Wednesday, June 7, 2023

जहरबुझे बयान के लिए बीजेपी सांसद वर्मा पर फिर लगी पाबंदी

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आतंकवादी करार देने के मामले में चुनाव आयोग ने बीजेपी सांसद परवेश साहिब वर्मा पर एक बार फिर 24 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। वर्मा ने टीवी चैनल सीएनन टीवी 18 से बातचीत में केजरीवाल को आतंकी बताया था। हालांकि वर्मा ने बाद में इससे इंकार कर दिया था। उनका कहना था कि वीडियो सही तस्वीर को नहीं पेश करता है। लेकिन आयोग का कहना था कि वह इस बात को लेकर निश्चित है कि उन्होंने केजरीवाल पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी जो चुनाव आचार संहिता के पार्ट-1 के क्लाज-2 का खुला उल्लंघन है।

यह दूसरा मौका है जब बीजेपी से पश्चिमी दिल्ली के सांसद वर्मा के खिलाफ पाबंदी लगी है। इसके पहले उन पर 96 घंटे के लिए चुनाव प्रचार पर पाबंदी लगी थी। उस समय उन्होंने बेहद आपत्तिजनक बयान दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि एक दिन शाहीन बाग के लोग हिंदुओं के घरों में घुसकर उनकी बहन-बेटियों के साथ बलात्कार करेंगे।

चुनाव आयोग की 24 घंटे की यह पाबंदी आज शाम 6.00 बजे से शुरू हो रही है।

इसके पहले आज एक बार फिर शाहीन बाग चर्चे में रहा। जब लखनऊ की गुंजा कपूर नाम की महिला बुर्का पहनकर धरने में चली गयी। धरने में बैठी स्थानीय महिलाओं ने उसे पहचान लिया और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। लोगों ने बताया कि उसने अपने साथ कैमरा भी लिया हुआ था। जब महिलाओं ने उससे वहां आने के कारणों के बारे में पूछा तो उसने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया।

गुंजा कपूर खुद को अपने ट्विटर प्रोफाइल में राजनीतिक विश्लेषक बताती है। साथ ही बताया जा रहा है कि पीएम मोदी ट्विटर पर उसे फालो करते हैं। टीवी चैनलों में होने वाली बहसों में वह राजनीतिक विश्लेषक के तौर पर हिस्सा लेती है। और इसमें हमेशा बीजेपी के पक्ष में बोलती है।

शाहीन बाग आंदोलन के खिलाफ साजिशों का सिलसिला है कि थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। दो दिन पहले फायरिंग करने के बाद गिरफ्तार कपिल गुर्जर के आम आदमी पार्टी से जुड़े होने की खबर आज दिन भर चर्चे में रही। बाद में जब खुद उसके पिता ने मीडिया के सामने आकर बताया कि उसका आम आदमी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है। बल्कि उल्टे उनका कहना था कि वह पीएम मोदी और अमित शाह का सेवक है। तब इस मामले में नया ट्विस्ट आ गया।

बीती रात शाहीन बाग से जुड़ा एक और मामला सामने आया। जिसमें बताया जा रहा है कि पंजाब किसान यूनियन के सैकड़ों लोग आंदोलनकारियों से अपनी एकजुटता जाहिर करने के लिए शाहीन बाग जा रहे थे। तभी जसोला के पास उनकी बसों को रोक लिया गया। और बताया जाता है कि काफिले में शामिल तीन बसों को गुरुद्वारा बांग्ला साहिब भेज दिया गया। इस बीच उनके जत्थे के कुछ लोग जब शाहीन बाग पहुंचे तो पहले उन्हें पता ही नहीं चल पाया कि उन्हें कहां ले जाया गया है। और जिन लोगों ने उन्हें रोका वे पुलिस वाले थे या फिर खाकी पहने आरएसएस के स्वयंसेवक। बहरहाल सुबह पता चला कि सभी को गुरुद्वारा बांग्ला साहिब ले जाया गया है। बाद में वहां से एक वीडियो सामने आया जिसमें उनके नेताओं को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वो शाहीन बाग जाकर रहेंगे। और सरकार उनको ऐसा करने से कत्तई नहीं रोक सकती है। 

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

Related Articles