Friday, April 19, 2024

गुजरात: अवैध निर्माण को बचाने के लिए बनवाया राम मंदिर, मोदी और योगी की लगाईं मूर्तियां

नई दिल्ली। गुजरात के भरूच में एक स्क्रैप व्यापारी ने अवैध निर्माण को टूटने से बचाने के लिए अनोखा रास्ता ढूंढ निकाला हैै। जिसे देखकर भरूच-अंकलेश्वर शहरी विकास प्राधिकरण (बीएयूडीए) के अधिकारियों के पसीने छूट गए। व्यापारी मोहनलाल गुप्ता ने पिछले साल एक इमारत खरीदी जिसमें उसने एक अतिरिक्त मंजिल का निर्माण करवाया था। व्यापारी ने इस अवैध मंजिल को तोड़े जाने से बचाने के लिए भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की मूर्तियों के साथ एक मंदिर बनाया दिया। इसके अलावा उस मंदिर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मूर्तियां द्वारपाल के तौर पर मंदिर के बाहर लगवा दी।

मोहनलाल गुप्ता उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने इस मंदिर का उद्घाटन भी उसी दिन किया जिस दिन अयोध्या में 22 जनवरी को पीएम मोदी ने राम मंदिर का उद्घाटन किया था।

इस अवैध निर्माण की शिकायत अंकलेश्वर के गढ़खोल गांव में जनतानगर सोसायटी के निवासी मनसुख रखसिया ने की। जिसके के बाद BAUDA अधिकारियों ने इमारत का निरीक्षण किया। छत पर बने मंदिर के बारे में ताजा शिकायतों के बाद BAUDA के अधिकारियों ने मंगलवार 30 जनवरी को मौके का दौरा किया और पाया कि गुप्ता ने बगैर अनुमति के ही एक अतिरिक्त मंजिल बनवाया है।

BAUDA ने अब उन्हें जरूरी दस्तावेज जमा करने के लिए सात दिन का समय दिया है। हालांकि गुप्ता का कहना है कि जितेंद्र ओझा जिनसे उन्होंने पिछले साल संपत्ति खरीदी थी ने 2012 में गडखोल ग्राम पंचायत से अतिरिक्त मंजिल बनवाने की इजाजत पहले ही ले ली थी।

गुप्ता ने आरोप लगाया है कि कुछ लोग उसकी अतिरिक्त मंजिल देखकर जल रहे हैं और इसी कारण उन्होंने शिकायत की है। उन्होंने कहा कि “मैंने कुछ हिस्से तुड़वाकर संपत्ति में बदलाव करवाया है। कुछ लोग हैं जो मुझसे जलते हैं और ढांचा गिराने की धमकी दे रहे हैं। उन्होंने मुझसे पैसों की भी मांग की है। वे हमारी रिद्धि सिद्धि सोसायटी से दूर एक आवासीय सोसायटी में रहते हैं।”

11 जुलाई, 2023 को दर्ज रखसिया की पहली शिकायत के अनुसार, गांव की तीन आवासीय सोसायटियों में गुप्ता सहित कथित अवैध निर्माण के लिए पहले से कोई कोई अनुमति नहीं ली गई।

शिकायतकर्ता ने रिद्धि सिद्धि आवासीय सोसायटी में गुप्ता की दो मंजिला इमारत के अलावा एक अरुणोदयनगर सोसायटी में रामजी कुमार मौर्य द्वारा निर्मित और दूसरी नीरव कुंज सोसायटी में रवि विश्वकर्मा द्वारा निर्मित अवैध मकानों का नाम लिया।

लेकिन शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई जिसके बाद उन्होंने 1 दिसंबर को भरूच जिला कलेक्टर तुषार सुमेरा के सामने एक और आवेदन दायर किया। इसके बाद BAUDA के अधिकारियों ने 21 दिसंबर को निरीक्षण के लिए साइट का दौरा किया।

1 जनवरी, 2024 को रखसिया ने मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल को एक पत्र लिखा जिसमें उन्होंने तीनों निर्माणों के बारे में विस्तार से बताया। पत्र में उन्होंने लिखा है कि मामले में BAUDA के अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की इसलिए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

रखसिया ने उद्घाटन समारोह की तस्वीरों और वीडियो के साथ दोबारा संपर्क किया जिसके बाद मंगलवार 30 जनवरी को BAUDA टीम ने फिर से साइट का दौरा किया। उद्घाटन के लिए गांव के सरपंच और निवासियों को निमंत्रण दिया गया था।

गढ़खोल गांव की सरपंच मंजुलाबेन पटेल ने कहा कि वह उद्घाटन में शामिल नहीं हुईं, लेकिन पता चला है कि कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे। घटना की तस्वीरें और वीडियो तब से सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं।

BAUDA प्रभारी टाउन प्लानर नितिन पटेल ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि उन्होंने गुप्ता को प्लॉट के जरुरी दस्तावेज और अन्य विवरण जमा करने के लिए सात दिन का समय दिया है। उन्होंने कहा कि “प्राथमिक रूप से यह पाया गया है कि पूरी इमारत का नवीनीकरण नहीं किया गया था (जैसा कि दावा किया गया था), लेकिन नया निर्माण किया गया था। गुप्ता रिद्धि सिद्धि सोसायटी में नई बिल्डिंग के ठीक सामने एक घर में रहते हैं। यह एक आवासीय सोसायटी है और वह इस इमारत का उपयोग व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए करता है। उन्होंने दो शटर भी बनाए थे। सात दिनों के बाद गुप्ता जब जरूरी दस्तावेज सौंपेगे तब उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

इसके अलावा उन्होंने बताया कि गुप्ता ने ओझा से संरचना खरीदने के बाद 21 जनवरी, 2023 को अपनी पत्नी किरण के नाम पर बिक्री विलेख दस्तावेज तैयार किए थे। उन्होंने कहा, “बिक्री विलेख दस्तावेज़ में केवल ग्राउंड फ्लोर दिखाया गया है, लेकिन हमारी टीम को मंगलवार को ग्राउंड फ्लोर और एक मंजिल और छत पर एक मंदिर के साथ एक नवनिर्मित इमारत मिली।” उन्होंने कहा कि गुप्ता स्क्रैप गोदाम के पीछे एक आम खुली जमीन पर बेकार बोरियां रखते हैं। पटेल ने कहा, “हालांकि, इस पर कोई निर्माण गतिविधि नहीं की गई है।”

हालांकि, रखसिया ने आरोप लगाया कि अधिकारियों ने गांव में अवैध निर्माण के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि “हमने भरूच कलेक्टर तुषार सुमेरा और मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल को भी पत्र लिखा है और कार्रवाई करने की मांग की है।”

इसी बीच गुप्ता ने रखसिया पर लगातार उन्हें धमकी देने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि “मैंने छत पर मंदिर बनाया है और पीएम नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगीजी की मूर्तियां स्थापित की हैं। मेरा मानना है कि मनसुख और अन्य लोगों को यह पसंद नहीं आया। वे मुझे लगातार धमकी दे रहे हैं। मैं जिला अधिकारियों से ऐसे लोगों से मेरी रक्षा करने का अनुरोध करता हूं।”

(‘द इंडियन एक्सप्रेस’ में प्रकाशित खबर पर आधारित।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

वामपंथी हिंसा बनाम राजकीय हिंसा

सुरक्षाबलों ने बस्तर में 29 माओवादियों को मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है। चुनाव से पहले हुई इस घटना में एक जवान घायल हुआ। इस क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय माओवादी वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं और हमले करते रहे हैं। सरकार आदिवासी समूहों पर माओवादी का लेबल लगा उन पर अत्याचार कर रही है।

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।

Related Articles

वामपंथी हिंसा बनाम राजकीय हिंसा

सुरक्षाबलों ने बस्तर में 29 माओवादियों को मुठभेड़ में मारे जाने का दावा किया है। चुनाव से पहले हुई इस घटना में एक जवान घायल हुआ। इस क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय माओवादी वोटिंग का बहिष्कार कर रहे हैं और हमले करते रहे हैं। सरकार आदिवासी समूहों पर माओवादी का लेबल लगा उन पर अत्याचार कर रही है।

शिवसेना और एनसीपी को तोड़ने के बावजूद महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं

महाराष्ट्र की राजनीति में हालिया उथल-पुथल ने सामाजिक और राजनीतिक संकट को जन्म दिया है। भाजपा ने अपने रणनीतिक आक्रामकता से सहयोगी दलों को सीमित किया और 2014 से महाराष्ट्र में प्रभुत्व स्थापित किया। लोकसभा व राज्य चुनावों में सफलता के बावजूद, रणनीतिक चातुर्य के चलते राज्य में राजनीतिक विभाजन बढ़ा है, जिससे पार्टियों की आंतरिक उलझनें और सामाजिक अस्थिरता अधिक गहरी हो गई है।

केरल में ईवीएम के मॉक ड्रिल के दौरान बीजेपी को अतिरिक्त वोट की मछली चुनाव आयोग के गले में फंसी 

सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय चुनाव आयोग को केरल के कासरगोड में मॉक ड्रिल दौरान ईवीएम में खराबी के चलते भाजपा को गलत तरीके से मिले वोटों की जांच के निर्देश दिए हैं। मामले को प्रशांत भूषण ने उठाया, जिसपर कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई की और भविष्य में ईवीएम के साथ किसी भी छेड़छाड़ को रोकने हेतु कदमों की जानकारी मांगी।