी

हैदराबाद की घटना के बाद पुलिस एनकाउंटर से अगर किसी को सबसे अधिक ख़ुशी मिली है तो वह उस लड़की…

11 months ago

हैदराबाद गैंग रेपः गुनहगारों को सजा नहीं है एनकाउंटर

हैदराबाद एनकाउंटर के बाद जश्न का माहौल है। पुलिस को मिठाइयां खिलाई जा रही हैं। तेलंगाना के मंत्री कह रहे…

11 months ago

‘वकील और जज आएंगे-जाएंगे लेकिन बेंच और बार के बीच सौहार्द बना रहना चाहिए’

उच्चतम न्यायालय में आये दिन अवमानना की धौंस देकर वरिष्ठ वकीलों को चुप कराने की बढ़ती प्रवृत्ति पर वरिष्ठ वकीलों…

11 months ago

जमशेदपुर में भ्रम : रघुवर या सरयू – मोदी ने किनके लिए मांगे वोट!

जमशेदपुर की रैली में मंगलवार को नरेंद्र मोदी के दो बयानों ने बीजेपी समर्थक मतदाताओं को भ्रम में डाल दिया…

11 months ago

एक कविता की कहानी

चर्चित पत्रकार रवीश कुमार ने हर्ष गोयनका के एक ट्विट के बारे में गोरख पांडे की कविता का जिक्र किया…

11 months ago

प्लांटेड खबरों की सुनारियों पर पवार के मास्टर स्ट्रोक की लुहारी

महाराष्ट्र में शिवसेना ने कांग्रेस-एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली है और उद्धव राज की शुरुआत हो चुकी है…

11 months ago

माहेश्वरी का मत: भारतीय मीडिया की अलग परिघटना हैं रवीश कुमार

रवीश कुमार के भाषणों को सुनना अच्छा लगता है । इसलिये नहीं कि वे विद्वतापूर्ण होते हैं ; सामाजिक-राजनीतिक यथार्थ…

11 months ago

माफ करिये निर्मला जी! हमारा राष्ट्रहित आपके राष्ट्रहित से मेल नहीं खाता

मेरा का नेटवर्क आज काम नहीं कर रहा है. किसी तरह 2 जी पर अब काम कर रहा है। इसका…

11 months ago