Saturday, November 27, 2021

Add News

“आपरेशन वेस्ट एंड” मामले में समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली समेत दो अन्य दोषी करार

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। दिल्ली की एक सीबीआई कोर्ट ने 2001 के रक्षा सौदों से जुड़े एक मामले में समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली को सजा सुनाई है। इसके साथ ही दो और लोगों उनकी पार्टी के सहयोगी गोपाल पचरवाल और रिटायर्ड मेजर जनरल एसपी मुरगई को भी सजा सुनाई गयी है।

सीबीआई जज वीरेंद्र भट ने शुक्रवार को इसका ऐलान किया। मामला अटल बिहारी वाजपेयी के शासन के दौरान 2000 में हुए एक रक्षा सौदे से जुड़ा है। जिसका तहलका डॉट कॉम ने ‘आपरेशन वेस्ट एंड’ के नाम से स्टिंग आपरेशन किया था। हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक सीबीआई ने जेटली और दूसरों के खिलाफ 2006 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी। दरअसल इस आपरेशन के जरिये यह साबित करने की कोशिश की गयी थी कि रक्षा सौदों मे कितनी आसानी से दलाली ली और दी जा सकती है।

जज भट ने भ्रष्टाचार निरोधी एक्ट के तहत जेटली, मुरगई और पचरवाल को आपराधिक षड्यंत्र का दोषी पाया। दिलचस्प बात यह है कि ‘आपरेशन वेस्ट एंड’ में पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडिस औऱ बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण का नाम भी आया था। हालांकि बंगारू लक्ष्मण की 2014 में मौत हो गयी और जार्ज फर्नांडिस का निधन अभी पिछले साल हुआ है।

स्टिंग आपरेशन में तहलका जर्नलिस्ट मैथ्यू सैमुअल द्वारा बंगारू लक्ष्मण को पैसा देते हुए दिखाया गया था जिसे लक्ष्मण स्वीकार करते हुए दिख रहे थे।

मैथ्यू सैमुअल का कहना है कि आपराधिक षड्यंत्र का दोषी पाए जाने के बाद ही बंगारू लक्ष्मण को 2012 में गिरफ्तार किया गया था। आउटलुक के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि “हालांकि बंगारू को सजा और फिर हुई जेल से मुझे खुशी और गम का मिला जुला एहसास हुआ था। यह रक्षा सौदों में घोटालों और भ्रष्टाचार का दौर था मेरी इस सोच पर मुहर लग गयी है। लेकिन साथ ही सीबीआई द्वारा मुकदमे को तेजी से निपटाने के क्रम में बीजेपी के दलित आइकन से ज्यादा पूछताछ को लेकर मैं परेशान भी था। जबकि इस मामले में शामिल दूसरे प्रभावशाली लोग मसलन जया जेटली, आरके गुप्ता, आरके जैन समेत दूसरों के साथ ऐसा नहीं किया गया।“

दिलचस्प बात यह है कि उस समय बंगारू लक्ष्मण के पास उनका एक समर्थक था जो मौजूदा समय में देश के हैं। द वायर ने सीबीआई कोर्ट को कोट करते हुए लिखा है कि “कोविंद ने कोर्ट के सामने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि वह बंगारू लक्ष्मण को 20 साल से जानते हैं। उन्होंने सीधे कहा कि बंगारू लक्ष्मण बिल्कुल सीधा सोचने वाले, सहज और ईमानदार शख्स हैं, जो भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष बने।”

यहां तक कि जेटली और दूसरों के मुकाबले आउटलुक के तत्कालीन संपादक विनोद मेहता लक्ष्मण के प्रति सहानुभूति रखते थे। उन्होंने एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि बंगारू लक्ष्मण को फंसा दिया गया था।

जेटली और फर्नांडिस की भूमिका

जैसा कि मैथ्यू सैमुअल ने कहा कि “जेटली भी टेप में (पैसा) स्वीकार करते हुए देखी गयी थीं। लेकिन स्टिंग दिखाए जाने के तुरंत बाद वह देश से गायब हो गयीं और न्यूज चैनल पर बहुत बाद में ये कहते हुए लौटीं कि उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया था और वह इस्तीफा नहीं देंगी। हालांकि जेटली संयोग से बाहर हो गयी थीं और उसके कुछ दिनों बाद जार्ज फर्नांडिस को भी जसवंत ने रिप्लेस कर दिया था। साथ ही इसमें बीजेपी के कुछ वरिष्ठ नेता भी शामिल थे। जिनके साथ ऐसा किया गया था।”

हालांकि स्कैंडल में फर्नांडिस का नाम आने के बाद उनके खिलाफ जस्टिस फूकन के नेतृत्व में एक सदस्यीय जांच आयोग बैठाया गया था जिसने उनका नाम क्लीयर कर दिया। फूकन कमेटी की रिपोर्ट को कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने खारिज कर दिया था। इसके साथ ही जस्टिस वेंकटस्वामी के नेतृत्व में एक नई कमेटी गठित कर दी गयी थी। कमेटी ने पूरे मामले की गहराई से जांच की। लेकिन रिपोर्ट पेश करने से पहले ही जस्टिस वेंकटस्वामी ने इस्तीफा दे दिया।

इस स्टिंग आपरेशन की देश की इलेक्ट्रानिक मीडिया में बहुत चर्चा हुई थी। 

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

भारत को बनाया जा रहा है पाब्लो एस्कोबार का कोलंबिया

➤मुंबई में पकड़ी गई 1000 करोड़ रुपये की ड्रग्स, अफगानिस्तान से लाई गई थी हेरोइन (10 अगस्त, 2020) ➤DRI ने...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -